National

गुरुग्राम शिफ्ट हुई मध्य प्रदेश की राजनीतिः विधायकों को बंधक बनाने पर हाईवोल्टेज ड्रामा, फेल हुआ BJP का प्लान?

New Delhi: मध्य प्रदेश की राजनीति भी कनार्टक की राह पर चलती दिख रही है. गुरुग्राम में जबरदस्त सियासी ड्रामा चला. दरअसल, ऐसी खबर आई कि कमलनाथ सरकार को समर्थन दे रहे कुछ विधायकों को एक होटल में जबरन रोक कर रखा गया है.

इसके बाद कमलनाथ सरकार की कुर्सी हिलने लगी और रातभर बीजेपी-कांग्रेस में विधायकों के लिए खींचतान जारी रही.

इसे भी पढ़ेंः#CoronaAlert: इटली से दिल्ली लौटे 15 लोगों में कोरोना की पुष्टी, भेजे गये ITBP कैंप

ram janam hospital
Catalyst IAS

क्या है पूरा मामला

The Royal’s
Sanjeevani

दरअसल, मध्य प्रदेश के 10 विधायक गुड़गांव से सटे मानसेर के आईटीसी होटल में ठहरे हुए थे. कांग्रेस का आरोप है कि बीजेपी मोटी रकम का लालच देकर उन्हें लाई थी.

कांग्रेस ने आरोप लगाया है कि भाजपा उसके विधायकों 25 से 35 करोड़ रुपये का लालच दे रही है और विधायकों को बंधक बनाए हुए है.

आरोप है कि बीजेपी कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने की कोशिश में है. लेकिन बाद में मध्य प्रदेश सरकार के दो मंत्री जयवर्धन सिंह और जीतू पटवारी होटल पहुंचे और विधायकों को छुड़ाने की कोशिश की. इस दौरान जमकर ड्रामा हुआ. बताया जाता है कि बीजेपी नेताओं ने होटल में पुलिस बुला ली.

देर रात इस ड्रामे में कांग्रेस के दिग्गज नेता दिग्विजय सिंह की इंट्री हुई. और रात करीब दो बजे बीएसपी विधायक समेत छह विधायकों को कांग्रेस नेता अपने साथ वापस ले आए.

हालांकि, चार विधायकों को लेकर अब भी सस्पेंस बरकरार है. इनमें कांग्रेस के रघुराज कंसाना, हरदीप सिंह, बिसाहूलाल सिंह और निर्दलीय विधायक सुरेंद्र सिंह शामिल हैं.

इसे भी पढ़ेंःलोकपाल नियम जारीः मौजूदा या पूर्व PM के खिलाफ भी चल सकता है मुकदमा, बेंच करेगी सुनवाई

फेल हो गया बीजेपी का प्लान- कांग्रेस

कांग्रेस ने ये भी दावा किया है कि कमलनाथ सरकार को अस्थिर करने का बीजेपी का प्लान फेल हो चुका है और सरकार को किसी तरह का कोई खतरा नहीं है.

कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने आरोप लगाते हुए कहा कि ‘बीजेपी के पास बहुत पैसा है, परसो ही मैंने कहा था कि ये लोग 5 करोड़ पहले, 5 करोड़ राज्यसभा चुनाव के दौरान, बाकि सरकार गिराने पर 5 करोड़ देने का वादा किया था.हमारे पास इसके सबूत हैं. विधायकों को धोखा देकर लाया गया था. हमारे दो मंत्री जयवर्धन सिंह और जीतू पटवारी के साथ वहां बीजेपी के लोगो ने गुंडागर्दी की.’

दिग्विजय सिंह ने ये भी कहा कि शिवराज सिंह दिल्ली में हैं और इन विधायकों के साथ उनकी मीटिंग होनी थी. लेकिन कांग्रेस नेताओं के आने से पहले वो भाग गए.

क्या है विधानसभा का अंकगणित

मध्य प्रदेश विधानसभा में 230 सीटें हैं. लेकिन दो विधायकों के निधन के कारण विधानसभा में से इस वक्त 228 विधायक हैं. फिलहाल कांग्रेस के 114 विधायक हैं. बीजेपी के 107, बीएसपी के दो विधायक हैं, समाजवादी पार्टी का एक और चार निर्दलीय विधायक हैं.

बहुमत का जादुई आंकड़ा 115 का है, जबकि कांग्रेस को 121 विधायकों का समर्थन हासिल है. यानी फिलहाल कमलनाथ सरकार सुरक्षित है.

इसे भी पढ़ेंःममता बनर्जी ने 119 शरणार्थी कॉलोनियों को किया नियमित, कहा- सभी भारत के नागरिक, कोई नहीं छीन सकता नागरिकता

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button