न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

राजनीतिक दल मुसलमानों के वोट तो चाहते हैं, लेकिन सत्ता और सरकारी नौकरियों से वंचित रखना चाहते हैं : एस अली

201

Ranchi : देश में अल्पसंख्यकों के सांस्कृति और धार्मिक मामलों पर हमले किये जा रहे हैं. राजनीतिक दल मुसलमानों के वोट तो चाहते हैं, लेकिन सत्ता और सरकारी नौकरियों में भागीदारी से वंचित रखना चाहते हैं. ऐसे कई सवालों को लेकर 17 जनवरी को बुढ़मू और 20 जनवरी को रातू प्रखंड में लुटता झारखंड बचाओ कॉन्फ्रेंस का आयोजन आमया द्वारा किया जायेगा. उक्त बातें आमया के केंद्रीय अध्यक्ष एस अली ने शुक्रवार को पुरानी रांची स्थिति केंद्रीय कार्यालय में आयोजित संगठन की बैठक में कहीं.

झारखंडी विरोधी निर्णय के कारण शिक्षक नियुक्ति में बड़े पैमाने पर दूसरे राज्यों के लोग हुए नियुक्त

एस अली ने कहा कि सरकार के झारखंडी विरोधी निर्णय के कारण प्लस टू स्कूल और हाई स्कूल शिक्षक नियुक्ति में बड़े पैमाने पर दूसरे राज्यों के लोग नियुक्त हुए हैं. उन्हें हटाने के बजाय उन्हें पदस्थापित किया जा रहा है. दो बार आयोजित टेट में हजारों अभ्यर्थी उत्तीर्ण होने के बावजूद नियुक्ति नहीं होने से उम्र गंवा रहे हैं, जबकि प्राथमिक और मध्य विद्यालयों में शिक्षकों के हजारों पद खाली हैं. वहीं, भूमि अधिग्रहण कानून से आदिवासियों के साथ मूलवासी भी प्रभावित हो रहे हैं.

ये थे मौजूद

बैठक में जियाउद्दीन अंसारी, लतीफ आलम, मो फुरकान, इमरान अंसारी, इस्मे आजम, नौशाद आलम, आफताब आलम, अब्दुल गफ्फार, एकराम हुसैन, अरशद जिया, अबरार अहमद, मोईज अहमद, सम्मी अहमद, जावेद अख्तर, सल्हे सईद, मो आसिफ, हसन वारिस, इमाम अहमद, मोगिज अंसारी, जियारत हुसैन, मो सईद आदि उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें- सीएम धान खरीद पर 200 रुपये बोनस देने की फाइल पर 30 दिनों से नहीं ले रहे फैसला

इसे भी पढ़ें- मंडल डैम: झारखंड के अमर शहीद नीलांबर-पीतांबर का गांव चेमोसरिया भी डूब जायेगा

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: