न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

प्रदीप यादव और बंधु तिर्की कांग्रेस में शामिल, जेवीएम के बीजेपी में विलय का रास्ता साफ

1,980

Ranchi: झारखंड मे लोहरदगा और चाईबासा के घटनाक्रम के बाद राजनीतिक सरगर्मियां और बढ़ गयी हैं. जेवीएम का बीजेपी में विलय होने की खबर अब पुख्ता हो गयी है.

जेवीएम के मांडर विधायक बंधु तिर्की और पोड़ैयाहाट के विधायक प्रदीप यादव ने गुरुवार देर शाम कांग्रेस आलाकमान सोनिया गांधी और राहुल गांधी से मुलाकात की जिसके बाद ये साफ हो गया है कि जेवीएम के टिकट से जीते हुए दोनों विधायक कांग्रेस में शामिल हो गये हैं.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

इससे पहले मांडर विधायक बंधु तिर्की को जेवीएम सुप्रीमो बाबूलाल मरांडी ने पार्टी से बाहर कर दिया था. कयास लगाये जा रहे थे प्रदीप यादव को भी पार्टी विरोधी बयान की वजह से बाहर किया जायेगा.

इस बीच बंधु तिर्की और प्रदीप यादव ने अपने राजनीतिक जीवन के लिए नया रास्ता खोज लिया और दिल्ली जाकर राहुल और सोनिया से मिले. वायरल तस्वीर यह साफ बयां कर रही है कि बंधु और प्रदीप यादव ने कांग्रेस ज्वाइन कर लिया है.

इसे भी पढ़ें : रद्द हो सकती है छठी सिविल सेवा परीक्षा!

झाविमो के भाजपा में विलय की बाधाएं खत्म

राजनीतिक हलकों में देखा जाये तो बंधु तिर्की और प्रदीप यादव के कांग्रेस में जाने से जेवीएम का बीजेपी में विलय तय हो गया. बाबूलाल मरांडी को भी अब इन दोनों से विरोध का सामना नहीं करना पड़ेगा.

राजनीतिक गलियारों में ये चर्चा है कि यह मैच फिक्सिंग थी. पहले जेवीएम सुप्रीमों बाबूलाल मरांडी ने कार्यसमिति को भंग किया. अपने अलावे दोनों विधायकों को पार्टी में किसी भी पद से विमुक्त किया, उसके बाद बंधु तिर्की को पार्टी से बाहर किया.

बंधु के बाहर होने के बाद प्रदीप यादव पार्टी विरोधी बात कर रहे थे, जो कि एक प्लान का हिस्सा हो सकता है. अब दोनों विधायकों के कांग्रेस में जाने से सारी चीजें तय हो गयी हैं. जेवीएम का बीजेपी में विलय होना तय है और इन दोनों विधायकों का कांग्रेस से जुड़ना भी.

इसे भी पढ़ें : #Lohardaga: कर्फ्यू के बाद सीआरपीएफ तैनात, स्थिति तनावपूर्ण

मंत्रिमंडल पर पड़ सकता है असर 

बंधु तिर्की के कांग्रेस ज्वाइन करने के बाद कांग्रेस और झामुमो में मंत्रिमंडल को लेकर एक नयी बहस शुरू हो गयी है. हेमंत सोरेन के मंत्रिमंडल के गठन में हो रही देरी को बंधु तिर्की के कांग्रेस ज्वाइन करने की घटना से जोड़कर देखा जा रहा है.

खबर है कि बंधु के कांग्रेस में जाने के बाद उन्हें मंत्रिमंडल में शामिल किया जा सकता है और इस पर प्रदीप यादव की भी रजामंदी है.

राजेंद्र सिंह या बादल पत्रलेख के मंत्रिमंडल में शामिल होने की चर्चा सरकार गठन के बाद से ही हो रही थी लेकिन अब राजनीतिक समीकरण बदल गया है.

इसे भी पढ़ें : #Chaibasa की घटना से मर्माहत सीएम ने राज्यपाल से कैबिनेट विस्तार रद्द करने का आग्रह किया

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like