न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएमसीएच के ब्‍लड बैंक में खून नहीं, मरीजों को हो रही है परेशानी

22

Dhanbad : झारखंड में प्रतिवर्ष लगभग 3.5 लाख यूनिट खून की जरूरत पड़ती है. लेकिन सालाना सिर्फ एक लाख 90 हजार यूनिट ही रक्तदान हो पा रहा है, जिसका असर धनबाद के सरकारी अस्पताल पीएमसीएच में भी दिखने को मिल रहा है. खून नहीं मिलने से मरीजों की जान भी चली जा रही है.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीह : एसयूवी से जब्त 15 लाख का दस्तावेज देने से इंकार, मालिक और गार्ड के बयान दोतरफा

ब्लड बैंक ने अपने हाथ खड़े किये

hosp3

कोयलांचल धनबाद के सबसे बड़े अस्पताल पीएमसीएच के ब्लड बैंक में खून की कमी से यंहा इलाजरत मरीजों को काफी परेशानियों का समाना करना पड़ रहा है. धनबाद पीएमसीएच 5 सौ बेड वाले इस बड़े सरकारी अस्पताल के ब्लड बैंक में करीब 900 यूनिट ब्लड संयोजने की क्षमता है. पिछले कई दिनों से इस ब्लड बैंक में खून की कमी है. कम रक्तदान होने से यहां जरूरतमंदों को खून की जरूरत पूरी नहीं हो पा रही है.

अत्यंत गंभीर मरीजों को भी समय पर खून नहीं मिल रहा है. खून के लिए संबंधित ग्रुप के डोनर की व्यवस्था परिजनों को करनी पड़ रही है. आपात स्थिति में किसी खास ग्रुप का खून उपलब्ध कराने में ब्लड बैंक ने अपने हाथ खड़े कर रखे हैं. खून की किल्लत के कारण सबसे अधिक परेशानी थैलेसीमिया से पीड़ि‍त बच्चों को हो रही है. हर महीने खून चढ़ाने की नौबत आ पड़ती है.

इसे भी पढ़ें – गिरिडीह के ओपेन कास्ट खदान की सुरक्षा के लिए जिस ग्राम पहरी का किया गया गठन, वही कर रहा है अब कोयले…

जल्‍द दूर होगी खूनी कमी

खून की कमी के कारण जरूरतमंद मरीजों के लिए स्वैच्छिक रक्तदाता जीवनदाता साबित हो रहे हैं. लोगों की सूचना पर संबंधित ग्रुप का डोनर भेजकर मरीजों की जरूरत पूरी कर रहे हैं. हलांकि पीएमसीएच अस्पताल के अधीक्षक एच के सिंह की माने तो ब्लड बैंक में ब्लड की कमी होली के कारण हुई है. फिलहाल ब्लड बैंक में खून की कमी के लिए रक्तदान करने वाले कई संस्थाओ से संपर्क किया जा रहा है, जल्द ही खून की कमी को दूर कर लिया जायेगा.

इसे भी पढ़ें – चुनाव 2019- राज्य की एजेंसियों ने 25 मार्च तक जब्त किये 22 लाख कैश व 29 हजार लीटर शराब

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: