Crime NewsJharkhandRanchi

पुलिस की जांच में खुलासा : सीमेंट कारोबारी ने खुद को मारी थी गोली

Ranchi: राजधानी के चर्चित सीमेंट कारोबारी अश्विनी मारवा की मर्डर मिस्ट्री का खुलासा हो गया है. अश्विनी मारवा ने खुद को गोली मारी थी. जिस पिस्टल से गोली चली थी, उस पर सीमेंट कारोबारी की उंगलियों के निशान मिले हैं. गोली दूर से नहीं, सिर में पिस्टल सटाकर मारी गयी थी. यह खुलासा एफएसएल की जांच में हुआ है. रांची पुलिस ने एफएसएल जांच के लिए पिस्टल भेजा था. एफएसएल की जांच में खुद से गोली मारने की बात सामने आई है, जिसके बाद रांची पुलिस अब कारोबारी का मोबाइल खंगाल रही है ताकि यह पता चल सके कि आखिर किस वजह से कारोबारी ने खुद को गोली मारी. पुलिस को आशंका है कि कारोबार में लेन-देन को लेकर कोई विवाद हुआ होगा.

इसे भी पढ़ें :IAS की FIR नहीं हुई तो बिगड़े जीतन राम मांझी, सरकार से पूछे सवाल

पुलिस कारोबारी के मोबाइल का डिटेल खंगाल रही है. कॉल डिटेल से स्पष्ट होगा कि कारोबारी ने खुद को गोली मारने से पहले किन किन लोगों से बात की थी. इसके बाद पुलिस उन सभी लोगों का सत्यापन करेगी. केस के अनुसंधानकर्ता अन्य बिंदुओं पर जांच कर रहे हैं. ग्रामीण एसपी नौशाद आलम ने कहा है कि हथियार पर कारोबारी का फिंगर प्रिंट मिलने से आत्महत्या का मामला स्पष्ट हुआ है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

दो दिन से लापता था कारोबारी, घटना स्थल से मिली थी कार

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

कारोबारी अश्विनी मूल रूप से नामकुम इलाके का रहने वाला था. वह कांके में चूड़ी टोली में रहता था. कारोबारी दो दिन से अपने घर से लापता था. पुलिस जब तक कारोबारी को खोज पाती, इससे पहले ग्रामीणों ने मंदिर के पास कारोबारी का शव पड़े होने की सूचना पुलिस को दी. पुलिस मौके पर पहुंची तो कारोबारी की कार वहीं पर मिली. कारोबारी के पैर में चप्पल नहीं थी, लेकिन शव के समीप ही उसकी चप्पल गिरी थी.

इसी साल 12 फरवरी को मिला था शव

कारोबारी का शव 12 फरवरी को बरामद हुआ था. उसके सिर में गोली लगी थी. पुलिस को अभी इस मामले में पोस्टमार्टम रिपोर्ट नहीं मिली है. पोस्टमार्टम रिपोर्ट मिलने के बाद इस मामले में और जानकारी मिलेगी. पुलिस हत्या और आत्महत्या के बिंदु पर जांच कर रही थी. पुलिस कारोबारी के कई दोस्तों से पूछताछ कर चुकी है. इस बात का पता लगाने का प्रयास किया जा रहा है कि उसका किन लोगों के साथ लेन-देन का संबंध था.

इसे भी पढ़ें :Tokyo Olympic: हॉकी इंडिया के डेलिगेट्स के रूप में टोक्यो जायेंगे झारखंड कुश्ती के अध्यक्ष भोला नाथ सिंह

Related Articles

Back to top button