Crime NewsGarhwaJharkhand

सरकारी जमीन पर लगी फसल कटवाने गयी पुलिस और ग्रामीणों में झड़प, ईंट-पत्थरों से हमला, लाठीचार्ज

Garhwa: जिले के बरडीहा थाना क्षेत्र के सलगा गांव में जमीन का विवाद सुलझाने गयी पुलिस पर जमीन पर हक़ जताने वाले पक्ष ने बड़े-बड़े ईंट-पत्थरों से हमला कर दिया. मौके पर बीडीओ और सीआइ भी पहुंचे तो उनपर भी हमला किया गया. इसके बाद पुलिस ने उपद्रवियों को दौड़ा-दौड़ा कर पीटा.

झड़प में महिलाएं भी पुलिस पर लाठियां बरसाती दिखीं. इस मामले में पुलिस ने एक महिला सहित तीन लोगों को गिरफ्तार किया है. झड़प के दौरान महिला-पुरुष के हाथों में बड़े-बड़े पत्थर देखे गये.

गौरतलब है कि बरडीहा-अंचल क्षेत्र अंतर्गत ग्राम पंचायत सलगा में सुरेंद्र यादव वगैरह एवं कृष्णा यादव वगैरह के बीच 1 एकड़ जमीन को लेकर कई वर्षों से विवाद चल रहा है. कई बार इसकी पंचायती भी की गयी लेकिन विवाद सुलझा नहीं, जिसको लेकर प्रथम पक्ष के सुरेंद्र यादव के द्वारा जिला में एसडीओ को आवेदन दिया था.

Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :दुमका के लाइफलाइन भुरभुरी पुल और विजयपुर पुल निर्माण में गड़बड़ी, सीएम कराएं उच्च स्तरीय जांच: लुईस मरांडी

उक्त आवेदन के आलोक में अंचला अधिकारी नंदजी राम को जमीन का मामला निपटाने को कहा गया. वहीं उक्त जमीन के बंटवारे के साथ जब उसकी नापी की गई तो 4 एकड़ के लगभग सरकारी जमीन पायी गयी, जो कि मेन रोड देवी मंदिर के सामने की बतायी जा रही है.

सभी 4 एकड़ भूमि सरकारी होने पर उक्त भूमि पर लगभग 8 महीना पूर्व ही धारा 144 लगा दी गयी थी, जिसके बावजूद भी कृष्णा यादव, राम मूरत यादव वगैरह के द्वारा धान का फसल उगा कर काटा लिया गया. उसके बाद गेहूं की भी फसल लगायी गयी है.

मिली जानकारी के अनुसार, गेहूं को प्रखंड विकास पदाधिकारी सह अंचला धिकारी के द्वारा मझिआंव थाना एवं बरडीहा थाना पुलिस बल एवं महिला पुलिस को ले जाकर गेहूं कटवाने का काम किया जाने लगा. उसी बीच पुरुष एवं महिलाओं के द्वारा बाद-विवाद बढ़ाते हुए पुलिस से झड़प करते हुए ग्रामीणों ने बीडीओ और पुलिस कर्मियों पर पथराव कर दिया.

कुछ देर गेंहू के खेत में ही झड़प हुई और पुलिस ने आरोपियों प लाठियां बरसायीं. इसके साथ ही पुलिस ने राम मूरत यादव एवं उसकी पत्नी के साथ कृष्णा यादव को गिरफ्तार भी कर लिया.

इसे भी पढ़ें :ऑनर किलिंग के चार दोषियों को फांसी की सजा, कत्ल में शामिल थे परिवार के चार लोग

Related Articles

Back to top button