JharkhandLead NewsRanchi

लॉकडाउन के नियमों का पालन करवाने में पुलिस के छूट रहे पसीने, भीड़ कर रही है पुलिस पर हमला

Ranchi : कोरोना महामारी से आम जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है. झारखंड सरकार ने कोरोना महामारी चेन को तोड़ने के लिए राज्य में लॉकडाउन लगाया है.

जिले का पुलिस प्रशासन लॉकडाउन का कड़ाई से पालन करवाने के लिए जुटा हुआ है. ताकि कोरोना के चेन को तोड़ा जा सके और अनावश्यक लोग घरों से बाहर नहीं निकलें और सुरक्षित रह सकें.

advt

कोरोना महामारी के दौरान पुलिस लॉकडाउन के नियमों का पालन कराने के लिए दिन रात सड़कों पर तैनात है. लेकिन पुलिस जब हाट-बाजार में जाती है तो आम जनता द्वारा पुलिस पर पत्थरबाजी और हमला किया जाता है, जिससे कई पुलिसकर्मी घायल हुए हैं.

इसे भी पढें :स्वास्थ्य विभाग के मल्टीपर्पस वर्कर्स ने दी आंदोलन की चेतावनी, कहा- मांगें पूरी नहीं हुई तो करेंगे कार्य बहिष्कार

केस 1

दुमका जिले के प्रखंड क्षेत्र में कोरोना संकट के इस काल में जब सरकार एवं पूरी प्रशासनिक मशीनरी कोरोना संक्रमण की रफ्तार को रोकने के लिए कमर कसे हुए है, वहीं गांव-देहातों में लोग अब भी हाट बाजार करने से परहेज नहीं कर रहे हैं.

ग्रामीण क्षेत्रों में लगने वाले हाट-बाजारों को बंद कराने के लिए गयी प्रशासनिक टीमों पर कई जगहों पर पत्थरबाजी एवं झड़प हो चुकी है.

सोमवार को सरस डंगाल में लगनेवाले सप्ताहिक हटिया जो प्रसिद्ध मवेशी हाट से भी जाना जाता है. हटिया से भीड़भाड़ को हटाने की कोशिश जब दंडाधिकारी सूरज कुमार के नेतृत्व में गयी टीम ने किया तो ग्रामीणों एवं दुकानदारों की प्रशासनिक टीम के साथ झड़प हो गयी.

दुकानदार और ग्रामीणों ने टीम में शामिल दंडाधिकारी एवं सहकर्मियों के ऊपर पथराव करते हुए हटिया स्थल से खदेड़ दिया. टीम के सदस्य किसी तरह जान बचा कर वहां से भागे.

दंडाधिकारी सूरज कुमार के अनुसार जब टीम के द्वारा हटिया बंद कराया जा रहा था तभी कुछ दारू बेचने वाली महिलाओं ने हो हल्ला करते हुए उन लोगों पर पथराव कर दिया. माहौल को देखते हुए दंडाधिकारी सहित टीम में शामिल सभी सहकर्मी माहौल को बिगड़ते देख वहां से निकल पड़े.

इसे भी पढें :स्वास्थ्य सुविधाओं के मामले में पुणे No. 1, जानिये अन्य महानगरों का क्या है हाल

केस 2

पश्चिमी सिंहभूम जिले के हाटगम्हरिया थाना क्षेत्र के सिंदरीगौरी पंचायत स्थित बिचाबुरू गांव में सोमवार की शाम को हाट लगा था. हाट की सूचना पाकर पुलिस टीम उसे बंद कराने गयी.

हाट बंद कराने पहुंची पुलिस टीम पर लाठी-डंडों से लैस ग्रामीणों ने हमला कर दिया. ग्रामीणों के इस हमले में दो असिस्टेंट सब इंस्पेक्टर (एएसआई) समेत छह पुलिसकर्मी घायल हो गये.

केस 3

सरायकेला जिला के नीमडीह थाना क्षेत्र अंतर्गत बामनी गांव में 24 अप्रैल को लॉकडाउन के दौरान चल रहे भोक्ता मेला को बंद कराने गई पुलिस पर ग्रामीणों ने हमला बोल दिया. इसमें पुलिस के कई जवान और ग्रामीण घायल हो गये.

इस हमले में थाना प्रभारी मोहम्मद अली अकबर समेत अन्य पुलिस कर्मी घायल हो गये. ग्रामीणों को उग्र होता देख पुलिस कर्मी वापस लौट आये.

झारखंड पुलिस एसोसिएशन ने विनम्र अपील की है कि आम जनता विधि-व्यवस्था नियंत्रण एवं लॉकडाउन के नियमों का पालन कर पुलिस प्रशासन का सहयोग करे.

बदले में पुलिस भी आपको सहयोग करेगी और किसी के बहकावे में तैश में आकर पुलिस बल पर पथराव या किसी तरह से मारपीट, हमला न करें नहीं तो पुलिस आपको चिन्हित कर आपके खिलाफ सख्त से सख्त कार्रवाई करेगी.

नतीजतन आप थाना, अदालत का नहीं चाहते हुए भी चक्कर लगायेंगे. इस तरह आपको इस कोरोना महामारी में दोहरी परेशानी होगी. बेहतर होगा आप अपना बेहतर ख्याल रखें और जरूरत पड़ने पर ही घर से बाहर निकलें.

इसे भी पढें :वासेपुर में जमीन कारोबारी लाला खान की दिन दहाड़े गोली मारकर हत्या

Advertisement

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: