न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पुलिस एक माह बाद भी शुभम हत्याकांड का खुलासा करने में नाकाम, सीबीआई जांच की मांग

26

Chaibasa: सिदो-कान्‍हू शिक्षा निकेतन, करंजो, कराइकेला के कक्षा 3 के छात्र शुभम महतो की हत्या का एक माह बीत जाने के बाद भी हत्यारों का पुलिस पता नहीं कर पायी है. डीएसपी सकलदेव राम के नेतृत्व में एसआईटी की टीम,फॉरेंसिक टीम रांची जमशेदपुर, खुफिया विभाग, सीआईडी भी मदद कर रही है. मामले को लेकर पुलिस ने सूचना देने वाले को 50 हजार रुपये इनाम देने की घोषणा भी की है लेकिन अब हत्यारे का पता पुलिस नहीं कर पायी है.

इधर चक्रधरपुर विधायक शशिभूषण समाड ने शशिभूषण समाड ने कहा कि शुभम महतो के हत्यारे की गिरफ्तारी के लिए मुख्यमंत्री, डीजीपी, राज्यपाल को चिट्ठी लिखकर गुहार लगा चुके हैं. विधायक ने कहा हमारी मांग है कि मुजरिम को सामने लाया जाये और मामले की जांच सीबीआई को सौंपी जाये.

अधजला अवस्था में मिला था शव

शुभम महतो का शव 5 दिसंबर 2018 को सिदो-कान्‍हू शिक्षा निकेतन प्रांगण के बगल में बरामद हुआ था. वह 1 दिसंबर से लापता था. उसका अधजला शव 5 दिसंबर को विद्यालय की चहारदीवारी के बाहर पीएम आवास के पीछे से बरामद हुआ था. इस संबंध में कराईकेला थाना कांड संख्या 20/18 दिनांक 05.12.18,धारा 302/ 201/ 120 बी भादवि के मामला दर्ज कर अनुसंधान शुरू किया गया था. इसके लिए एक एसआईटी टीम का भी गठन किया गया था. इसके बावजूद एक हत्यारों की गिरफ्तारी नहीं हो पायी है. अब शुभम हत्याकांड की जांच के लिए सीआईडी को जिम्मा दिया गया है.

हत्या से पूर्व हुआ था अप्राकृतिक यौनाचार

कराईकेला स्थित सिदो-कान्हू शिक्षा निकेतन करंजो की तीसरी के छात्र शुभम महतो के साथ हत्या से पूर्व अप्राकृतिक यौनाचार हुआ था. इसकी पुष्टि एसपी चंदन झा ने भी की थी. एसपी ने कहा था कि शुभम हत्याकांड में प्रथम दृष्टया हत्या से पहले उसके साथ अप्राकृतिक यौनाचार होने की बात सामने आयी है.

स्कूल प्रबंधन के खिलाफ प्राथमिकी

शुभम के पिता देवेंद्र ने सिदो कान्हू शिक्षा निकेतन के स्कूल प्रबंधन के खिलाफ ही प्राथमिकी दर्ज करायी है. स्कूल प्राचार्य अनुपमा महतो, स्कूल सचिव आदित्य महतो, प्रोजेक्ट मैनेजर अर्जुन शर्मा, हॉस्टल इंचार्ज गोपीनाथ सामड़ का नाम शामिल है. हालांकि इस मामले में पुलिस का दावा है कि इन लोगों से पूछताछ हुई है. लेकिन, पूछताछ के दौरान कोई सबूत नहीं मिले.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

%d bloggers like this: