JharkhandKhas-KhabarRanchi

झारखंड में राजनीतिक दल कोरोना काल में कार्यकर्ता और जनता के पास आने आने के लिए तलाश रहे नये डिजिटल प्लेटफॉर्म्स

  • क्षेत्रीय दलों में भी साइबर स्पेस की नयी युक्तियों के लिए लगी है होड़

Pravin Kumar

Jharkhand Rai

Ranchi: कोरोना काल में राजनीति की चुनौतियों से निपटने के लिए झारखंड की पार्टियां समाधान खोजने में जुट गयी हैं.

कोरोना त्रासदी के बीच रैलियों और बैठकों की संभावना नहीं दिख रही है. राजनेता इसके उपाय की खोज कर रहे हैं. क्षेत्रीय दल भी खुद का जनमत टिकाये रखने के लिए साइबर स्पेस में नयी युक्तियों की खोज रहे हैं.

इसके लिए सूचना तकनीक के जानकारों से बाजाप्ता सलाह ली जा रही है.

Samford

सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म और जूम या वेबिनार जैसे तकनीक अब पुराने पड़ते दिख रहे हैं.

राजनीतिक दल अब जनसमर्थन को लगातार बरकरार प्रदर्शित करने के लिए और पार्टी संगठन को लगातार सक्रिय बनाये रखने के लिए भी अलग तरह के प्लेटफॉर्म की जरूरत महसूस करने लगे है.

भाजपा ने वर्तमान परिस्थितियों से सामंजस्य बिठाते हुए अपनी गतिविधियों को तेज कर दिया है. वहीं झामुमो को सोशल मीडिया के साथ-साथ अपनी पुरानी रणनीति पर भरोसा है जो आम जनों से सीधा संवाद स्थापित करने का रहा है.

लॉकडाउन और सामाजिक दूरी के माहौल में वर्चुअल संवाद के जरिए राजनीतिक दल लोगों तक पहुंच रहे हैं. भाजपा की ओर से इसके लिए पहले से ही कई तरह के ऐप इस्तेमाल किए जा रहे हैं.

कांग्रेस भी हाल के दिनों में प्रदेश नेतृत्व के स्तर पर वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठकों की तरकीब को लगातार आजमा रही है.

झामुमो भी नयी तकनीक के बेहतर उपयोग पर विचार कर रही है. पार्टी ने संगठन के कार्यकर्ताओं और समर्थकों से  संवाद के लिए ऐप बनाने की भी योजना बनायी है. आजसू की ओर से भी ऐप तैयार कराने की योजना है.

सूचना तकनीक के दूसरे समाधानों के बारे में भी आजसू नेतृत्व विचार कर रहा है. इसके अलावा वामदलों की ओर से भी सूचना तकनीक की युक्तियों के साथ कई तरह के प्रयोग किए जा रहे हैं.

इसे भी पढ़ें – धनबाद :  14 जून को कोविड-19 अस्पताल से 14 मरीज हुए डिस्चार्ज, अबतक 109 संक्रमित हुए स्वस्थ

भाजपा आधा दर्जन ऐप से कर रही डिजिटल पॉलिटिक्स

भाजपा के प्रदेश मीडिया प्रभारी प्रतुल शाहदेव कहते हैं- कोरोना काल में पार्टी कार्यकर्ता जरूरतमंदो तक मोदी आहार पहुंचाने का काम कर रहे हैं.

वहीं वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग और अन्य तकनीकों के माध्यम से कार्यकर्ताओं तक संदेश पहुचाने का काम किया जा रहा है.

जबकि पार्टी विधानसभा स्तर पर भी वर्चुअल माध्यम से केंद्र की मोदी सरकार की उपलब्धियां आम जनों तक पहुंचाने का काम कर रही है.

पार्टी के कार्यकर्ताओं और संगठन के विभिन्न स्तरों पर संवाद के लिए प्रदेश इकाई विभिन्न प्रकार के ऐप का प्रयोग कर रही है. साथ ही झारखंड के 35 लाख परिवारों तक डोर डू डोर संपर्क की योजना पर भी काम किया जा रहा है.

कांग्रेस में लाइव सेशन का चल रहा दौर, पार्टी सुरू कर रही स्पीक अप वॉरियर अभियान

कांग्रेस के प्रदेश प्रवक्ता राजीव रंजन प्रसाद कहते हैं- कांग्रेस अपनी संगठन गतिविधियों को कोरोना काल में भी जारी रखे हुए है. जरूरतमंदो तक राहत समग्री पहुंचाने और आम जनों से संवाद स्थापित करने का काम निरंतर किया जा रहा है.

संगठन के विभिन्न मोर्चों के पदाधिकारियों के साथ वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए निरंतर बैठक जारी है जहां सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा पालन किया जा रहा है.

28 मई को स्पीक अप के दौरान देश भर से 10 करोड़ और झारखंड के दो लाख लोग जुड़े थे. इसी तरह अगले दो दिनों में स्पीक अप वॉरियर अभियान शुरू किया जा रहा है जिसमें 4 सप्ताह तक पार्टी कार्यकर्ता आम अवाम की समस्याओं का वीडियो बनायेंगे. उसे इंडियन नेशनल कांग्रेस की वेबसाइट पर अपलोड किया जायेगा.

केन्द्र की मोदी सरकार की जनविरोधी नीतियों के कारण आज देश की आम-अवाम तंग-तबाह है. हम डिजिटल प्लेटफॉर्म पर जनता से संवाद करेगे ताकि  परेशान और निराश लोगों को राहत मिल सके.

इसे भी पढ़ें – Dhanbad: गांजा तस्कर बता जेल भेजने के मामले में CID ने कोयला तस्कर राजीव राय को भेजा जेल

वर्चुअल माध्यमों से प्रचार प्रसार मैं सच और झूठ का अंतर नहीं होता

झामुमो के केंद्रीय महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य ने बताया कि जल्दी ही हम पार्टी के कार्यकर्ताओं से संवाद के लिए ऐप की संभावना देख रहे हैं.

सुप्रियो कहते हैं- वर्चुअल माध्यमों से सिर्फ अपने संदेश को लोगों तक पहुंचाया जा सकता है. लोगों को सवालों का जबाब नही मिलता. संगठन की ताकत आम-आवाम की ताकत है.

लोगों का सवाल और सरोकार को ताकत देने के लिए सोशल प्लेटफॉर्म का पार्टी उपयोग कर रही है. लेकिन मुख्य ताकत गांव और शहरों में व्यप्त समस्याओं और मुद्वो को सुलझाना है.

कोरोना काल में भी आम-आवाम के जनमुद्दों से जुडने में कोई बाधा नहीं है. कोरोना काल से पहले भी पार्टी अपनी नीतियों और सिद्वांतो एवं कार्य को लोगों तक पहुंचाने के लिए सोशल मीडिया का प्रयोग करती रही है.

पार्टी की ओर से झारखंड के लोगों का सम्मान बढ़ाने के लिए राज्य में भी रोजगार के नये क्षेत्र की तलाश पर जोर दिया जा रहा है.

आजसू सूचना तकनीक के माध्यमों का कर रहा प्रयोग, कार्यकताओं के लिए तैयार किया जा रहा ऐप

आजसू प्रवक्ता देवशरण भगत ने बताया कि आजसू पार्टी भी संगठन के भीतर संवाद के लिए ऐप तैयार कराने जा रही है. कार्यकर्ता अपने मोबाइल में एप डाउनलोड कर पार्टी सुप्रिमो तक संदेश पहुंचा सकते हैं.

जनमुद्वो को लेकर पार्टी कोरोना काल में भी सक्रिय रही है. हम सूचना तकनीक के दूसरे उपायों की तलाश कर रहे हैं और इसकी तैयारी भी पार्टी के भीतर की जा रही है.

इसे भी पढ़ें – धोनी का किरदार निभाने वाले एक्टर सुशांत सिंह राजपूत ने की आत्महत्या, बोले दोस्त- ले रहा था डिप्रेशन की दवा

Advertisement

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: