न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

Police Housing Colony: पूर्व DGP डीके पांडेय की पत्नी पूनम पांडेय की जमीन की CBI जांच को लेकर PIL

1,820

Ranchi : कांके-पिठोरिया रोड के बगल में चामा मौजा में पूर्व डीजीपी डीके पांडेय की पत्नी पूनम पांडेय समेत और भी लोगों के नाम पर जमीन की जांच को लेकर झारखंड हाई कोर्ट में पीआइएल दायर की गयी है.

यह जनहित याचिका जनसभा पलामू के महासचिव पंकज कुमार ने दायर की है. पंकज ने इस पूरे मामले की जांच केंद्रीय जांच ब्यूरो (सीबीआइ) से कराने की मांग की है. पंकज की ओर से यह याचिका वकील राजीव कुमार ने दायर की है.

जीएम लैंड का म्यूटेशन करा कर रैयत प्लॉट में तब्दील

गौरतलब है कि डीजीपी डीके पांडेय की पत्नी पूनम पांडेय ने 51 डिसमिल जमीन ली है. वह प्लॉट गैरमजरुवा नेचर का है. वह कांके अंचल के हल्का-03, चामा मौजा के खाता संख्या-87 और प्लॉट संख्या-1232 है.

इस गैर मजरुवा जमीन का म्यूटेशन करा कर रैयत प्लॉट में तब्दील कर दिया गया है. वहीं इस मामले में मुख्य सचिव, सीबीआइ, डीजीपी, उपायुक्त, कांके अंचलाधिकारी सहित अन्य को अभियुक्त बनाया गया है.

SMILE

खाता 87 के 40 और प्लॉट नंबर 1232 के दो एकड़ जमीन लैंड बैंक में

जिस 87 नंबर के खाते में पूर्व डीजीपी की पत्नी पूनम पांडेय की जमीन है. उस खाता की 40 एकड़ जमीन लैंड बैंक में है. वहीं जिस प्लॉट से पूर्व डीजीपी ने जमीन ली है. उस प्लॉट की दो एकड़ जमीन लैंड बैंक में है.

जाहिर सी बात है कि पूनम पांडेय की जमीन भी लैंड बैंक में ही है. जमीन मामलों के कुछ जानकारों का कहना है कि अगर जमीन जीएम लैंड है और सरकार की तरफ से प्रतिबंधित है, तो निश्चित तौर से इस जमीन की ना ही रजिस्ट्री हो सकती है और ना ही म्यूटेशन.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: