JharkhandLead NewsRanchi

नहीं मिल रहा पुलिसकर्मियों को साप्ताहिक अवकाश, मार्च 2021 में जारी हुआ था आदेश

Ranchi : झारखंड के विभिन्न जिलों में स्थित थानों में पुलिस मुख्यालय का आदेश ताक पर है. सिपाही से इंस्पेक्टर स्तर तक के पदाधिकारी सातों दिन ड्यूटी बजा रहे हैं. पुलिस सुधार पर मुसहरी कमेटी की अनुशंसा के बाद राज्य में पुलिसकर्मियों के लिए तीन शिफ्ट यानी आठ-आठ घंटे की ड्यूटी व सप्ताह में एक दिन के अवकाश के संबंध में मार्च 2021 में पुलिस मुख्यालय से सभी जिलों को आदेश जारी किया गया था. हालांकि यह आदेश एक महीने भी नहीं चल पाया और सब कुछ पूर्व की भांति चलने लगा.

इसे भी पढ़ें :  झारखंड में मैथिली भाषा को किया जा रहा दरकिनार, अब एकजुट होकर आंदोलन की राह पर उतरेगा मिथिला समाज 

कारगर नहीं हो सकी योजना

झारखंड में सरकार ने पुलिसकर्मियों को हफ्ते में छह दिन ड्यूटी और एक दिन वीक ऑफ का सिस्टम लागू करने का फैसला लिया था. इस नये नियम को लागू करने के लिए राज्य के डीजीपी नीरज सिन्हा के निर्देश पर आइजी मुख्यालय ने पुलिस अधीक्षकों को पत्र भेजा था. मार्च 2021 में यह आदेश दिया गया. इससे पूर्व भी फरवरी 2019 में तत्कालीन डीजीपी डीके पांडेय ने यही आदेश जारी किया था. यह योजना कारगर नहीं हो सकी थी क्योंकि उस दौरान राज्य में पुलिसकर्मियों की काफी कमी थी. आदेश में कहा गया था कि सभी पुलिसकर्मियों से केवल 8 घंटे की ड्यूटी ली जाये. उन्हें सप्ताह में एक दिन की छुट्टी दी जाये.

इसे भी पढ़ें :  हाई सिक्योरिटी जोन मोरहाबादी में चली अंधाधुंध गोलियां, दो युवक घायल, एक गंभीर

मुंबई व मध्य प्रदेश में लागू

मुंबई में पुलिसकर्मियों की 8 घंटे की शिफ्ट की व्यवस्था पिछले साल लागू हुई थी. मध्य प्रदेश सरकार ने दिसंबर, 2018 में ये आदेश जारी किया था. जनवरी 2019 में यहां पुलिसवालों को पहला वीकली ऑफ तो मिला, लेकिन बल की कमी का मुद्दा यहां भी मुखर हो रहा है.

क्या कहते हैं पुलिस मेंस एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष

झारखंड पुलिस मेंस एसोसिएशन के प्रांतीय अध्यक्ष राकेश कुमार पांडेय ने कहा कि मुसहरी कमेटी की अनुशंसा को लागू करने के लिए पूर्व में आदेश निर्गत हुआ था. थानों में ड्यूटी कर रहे पुलिसकर्मियों पर अतिरिक्त कार्य और तनाव कम हो इसको लेकर आठ घंटे ड्यूटी व साप्ताहिक अवकाश की व्यस्था लागू की गयी थी. लेकिन इन आदेशों का पालन नहीं हो रहा है. आज भी पुलिसकर्मी तनाव में ड्यूटी करते हैं. तनाव की वजह से कई जवान आत्महत्या तक कर लेते हैं.

इसे भी पढ़ें : झारखंड में बदल गया एमबीबीएस में एडमिशन के काउंसलिंग का शेड्यूल, जानें- क्या है नया डेट

Advt

Related Articles

Back to top button