DhanbadJharkhand

नियमों को ताक पर रखकर संवेदक बिछा रहे पेवर ब्लॉक ईंट, खोले जा रहे हैं खटाल

विज्ञापन

 Dhanbad : नगर निगम जनता के पैसे का किस तरह दुरुपयोग कर रहा है, इसका अंदाजा नहीं लगाया जा सकता. लोगों की मानें तो खुलेआम पैसों की बर्बादी संवेदकों के द्वारा की जा रही है. अधिकारी इस मामले को नजरअंदाज करते दिख रहे हैं. बता दें कि निगम की ओर से वार्ड संख्या 36 में झरिया स्टेशन रोड स्थित बलियापुर मुख्य मार्ग पर पेवर ब्लॉक ईट बिछाने का कार्य चल रहा है. संवेदकों के द्वारा कहीं 10 फीट तो कहीं 40 फीट में ब्लॉक बिछाये जा रहे है. इस कारण्ध सड़क का पानी रोड पर जमा हो रहा है और राहगीरों को भारी  परेशानी हो रही है.

लेकिन जैसे-जैसे पेवर ब्लॉक बिछते जा रहे हैं, वैसे वैसे उक्त स्थान पर गाय व भैंस बांधते हुए खटाल का रूप लोग देते आ रहे हैं. संवेदक भी इसे नजरअंदाज कर रहे हैं क्योंकि वे नियमों को ताक पर रखकर अपने मन मुताबिक कार्य कर रहे हैं, जिसे देखने के लिए कोई अधिकारी भी नहीं है.

इसे भी पढ़ें- सेवानिवृत्त कर्मचारियों की पुनः नियुक्ति पर रोक लगाने को लेकर मेयर ने सीएम को लिखा पत्र

बालू की जगह पत्थर डस्ट बिछाई जा रही है

स्थानीय लोगों ने कहा कि पेवर ब्लॉक बिछाने के पहले नीचे 2 इंच बालू बिछाना है.  दो इंच बालू तो दूर की बात है, अधिकांश स्थानों पर बालू की जगह पत्थर डस्ट बिछाई जा रही है वह भी ना के बराबर. सिर्फ डस्ट डालकर उसे बराबर कर दिया जा रहा है.  ईंट बिछाने के बाद ऊपर से बालू छींट दिया जा रहा है, ताकि जांच हो तो लगे कि पेवर ब्लॉक सड़क पर अच्छी तरह से बिछाई गयी है. वयह सब देख स्थानीय लोगों ने इसका विरोध करना शुरु कर दिया और संवेदक के खिलाफ मोर्चा खोलते हुए पार्षद को स्थिति से अवगत कराया. लेकिन पार्षद सुमन अग्रवाल ने कहा कि पेवर ब्लॉक ईट बिछाने का कार्य अच्छी तरह से चल रहा है.

अगर कहीं कमियां है, तो उसे दूर किया जायेगा.  गुणवत्ता से खिलवाड़ नहीं होगा. यह कहकर पार्षद ने पल्ला झाड़ लिया. इसका कोई असर संवेदक पर नहीं हुआ. इसके बाद इसकी शिकायत स्थानीय लोगों ने कनीय अभियंता से की, तो अभियंता दीपक पंडित ने कहा कि  डस्ट बिछाने की शिकायत मिली थी, मैंने संवेदक को बालू बिछाने के लिए कहा था, इसकी जानकारी मैंने वरीय अधिकारी को दे दी है.

इसे भी पढ़ें- मृत्यु प्रमाणपत्र के लिए हिंदी में आवेदन नहीं लेता RMC, यह राष्ट्रभाषा का अपमान है, हिंदी में भी लें…

 निगम आयुक्त से स्थानीय लोगों ने की शिकायत

पार्षद व कनीय अभियंता से शिकायत करने के बावजूद कोई पहल ना होते देख लोगों ने इसकी शिकायत नगर आयुक्त से लिखित रूप में की. आवेदन मिलने के बाद नगर आयुक्त ने इस मामले पर जांच करने की बात कही, उन्होंने कहा कि जांचोपरांत में जो भी दोषी पाये जायेंगे तो उनपर कानूनी कार्रवाई की जायेगी.  बता दें कि अगर जांच हुई तो संवेदक के साथ-साथ अभियंताओं की भी गर्दन फंस सकती है.

  न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close