न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पलामू : पुलिस ने फिर जब्त की वाहन के साथ 4200 पाउच देसी शराब

1,292

Palamu: पलामू जिले में मोटी कमाई के लिए बड़े पैमाने पर शराब की तस्करी हो रही है. कई क्षेत्रों से बिहार की सीमा के लगे होने के कारण राज्य के कई हिस्सों से शराब बिहार भेजी जा रही है. इसमें महंगे वाहनों का इस्तेमाल होता है. ऐसे वाहनों पर नजर रखकर पुलिस ने एक सप्ताह के दौरान दूसरी बार शराब की बड़ी मात्रा को जब्त किया है.

सतबरवा के बाद हरिहरगंज से जब्त हुई शराब

जिले के सतबरवा थाना क्षेत्र में इसी सप्ताह शराब की बड़ी खेप पकड़ने के बाद पुलिस ने बीती रात वाहन चेकिंग के दौरान 4200 पाउच शराब जब्त की. झारखंड उत्पाद के ये सभी पाउच शराब 200 एमएम के पैक मे थे. इस सिलसिले में वाहन के मालिक और चालक के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गयी है.

hosp3

शक के अधार पर वाहन की तलाशी में मिली सफलता 

हरिहरगंज के थाना प्रभारी वंश नारायण सिंह ने बताया कि पुलिस नियमित गश्त पर थी. इसी दौरान छत्तरपुर से औरंगाबाद की ओर जा रही स्कॉर्पियो को शक के आधार पर रोक कर तलाशी ली गयी. इस दौरान स्कॉर्पियो के अंदर भारी मात्रा में देसी शराब पायी गयी. 21 अलग-अलग बोरों में शराब भरी गयी थी. शराब को बिहार तस्करी कर ले जाया जा रहा था. उत्पाद अधिनियम के तहत स्कॉपियो मालिक अमित कुमार गुप्ता और चालक के विरूद्ध मामला दर्ज कर लिया है.

तस्करी में महंगे वाहनों का इस्तेमाल

तस्करी के लिए शराब माफिया इन दिनों महंगे वाहनों का इस्तेमाल कर रहे हैं. सतबरवा इलाके से स्विफ्ट कार में शराब ले जायी जा रही थी, जबकि हरिहरगंज से स्कार्पियों में शराब जब्त की गयी. इससे साफ होता है कि पुलिस की नजरों में धूल झोंकने के लिए महंगे वाहनों से शराब की तस्करी की जा रही है. तस्करों को लगता है कि महंगे वाहन होने के कारण पुलिस उनकी जांच-पड़ताल से परहेज करेगी और शराब को आसानी से बिहार भेज दिया जायेगा. छापामारी अभियान में सअनि संजय कुमार सिंह, आरक्षी विविक कुमार, रामबाबु कुमार पासवान, अरूण कुमार सिंह, शक्ति कुमार सिंह और रामचंद्र राम साथ थे.

इसे भी पढ़ेंः 85,429 करोड़ झारखंड का 2019-20 का बजट, एक कार्यकाल में पांचवी बार बजट पेश करने वाले पहले सीएम बने रघुवर दास

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: