National

#POK : भारतीय मौसम विभाग के बुलेटिन में गिलगित-बल्टिस्तान और मुजफ्फराबाद भी शामिल

New Delhi:  भारतीय मौसम विभाग ने जम्‍मू-कश्‍मीर सब-डिविजन को अब ‘जम्‍मू और कश्‍मीर, लद्दाख, गिलगित-बाल्टिस्‍तान और मुजफ्फराबाद’ कहना शुरू कर दिया है.

मंगलवार को आइएमडी ने उत्तर-पश्चिम भारत के लिए जो अनुमान जारी किये, उसमें गिलगित-बाल्टिस्‍तान और मुजफ्फराबाद को भी शामिल किया गया है.

बता दें कि गिलगित-बाल्टिस्‍तान और मुजफ्फराबाद पर पाकिस्‍तान का अवैध कब्जा है. अब अपने मौसम विभाग (IMD) के माध्यम से ही भारत ने पाकिस्‍तान को समझा दिया है कि गिलगित-बाल्टिस्‍तान भारत का अंग है.

ram janam hospital
Catalyst IAS

आइएमडी  के बुलेटिन में गिलगित-बाल्टिस्‍तान और मुजफ्फराबाद को जगह देना बड़ा अहम कदम माना जा रहा है. कुछ दिन पहले ही भारत ने साफ कहा था कि पाकिस्‍तान का इन इलाकों पर कोई हक नहीं है.

The Royal’s
Sanjeevani

दरअसल वहां की सुप्रीम कोर्ट ने पाकिस्‍तान सरकार को गिलगित-बाल्टिस्‍तान में चुनाव कराने के आदेश दिये थे. भारत ने इसपर कड़ी प्रतिक्रिया दी और कहा कि पाकिस्‍तान को वहां पर दखल देने का कोई हक नहीं है.

इसे भी पढ़ें – ‘हिंदपीढ़ी’ बसने से कैसे रोकेंगे आप?

‘पाकिस्‍तान की अदालत नहीं कर सकती फैसला’

भारतीय विदेश मंत्रालय ने पाकिस्तान के वरिष्ठ राजनयिक को आपत्ति पत्र भी जारी किया था. बयान के मुताबिक, “तथाकथित गिलगित-बाल्टिस्तान पर पाकिस्तान के सुप्रीम कोर्ट के आदेश पर पाकिस्तान के समक्ष कड़ा विरोध दर्ज कराया है.”

बयान में कहा गया- ‘यह स्पष्ट रूप से बता दिया गया है कि केंद्र शासित प्रदेश पूरा जम्मू-कश्मीर और लद्दाख जिसमें गिलगित-बाल्टिस्तान भी शामिल हैं, वह पूरी तरह से कानूनी और अपरिवर्तनीय विलय के तहत भारत का अभिन्न अंग हैं.”

विदेश मंत्रालय ने कहा कि पाकिस्तानी सरकार या उसकी न्यायपालिका को उन क्षेत्रों पर हस्तक्षेप करने का अधिकार नहीं हैं जो उसने ‘अवैध तरीके से और जबरन कब्जाए’ हुए हैं.

इसे भी पढ़ें – पुलिस को उड़ाने की नक्सली साजिश नाकाम, पांच IED केन बम बरामद

भारत के नये नक्शे में है पीओके

जम्मू एवं कश्मीर और लद्दाख के अलग केंद्र शासित प्रदेश बनने के बाद भारत सरकार ने जो नया मानचित्र जारी किया, उसमें पाकिस्तानी कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) के हिस्सों को कश्मीर क्षेत्र में दर्शाया गया था.

इसमें पीओके के तीन जिलों मुजफ्फराबाद, पंच और मीरपुर को शामिल किया गया था.

इसे भी पढ़ें – जूम एप से बिना खर्च चल रहा आकांक्षा 40 कोचिंग, शिक्षक कर रहे पैसे का इंतजार

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button