JharkhandRanchi

समीक्षा बैठक में खुल जाएगी पोल, इसलिए नहीं आ रहे निगम के अधिकारी: मेयर

Ranchi: रांची नगर निगम में डॉ मेयर आशा लकड़ा ने शनिवार को शहर की सफाई व्यवस्था को लेकर अधिकारियों की बैठक बुलाई थी. मेयर काफी देर तक अधिकारियों का अपने चैंबर में इंतजार करती रहीं लेकिन कोई भी अधिकारी नहीं आये. वहीं कॉल करने पर फील्ड विजिट पर होने की बात सभी नहीं कही.

इसके बाद मेयर ने प्रेस कांफ्रेंस की. उन्होंने कहा कि अधिकारी सिर्फ कागजों पर सफाई दर्शाकर निजी एजेंसियों को फायदा पहुंचा रहे हैं. अधिकारी अपनी गलतियों के लिए बैठक से दूर भाग रहे हैं.

उन्हें इस बात का डर है कि समीक्षा बैठक में उनकी पोल खुल जाएगी. साथ ही कहा कि वर्तमान नगर आयुक्त की कार्यशैली शुरू से ही संदिग्ध रही है. उन्होंने कभी भी मेयर के निर्देशों का पालन नहीं किया.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें :538 दिन बाद कोरोना प्रोटोकॉल के साथ 5 पुरोहित करेंगे गंगा आरती

The Royal’s
Pitambara
Sanjeevani
Pushpanjali

अधिकारी बना रहे है बहाना

मेयर ने कहा कि नगर आयुक्त न तो किसी विषय की जानकारी देना चाहते हैं और न ही आम लोगों की समस्या का समाधान. उन्होंने कहा कि बैठक की सूचना पूर्व में नगर आयुक्त समेत संबंधित अधिकारियों को दी गई थी.

इसके बावजूद निर्धारित समय पर यह जानकारी देना कि सभी अधिकारी नगर आयुक्त के साथ फील्ड विजिट पर हैं, समझ से परे है. पिछले छह माह से जब-जब नगर आयुक्त को बैठक आहुत करने का निर्देश दिया गया लेकिन अधिकारी कुछ न कुछ बहाना बनाते रहे.

इसे भी पढ़ें :ऐतिहासिक करार: असम में हुआ कार्बी आंगलोंग समझौता, अमित शाह की मौजूदगी में 1000 कैडर्स ने डाले हथियार

गंदगी से शहर के लोग परेशान

शहर के लोग गंदगी से परेशान हैं. वार्ड में डोर टू डोर कूड़ा का उठाव नहीं किया जा रहा है. वार्ड पार्षद भी शहर की सफाई को लेकर सवाल कर रहे हैं. निगम के अधिकारी न तो कोई जानकारी दे रहे हैं और न ही शहर की सफाई व्यवस्था की मॉनिटरिंग कर रहे हैं.

सफाई व स्वच्छता पर प्रतिमाह करोड़ों रुपये खर्च किए जा रहे हैं. इसके लिए संसाधन भी उपलब्ध हैं. फिर भी सफाई नहीं हो पा रही है.

इसे भी पढ़ें :विधानसभा में नमाज अदा करने के लिए अलग से कमरा एलॉट करने पर गरमायी राजनीति

इन मुद्दों पर की जानी थी चर्चा

  • निगम क्षेत्र में प्रतिदिन लगभग 715 टन कूड़ा निकलता है. वर्तमान में सफाई एजेंसी प्रतिदिन 53 वार्डों से कितने टन कूड़ा का उठाव कर रही है.
  • जोंटा के माध्यम से प्रतिदिन विभिन्न एमटीएस से कितने टन कूड़े का उठाव कर झिरी डंपिंग यार्ड भेजा जा रहा है.
  • वर्तमान में कांपैक्टर, टाटा एस मेगा व टाटा एस ज़ीप वाहनों की स्थिति क्या है. इनमें कितने वाहन रनिंग कंडीशन में हैं और कितने वाहन खराब हैं.
  • कूड़ा उठाव कार्य के लिए वर्तमान में कितने वाहनों का उपयोग किया जा रहा है.
  • सफाई के लिए नगर निगम में कितने ट्रैक्टर हैं. इनमें रांची नगर निगम के ट्रैक्टर और भाड़े पर लिए गए ट्रैक्टर की संख्या क्या है.
  • सफाई के लिए नई एजेंसी के साथ किए गए एकरारनामा से पूर्व सफाई से संबंधित कार्यों पर प्रतिमाह कितना खर्च हो रहा था औऱ नई एजेंसी के साथ एकरारनामा करने के बाद सफाई से संबंधित कार्यों पर कितना खर्च हो रहा है.
  • सफाई कार्य की मॉनिटरिंग के लिए प्रत्येक घर में आरएफआईडी चिप लगाया जाना था. शिकायत मिल रही है कि एजेंसी के माध्यम से प्रत्येक घर मे क्यूआर कोड स्कैनिंग कार्ड लगाया जा रहा है. एजेंसी के साथ किए गए एकरारनामा में शर्त क्या है? एजेंसी को आरएफआईडी चिप लगाना है या क्यूआर कोड स्कैनिंग कार्ड.
  • जोंटा कंपनी को मुख्य सड़क के किनारे स्मार्ट डस्टबिन लगाना था. इस दिशा में अबतक की कार्य प्रगति क्या है?
  • सफाई से संबंधित कार्यों में निगम प्रतिमाह डीजल पर कितना खर्च कर रहा है और कितने लीटर डीजल की खपत हो रही है.
  • नगर आयुक्त मुकेश कुमार ने बकरी बाजार स्थित रांची निगम के स्टोर परिसर में रखे कंडम वाहनों को हटाने का निर्देश दिया है. कंडम वाहनों की संख्या क्या है और इन्हें हटाने के लिए क्या योजना तैयार की जा रही है.
  • वर्तमान में जोनल सुपरवाइज़र, सुपरवाइज़र और सफाईकर्मियों की संख्या क्या है. एजेंसी के पास 53 वार्डों से कूड़ा उठाव कार्य के लिए चालकों की संख्या, डोर टू डोर कूड़ा उठाव कार्य के लिए हेल्पर कितने है.

इसे भी पढ़ें :follow up : रांची के बोड़िया में बहनोई की चलाई गोली लगने से हुई साले की मौत

  • सफाई कार्य से संबंधित कर्मियों की उपस्थिति कैसे ली जा रही है. इसके अलावा एजेंसी के कर्मियों की उपस्थित कैसे दर्ज की जा रही है.
  • डोर टू डोर कूड़ा उठाव वाहनों में लाउडस्पीकर का उपयोग क्यों नहीं किया का रहा है. अधिकांश वार्डों में डोर टू डोर कूड़ा उठाव कार्य के लिए सिटी का उपयोग किया जा रहा है.
  • झिरी स्थित डंपिंग यार्ड में कूड़े का वजन किस प्रकार किया जा रहा है. शिकायत मिली है कि पिछले कई माह से डंपिंग यार्ड का सीसीटीवी कैमरा खराब है.
  • वार्ड स्तर पर डोर टू डोर कूड़ा उठाव कार्य के लिए टाटा एस मेगा व टाटा एस जीप वाहनों के कितने ट्रिप कराए जा रहे हैं.
  • शहर की मुख्य सड़कों की सफाई वर्तमान में रोड स्वीपिंग मशीन से कराई जा रही है. प्रतिदिन कितने किलोमीटर रोड की सफाई मशीन से कराई जा रही है और संबंधित एजेंसी को प्रतिमाह कितना भुगतान किया जा रहा है.
  • अशोक नगर कॉलोनी से कूड़े का उठाव सोसाइटी के माध्यम से कराया जाता है. फिर भी वहां से अक्सर कूड़े या डेबरिश का उठाव रांची नगर निगम के ट्रैक्टर के माध्यम से कराया जाता है. फागिंग व सैनिटाइजेशन के लिए रांची नगर निगम के वाहन व कर्मियों को भेजा जाता है. यह सब किसके निर्देश पर किया जा रहा है. क्या अशोक नगर सोसाइटी इस कार्य के लिए रांची नगर निगम को भुगतान करता है. किसके माध्यम से अशोक नगर कॉलोनी को विशेष सुविधा उपलब्ध कराई जा रही है.

इसे भी पढ़ें :ससुर पर फिदा थी बहू तो दोनों हो गए थे फरार, 6 माह बाद पेड़ पर लटके मिले दोनों के शव

Related Articles

Back to top button