न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएमसीएच में A + ब्लड नहीं होने से मरीजों की जान पर बन आयी है

50

Dhanbad : जिले के सबसे बड़े और सरकारी अस्पताल पीएमसीएच में रविवार को A+ ब्लड नहीं होने से मरीजों की जान पर बन आयी. रविवार को झरिया के महेश कुमार की पत्नी को प्रगति नर्सिंग होम में पैर की सर्जरी के बाद शरीर में खून की कमी बताते हुए डॉक्टर ने शीघ्र ही खून चढ़ाने को कहा. इसके बाद परिजन आनन-फानन में पीएमसीएच ब्लड बैंक खून के लिए  पहुंचे. लेकिन जब महेश कुमार ने अस्पताल में A+ ब्लड के बारे में पूछा तो ब्लड बैंक में कहा गया कि A+ ब्लड हमारे यहां उपलब्ध नहीं है.आप इस ब्लड ग्रुप के डोनर को ले आइए हमलोग ब्लड लेकर मरीज को खून चढ़ा देंगे. इसके बाद काफी भागदौड़ और मशक्कत के बाद डोनर मिलने के 5 घंटे बाद खून चढ़ाया गया.

इसे भी पढ़ें –लोहरदगा : कुरियर सिस्टम को अपना रहे हैं नक्सली : एसपी

डोनर कार्ड होने का क्या फायदा

महेश के पास पीएमसीएच का डोनर कार्ड भी है, जिससे कभी भी डोनर को एक बार ब्लड दान करने पर उसे बदले में बिना ब्लड बैंक में दोबारा बिना खून दिये खून मुहैया करा दिया जाता. लेकिन दूसरे की मदद करने वाले को जब खुद को जरूरत पड़ती है तो काफी निराशा होती है. सवाल उठना लाजमी है कि इतने बड़े अस्पताल में खून की कमी होने पर मरीजों की जान जोखिम में डालने की जवाबदेही किसकी है ? मानवता के नाते रक्तदान करने वाले को ही जब समय पर रक्त न मिले तो क्या उनका हौंसला नहीं टूटेगा?

silk_park

इसे भी पढ़ें –आस्था के महापर्व में दिखा सांप्रदायिक सौहार्द्रः मुस्लिम समुदाय के लोग बेच रहें सूप-दउरा

अस्पताल में फैली है हर तरफ अव्यव्स्था, अस्पताल प्रबंधन बेखबर

करोड़ों की लागत से बने अस्पताल पीएमसीएच में मेडिकल की पढ़ाई होती है. यह अस्पताल क्षेत्र का सबसे अधिक चिकित्सकीय सुविधा संपन्न होने का दावा करती है. लेकिन, हमेशा से अव्यवस्था के कारण सुर्खियों में छाया रहता है. न ही अस्पताल में सफाई की स्थिति अच्छी है और न ही आनेवाले मरीजों के लिये पर्याप्त दवा. न ही मरीजों के लिये पर्याप्त बेड और न ही खून. गौरतलब है कि मुख्यमंत्री, स्वास्थ्यमंत्री के साथ स्थानीय नेता भी इसकी व्यवस्था सुधारने की बात करते रहे हैं फिर अस्पताल की हालात दिन ब दिन बदतर होती जा रही है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: