न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीपी सिंह के बयान पर उबले पुलिस के जवान, कहा – मंत्रिमंडल का नाम बदलकर क्या रखियेगा मंत्री जी

सोशल मीडिया पर पुलिस महकमा का एक्शन के साथ थ्रिलर भी, घटिया मानसिकता से ग्रसित हैं नगर विकास मंत्री

6,260

Ranchi : नगर विकास मंत्री सीपी सिंह के बयान पर राज्य के पूरे पुलिस महकमा पर उबाल है. सोशल मीडिया पर झारखंड पुलिस मेंस एसोसिशन  में सीपी सिंह के बयान के खिलाफ जबरदस्त आक्रोश है. इसमें एक्शन के साथ थ्रिलर भी है. शनिवार को क्लेक्टेरियट में दिशा की हुई बैठक में सीपी सिंह ने कहा था कि पुलिस सहायता केंद्र का नाम बदलकर पुलिस वसूली केंद्र रख दीजिये. इसपर पुलिस महकमा ने जबरदस्त प्रतिक्रिया दी है. स्पष्ट कहा है कि नगर विकास मंत्री की सोंच और मानसिकता कितने निम्न स्तर की है. पुलिस सहायता केंद्र का नाम तो पुलिस वसूली केंद्र तो रख दीजियेगा तो क्या मंत्रीमंडल का नाम बदलकर कमीशनखोर मंत्रिमंडल या घोटालेबाज मंत्रिमंडल रखियेगा.

इसे भी पढ़ें – एक्शन में सीपी सिंह ! अपनी ही सरकार पर गरजे, कहा- पुलिस सहायता केंद्र का नाम बदलकर पुलिस…

पुलिस हट जाये तो पता चल जायेगा औकात

सोशल मीडिया पर प्रतिक्रिया देते हुये यह भी कहा गया है कि चंद समय के लिये पुलिस अपने कर्त्तव्यों से विमुख हो जाये तो सीपी सिंह को अपनी औकात का पता चल जायेगा. हम सब अनुशासितकर्मी हैं. अनुशासन में रहकर अपने कर्त्तव्यों का स्वाभिमान पूर्वक निर्वहन करते हैं. इनकी नसीहत की आवशयकता नहीं है. हमारा एक ही स्टैंड है और इनका कोई स्टैंड नहीं होता है. मंत्री जी का यह बयान मनोबल गिराने वाला है.

सीपी सिंह के बयान पर उबले पुलिस के जवान, कहा - मंत्रिमंडल का नाम बदलकर क्या रखियेगा मंत्री जी

इसे भी पढ़ें – लगाये गए 18 करोड़ पौधे, 7 जिलों में एक ईंच नहीं बढ़े जंगल

 मंत्री जी अपने अंदर झांक लें

आज मंत्री जी को पुलिस की व्याख्या करते हुये बहुत ही सुकुन मिला होगा. परंतु कभी अपने अंदर भी झांक लेना चाहिये. पुलिसवाले के साथ उनका व्यवहार कैसा रहता है. वह उससे क्या करवाना चाहते हैं. पुलिस तो पानी की तरह है. जहां मिलायें वहां मिल जायेंगे. लेकिन यह नेता अपने गिरेबां में झांके कि किस-किस तरह के घिनौने काम को अंजाम देते हैं. पुलिस केंद्रों में उग्रवादियों को लाकर रख दिये हैं और अपराधियों का जमावड़ा लगवाने का काम भी इन नेतागणों का है.

सीपी सिंह के बयान पर उबले पुलिस के जवान, कहा - मंत्रिमंडल का नाम बदलकर क्या रखियेगा मंत्री जी

इसे भी पढ़ें –  कई IAS जांच के घेरे में, प्रधान सचिव रैंक के अफसर आलोक गोयल की रिपोर्ट केंद्र को भेजी, चल रही विभागीय कार्रवाई

palamu_12

पुलिस से अपने घर काम करवाने में इनका जमीर नहीं झकझोरता

पुलिस महकमा ने यह भी कहा कि पुलिस से अपने घर का काम करवाने में इनका जमीर नहीं झकझोरता है. पुलिस को अपने निजी कामों में लगाकर अपने आप को सत्यवादी हरिशचंद्र समझते हैं. ऐसे नेताओं का झारखंड पुलिस मेंस एसोसिएशन पुरजोर विरोध करती है. अब ऐसा लगता है कि जो मैनुएल 1857 की क्रांति को दबाने के लिये बनाया गया, वह आज तक लागू है. इसका मुख्य कारण यही है कि हमलोग माननीयों की चापलूसी करें और नहीं तो कठपुतली की तरह उनके इशारों पर चलें. हमारे हाथों में राइफल तो है, फिर भी हमलोग इन नेताओं के गुंडों के आगे नतमस्तक हैं. क्योंकि इनके इशारों पर हमारी वर्दी उतर सकती है.

सीपी सिंह के बयान पर उबले पुलिस के जवान, कहा - मंत्रिमंडल का नाम बदलकर क्या रखियेगा मंत्री जी

इसे भी पढ़ें – सीपी सिंह जी EESL की LED हफ्ते भर में हो जाती हैं फ्यूज, इसकी जांच हो : सरयू राय

बॉडीगार्ड वापस कर दें तो समझेंगे

सीपी सिंह के बयान पर उबले पुलिस के जवान, कहा - मंत्रिमंडल का नाम बदलकर क्या रखियेगा मंत्री जी

मंत्री साहब पुलिसकर्मी इतने ही खराब हैं तो यहां से जितने भी बॉडी गार्ड और सुरक्षा में लगाये गये हमारे कर्मी हैं, उन्हें आज अभी वापस कर दें. तब समझेंगे कि आपकी बात सत्य है. बेवजह पुलिसकर्मियों पर आरोप लगाना गलत है. ऐसे ही पुलिस कर्मियों पर बहुत सारी व्याधि है. अपनी नाकामी को हम कमजोर पुलिस वाले पर गढ़ते हैं. बड़ों को तो कुछ कर नहीं पाते. अगर कार्रवाई हो तो हमपर ही कार्रवाई होती है. मंत्री का यह बयान बहुत ही खराब है. अपने यहां से जितने भी बॉडीगार्ड और सुरक्षा में लगाये गये हमारे कर्मी हैं. उन्हें आज अभी वापस कर दें, तब समझेंगे कि आपकी बात सत्य है. बेवजह पुलिसकर्मियों पर आरोप लगाना गलत है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: