न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

तेजस्वी की यात्रा पर पोस्टर विवाद, रेप केस में आरोपी MLA राजबल्लभ के साथ लगा पोस्टर

15

Patna: राजद नेता  और लालू याजव के छोटे बेटे तेजस्वी यादव की ‘संविधान बचाओ यात्रा’ के दौरान उनके नवादा जिला यात्रा को लेकर लगाए कुछ पोस्टरों पर विवाद पैदा हो गया है. दरअसल, इन पोस्टरों में उन्हें स्थानीय विधायक राज वल्लभ यादव के साथ दिखाया गया है जो एक नाबालिग लड़की से बलात्कार के आरोप में जेल में कैद हैं.

इसे भी पढ़ेंःपीएम मोदी का लेखः ‘स्टैच्यू ऑफ यूनिटी’ भारतवासियों के दिलों…

जेडीयू ने उठाये सवाल

पूरे मामले को लेकर जेडीयू ने राजद को आड़े हाथों लिया है. बिहार विधान परिषद सदस्य और जदयू प्रवक्ता नीरज कुमार ने राजद उपाध्यक्ष और तेजस्वी की मां राबड़ी देवी के नाम खुला पत्र लिखते हुए उनसे पूछा है ‘क्या दुष्कर्म के आरोपी को राजनीतिक सम्मान जरूरी है?’ कुमार ने कहा है कि उन्होंने राबड़ी से कहा कि वह एक महिला ही नहीं, एक मां और पत्नी होने के साथ-साथ बिहार की पूर्व मुख्यमंत्री भी हैं. आप जहां एक महिला का दर्द समझती होंगी, वहीं राजनीति की बारीकियों से भी परिचित होंगी. ऐसी परिस्थिति में क्या दुष्कर्म के आरोपी को राजनीतिक सम्मान दिया जाना जरूरी है?

इसे भी पढ़ेंःCBI विवादः अपने ट्रांसफर के खिलाफ SC पहुंचे एके बस्सी, अस्थाना घूसकांड की SIT जांच की मांग

वहीं, तेजस्वी ने राजवल्लभ प्रसाद वाले पोस्टर पर सफाई देते हुए कहा कि कार्यकर्ताओं ने उत्साह में अगर कोई पोस्टर लगा दिया है तो मैं उसे उतार नहीं सकता. नवादा में पत्रकारों से बातचीत करते हुए तेजस्वी ने कहा कि राजवल्लभ प्रसाद पर आरोप लगा है. कोर्ट में मामला चल रहा है.

palamu_12

सुशील मोदी ने साधा निशाना

इधर सीवान यात्रा के दौरान तेजस्वी के अपनी पार्टी के पूर्व सांसद  और बिहार के बाहुबली नेता रहे मोहम्मद शहाबुद्दीन के घर जाकर उनके परिवार के सदस्यों से मिलने पर उपमुख्यमंत्री एवं भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील कुमार मोदी ने भी उन्हें आड़े हाथ लिया. सुशील ने कहा कि कथित न्याय यात्रा के दौरान तेजस्वी यादव ने तीहरे हत्याकांड के गुनहगार शहाबुद्दीन के परिवार से भेंट की. उस पीड़ित पिता से नहीं मिले, जिसके जवान बेटे की हत्या कर दी गई थी.

इसे भी पढ़ेंःझारखंड में आज से रजिस्ट्री बंद, IT Solution का सरकार के साथ करार…

ज्ञात हो कि डबल मर्डर केस में शहाबुद्दीन वर्तमान में दिल्ली के तिहाड़ जेल में बंद हैं. वही मंगलवार को सुप्रीम कोर्ट ने भी उनकी उम्रकैद की सजा को बरकरार रखा है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: