न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

मानव तस्करी की आरोपी प्रभा मिंज मुनि रांची लायी गयी, पुलिस ले गयी सिमडेगा

प्रभा मुनि अपनी गिरफ्तारी से काफी बौखलायी हुई थी, मीडिया कर्मी के कैमरे को तोड़ने की कोशिश की

441

Ranchi : मानव तस्करी के आरोप में गिरफ्तार प्रभा मिंज मुनि को गुरुवार को राजधानी एक्सप्रेस से 10:30 बजे दिल्ली से रांची लाया गया. उसके बाद सिमडेगा पुलिस की टीम उसे अपने साथ सिमडेगा ले गयी. बता दें कि प्रभा मिंज मुनी को 23 सितंबर की शाम दिल्ली के टैगोर गार्डेन से एटीएस ने गिरफ्तार किया था. उस पर सैकड़ों युवतियों को बहला फुसलाकर अपने साथ ले जाकर महानगरों में बेचने का आरोप है. इसी मामले में पूछताछ के लिए सिमडेगा पुलिस उसे ले गयी. रांची रेलवे स्टेशन पर जब मीडियाकर्मी प्रभा मिंज मुनि का फोटो ले रहे थे, उस दौरान प्रभा ने एक मीडिया कर्मी के कैमरे में हाथ मारते हुए कैमरे को तोड़ने की कोशिश की.  प्रभा मुनि अपनी गिरफ्तारी से काफी बौखलायी हुई थी. सिमडेगा इलाके में मानव तस्करी का काम वह कई सालों से कर रही थी. आरोप है कि वह अच्छी नौकरी का लालच देकर लड़कियों को अपने साथ दिल्ली ले जाकर उन्हें बेच देती थी.

इसे भी पढ़ें- लोकमंथन कार्यक्रम में मुख्य अतिथि उपराष्ट्रपति, अध्यक्ष मुख्यमंत्री, राज्यपाल अतिथि तक नहीं

  प्रभा मिंज मुनि दिल्ली में अपनी पहचान छुपा कर रह रही थी

मिली जानकारी के अनुसार प्रभा मिंज मुनि दिल्ली में अपनी पहचान छुपा कर रह रही थी. जिसकी सूचना दिल्ली पुलिस को मिली. दिल्ली पुलिस और एटीएस के नेतृत्व में एक टीम का गठन किया गया. इसके बाद 23 सितंबर को देर शाम उसे गिरफ्तार कर लिया गया. प्रभा पर   सिमडेगा की सैकड़ों लड़कियों को दिल्ली के साकेत नगर, नोएडा के मानसा, संगरूर, मलेर कोटला, नवाशहर व लुधियाना आदि जगहों पर बेचने का आरोप है. बताया गया है कि झारखंड की जिन भोली भाली बच्चियों को बहला फुसलाकर प्रभा मिंज ने महानगरों में बेच दिया, उनमें से कोई लौट कर वापस नहीं आ सकी हैं.

इसे भी पढ़ें- ‘इंफ्रास्ट्रक्चर लीजिंग एंड फाइनेंशियन सर्विसेस लिमिटेड’ की तेजी से बिगड़ती वित्तीय स्थिति

 प्रभा मिंज मुनि के जाल में नौकरी के झांसे में फंस रही थीं युवतियां

प्रभा मिंज मुनि आदिवासी बहुल इलाकों की अशिक्षित या कम पढ़ी-लिखी किशोरी, युवतियों को प्लेसमेंट एजेंसियां के माध्यम से रोजगार दिलाने के नाम पर बड़े शहरों  की राह दिखाती थीं.  गरीबी की मार झेल रही ये युवतियां प्रलोभन में पड़ कर झांसे में आकर प्रभा मिंज जैसे बिचौलिए व अन्य असामाजिक तत्वों के चंगुल में फंस जाती थी. बता दें कि झारखंड में मानव तस्करी के पांव बड़े इलाके में पसरे हुए हैं. इसका सबसे ज्यादा असर झारखंड, बिहार और पश्चिम बंगाल जैसे राज्यों में पड़ रहा है. मानव तस्करी का मुख्य उद्देश्य यौन शोषण व बंधुआ मजदूरी कराना है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.


हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: