न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

दमा जैसी बीमारी का इलाज संभव, तीन साल शोध के बाद राजेश ने बनाई दवा

कई तरह की बीमारियों से संबधित औषधियां भी उपलब्ध है.

164

Ranchi : रांची से 43 किमी दूर चान्हो निवासी राजेश कुमार मिश्रा का पारिवारिक पेशा ही वैद्यगिरी था. बचपन से ही इन्हे अपने पिता से औषधि विज्ञान की जानकारी मिलती रहती थी. पिता के ज्ञान और अपनी जिज्ञासा से इन्होंने कुछ ऐसा कर दिया, जो शायद किसी जादू से कम नहीं. दमा को एक से डेढ़ माह में जड़ से खत्म करने का नुस्खा बना डाला. रांची डाल्टेनगंज मार्ग स्थित चान्हो में इनका एक ढाबा भी है, जो पंजाबी ढाबा के नाम से जाना जाता है. इनके इस ढाबे में भोजन के साथ लोगों को औषधियां भी मिलती है. इनके पास कई तरह की बीमारियों से संबधित औषधियां भी उपलब्ध है.

इसे भी पढ़ें : IAS का दबदबा, तीन इंजीनियर इन चीफ, 25 चीफ इंजीनियर दरकिनार, बिजली बोर्ड में CMD का है पॉलिटिकल पोस्ट

बिरहोर महिला ने औषधि की दी जानकारी

राजेश ने बताया कि बूढ़ी बिरहोर महिला ने दमा की औषधि के बारे में बताया. महिला अपनी बेटी के इलाज के लिये राजेश के पास आयी थी, लेकिन दवाई के लिये पैसे कम होने के कारण उसने राजेश को जड़ी बूटी से दमा की औषधि बनाने की जानकारी दी.

राजेश ने बताया कि बिरहोर महिला ने औषधि की जानकारी तो दे दी लेकिन इसमें कई खामियां थी. जैसे किसी को दस्त, तो किसी को खुजली आदि की समस्या होती थी. ऐसे में इन्होंने उन्हीं जड़ी बूटियों में तीन साल तक शोध किया. जिसमें कुछ बायोकेमिकल आदि भी मिलाया, फिर से इन्होंने लगभग 60 लोगों पर प्रयोग किया. जिसके बाद इन्होंने दमा निवारण के लिये लोगों को औषधि देनी शुरू की.

इसे भी पढ़ें : दुनियाभर में अगले 48 घंटों तक इंटरनेट शटडाउन रह सकता है,  मेंटनेंस कार्य होगा : रिपोर्ट

डेढ़ माह में दमा खत्म

palamu_12

इन्होंने बताया कि दुनिया भर में दमा को जड़ से खत्म करने की कोई सटीक दवाई नहीं है, लेकिन इनकी बनाई औषधि से दमा को एक से डेढ़ माह में खत्म हो जाती है. इसके लिये मरीजों को कुछ परहेज भी करना होता है. इन्होंने बताया कि एलोपैथी से दमा तो दूर होता नहीं, लेकिन इंसान की उम्र जरूर कम हो जाती है, लेकिन इनकी बनाई औषधि से इंसान को किसी तरह की परेशानी नहीं होती. इन्होंने लगभग 300 लोगों को दमा मुक्त किया है.

इसे भी पढ़ें : दीवार से टकराया एयर इंडिया का विमान, बाल-बाल बचे 136 यात्री

मंत्रियों को लिख चुके है पत्र

राजेश ने बताया कि दमा पीड़ित कितना भी एलोपैथी दवाई खा ले लेकिन कोई भी दवाई दमा को जड़ से खत्म नहीं कर सकता. न ही मरीज को राहत दे सकता है. ऐसे में इनकी बनाई औषधि दमा को खत्म करने में कारगर है. अपने औषधि को देश विदेश में पहचान दिलाने के लिये प्रधानमंत्री मोदी से लेकर राज्य और केंद्र स्तर के कई मंत्रियों को पत्र लिख चुके है. लेकिन किसी भी पत्र का इनके पास जवाब नहीं आया. ये चाहते है ऐसी दवाई को देश के साथ विदेशों में भी लोग जाने, जिससे दमा जड़ से खत्म हो जायें.

इसे भी पढ़ें : अदालतों में तीन करोड़ से ज्यादा मुकदमे लंबित,  सीजेआई का कड़वा डोज, वर्किंग डे पर नो लीव…  

दमा के साथ साथ लिकोरिया, शराब छुड़ाने की दवाई, लकवा, नसों के दर्द, साईटिका, पेट संबधी अनके रोग समेत अन्य बीमारियों के इलाज इनके पास है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: