न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

कभी उत्कृष्ट विधायक का सम्मान पाने वाले प्रदीप यादव अब गिरफ्तारी के डर से चल रहे हैं फरार

815

Ranchi: कभी उत्कृष्ट विधायक का सम्मान पाने वाले विधायक प्रदीप यादव अब गिरफ्तारी के डर से फरार चल रहे हैं. प्रदीप यादव पर उनकी ही पार्टी की महिला नेत्री रिंकी झा ने यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया है. जिसमें वह दोषी पाये गये हैं. वहीं दोषी पाये जाने के बाद से प्रदीप यादव गायब हैं.

कोर्ट ने महिला नेत्री के साथ यौन शोषण के आरोपित विधायक प्रदीप यादव की अग्रिम जमानत याचिका खारिज कर दी गयी है. इस मामले में कोर्ट ने माना कि इनके खिलाफ पर्याप्त सबूत है.

गौरतलब है कि वर्ष 2015 में झारखंड विधानसभा का 16 वां स्थापना दिवस के अवसर पर विधायक प्रदीप यादव को उत्कृष्ट विधायक के सम्मान से नवाजा गया था.

इसे भी पढ़ें- पूर्व DGP डीके पांडेय की पत्नी के जमीन मामले की समीक्षा करेंगे आयुक्त

गिरफ्तारी वारंट जारी होने के बाद से चल रहे हैं फरार

प्रदीप यादव अब तक पुलिस की गिरफ्त से बाहर हैं. जेवीएम विधायक प्रदीप यादव अंडरग्राउंड हो गए हैं. उनकी गिरफ्तारी के लिए पुलिस लगातार छापेमारी कर रही है. लेकिन फिर भी प्रदीप यादव का कोई सुराग नहीं मिल रहा है.

विधायक की गिरफ्तारी के लिए पुलिस ने रांची और गोड्डा आवास सहित कई संभावित जगहों पर भी छापेमारी की, लेकिन पुलिस को कोई सफलता हाथ नहीं लगी. इसके लिए एसआईटी का गठन भी किया गया है ताकि जल्द से जल्द प्रदीप यादव को गिरफ्तार किया जा सके.

प्रदीप यादव की जमानत याचिका भी खारिज

झारखंड हाइकोर्ट ने यौन उत्पीड़न के आरोपी झाविमो विधायक प्रदीप यादव की अग्रिम जमानत याचिका को खारिज कर दिया था.

जज अनिल कुमार चौधरी की कोर्ट ने 16 जुलाई को विधायक की याचिका को खारिज किया था. विधायक ने अपनी गिरफ्तारी से बचने के लिए एक जुलाई को झारखंड हाइकोर्ट में अग्रिम जमानत याचिका दायर की थी.

SMILE

इसे भी पढ़ें- कश्मीर में अशांति फैलाने के लिये यासीन मलिक ने ISI से लिए पैसे: NIA

पुलिस जांच में दोषी पाए गए प्रदीप यादव

प्रदीप यादव को पुलिस जांच में दोषी पाया गया है. केस की अनुसंधानकर्ता साइबर डीएसपी नेहा बाला की रिपोर्ट से इस बात का खुलासा हुआ है.

पुलिस की जांच में प्रदीप यादव के खिलाफ आईपीसी की धारा 354, 354ए, 354बी, 354डी, 506 और 509 में मामला सत्य पाया गया है.

प्रदीप यादव के पास अब ये हैं विकल्प

हाई कोर्ट से अग्रिम जमानत याचिका खारिज होने के बाद प्रदीप यादव के पास कई विकल्प हैं. कानूनी जानकारों के अनुसार हाइकोर्ट के आदेश के खिलाफ प्रदीप यादव सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दाखिल कर सकते हैं और जमानत की गुहार लगा सकते हैं.

या फिर उन्हें निचली अदालत में सरेंडर करना होगा. जहां वह नियमित जमानत की अर्जी दाखिल कर सकते हैं. फिलहाल उम्मीद जतायी जा रही है कि प्रदीप यादव निचली अदालत में सरेंडर कर सकते हैं.

इसे भी पढ़ें- अलविदा शीला दीक्षित: निगम बोध घाट पर होगा अंतिम संस्कार

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: