न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इमरान को झटका, नवाज शरीफ और बिलावल भुट्टो की पार्टी ने मिलाया हाथ

पीएमएल-एन और पीपीपी को मिलाकर हैं 107 सांसद, इमरान की पार्टी के 115

1,916

Islamabad: पाकिस्तान की राजनीति दिलचस्प मोड़ पर पहुंच गई है. पाकिस्तानी अखबार डॉन ने लिखा है कि सोमवार को हुए घटनाक्रम में नवाज शरीफ की पार्टी पीएमएल एन (PML-N) ने बिलावल भुट्टो की पार्टी पीपीपी के साथ हाथ मिला लिया है. नवाज शरीफ की पीएमएल एन को 64 सीटों पर जीत हासिल हुई है, जबकि पीपीपी को 43 सीटों पर जीत मिली है.

इसे भी पढ़ें-पहाड़ी मंदिर : रांची प्रशासन और समिति के बीच हुआ विवाद, उर्मिला कंस्ट्रक्शन ने उठाया फायदा

पीपीपी और पीएमएल एन के गठबंधन के बाद क्या हैं आंकड़े

पीएमएल एन और पीपीपी को मिलाकर 107 सांसद होते हैं. जबकि इमरान खान की पार्टी ने 115 सीटों पर जीत हासिल की है. इमरान खुद पांच सीटों पर चुनाव लड़कर जीते हैं. पाकिस्तान में कोई एक ही सीट से सांसद रह सकता है, बाकि की सीट उसे खाली करनी होती है. इमरान खान को चार सीटें खाली करनी होगी. इसके अलावा इमरान खान की पार्टी पाकिस्तान तहरीक-ए-इंसाफ के दो नेता तीन-तीन सीटों पर चुनाव जीतकर संसद पहुंचे हैं. सीटें छोड़ने के बाद इमरान की पार्टी 107 सांसद बचते हैं. ऐसे में ये देखना दिलचस्प होगा कि 107 सीट वाला विपक्ष का गठबंधन बहुमत साबित करता है या इतने ही सीट वाली पीटीआई. बहुमत के लिए 137 सांसदों की जरुरत है. दोनों को बहुमत के लिए 30-30 सांसदों का जुगाड़ करना है.

इसे भी पढ़ें-एनआरसी ड्राफ्ट से 40 लाख बाहर होने पर संसद में घमासान, बोले राजनाथ- ड्राफ्ट अंतिम नहीं है  

फजलुर रहमान की पार्टी और निर्दलीय सांसदों की भूमिका महत्वपूर्ण

मौलाना फजलुर रहमान की पार्टी एमएमए (MMA) के पास 12 सीटें हैं. फिलहाल फजलुर रहमान ने चुनाव परिणाम के बहिष्कार की घोषणा की है. लेकिन पीपीपी नेता शेरी रहमान का कहना है कि वे मौलाना साहब से समर्थन की गुजारिश करेंगी.  चुनाव परिणाम के बहिष्कार का मतलब होगा इमरान खान की पीटीआई को वॉक ओवर देना. फजलुर रहमान साहब ऐसा कभी नहीं चाहेंगे.

इसे भी पढ़ेंःअसम: NCR का फाइनल ड्राफ्टी जारी, लिस्ट में 40 लाख लोगों के नाम नहीं

palamu_12

फजलुर रहमान ने विपक्षी गठबंधन को समर्थन देने के संकेत दिए

एक बात जो महत्वपूर्ण है वो ये है कि जिस बैठक के बाद फजलुर रहमान ने चुनाव परिणामों के बहिष्कार की घोषणा की उस बैठक में नवाज शरीफ के भाई शहबाज शरीफ और पीपीपी के नेता भी मौजूद थे. फजलुर रहमान ने भी विपक्षी गठबंधन को समर्थन देने के संकेत दिए हैं. अगर फजलुर रहमान ने विपक्षी गठबंधन को समर्थन देने का फैसला किया तो गठबंधन के पास 119 सांसद हो जाएंगे. लेकिन विपक्षी गठबंधन में भी दो नेता ऐसे हैं जिन्हे अपनी एक-एक सीट खाली करनी होगी. इस तरह विपक्ष का कैल्कुलेशन भी 117 का ही बैठता है.

इसे भी पढ़ें-इमरान के इरादे और उनके समक्ष चुनौतियां

कैसे होगा बहुमत का जुगाड़ ?

पाकिस्तान के राजनीतिक एक्सपर्ट्स का कहना है कि सरकार तो इमरान खान ही बनाएंगे क्योंकि उनके पीछे सेना की ताकत है. लेकिन विपक्षी गठबंधन होने के कारण उनके लिए सरकार चलाना मुश्किल हो जाएगा. 2002 में भी नवाज शरीफ और बेनजीर भुट्टो की पार्टी ने हाथ मिलाया था. उस वक्त परवेज मुशर्रफ का शासन था और मुशर्रफ ने जफरुल्लाह जमाली को प्रधानमंत्री बनवाया था. जफरुल्लाह जमाली के शासनकाल में एक वर्ष तक सदन का कामकाज बाधित रहा था, और सरकार कोई काम नहीं कर पाई. राजनीतिक जानकार कहते हैं कि इमरान खान के लिए ऐसे में काम करना बेहद मुश्किल भरा हो सकता है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

 

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: