Lead NewsMain SliderNationalNEWSTOP SLIDER

कांग्रेसी गुलाम नबी आजाद को राज्यसभा में विदाई देते हुए पीएम मोदी के छलके आंसू

कहा, सत्ता और पद संभालना गुलाम नबी से सीखनी चाहिए

New delhi : कांग्रेस के वरिष्ठ नेता गुलाम नबी आजाद को राज्यसभा से विदाई देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भावुक हो गये. रुआंसे स्वर में उन्होंने गुलाम नबी की जमकर तारीफ की है. मोदी के संबोधन के दौरान एक वक्त उनकी आंखें डबडबा गईं थीं. एक आतंकी घटना के बाद गुलाम नबी की ओर से किये गये फोन का जिक्र करते हुए उन्होंने उन्हें बेहद संवेदनशील व्यक्ति करार दिया.

 

मालूम हो कि जम्मू कश्मीर के चार राज्यसभा सांसदों का कार्यकाल खत्म हो गया है. इनमें गुलाम नबी आजाद, शमशेर सिंह, मीर मोहम्मद फैयाज, नादिर अहमद आदि शामिल हैं. राज्यसभा में इन चारों को विदाई देते हुए पीएम मोदी ने कहा, मैं आप चारों महानुभावों को इस सदन की शोभा बढ़ाने के लिए, आपके अनुभव, आपके ज्ञान का सदन को और देश को लाभ देने के लिए और आपने क्षेत्र की समस्याओं का समाधान के लिए आपके योगदान का धन्यवाद करता हूं.

इसे भी पढ़ेंःचमोली हादसाः 48 घंटे बाद भी झारखंड के लापता 15 लोगों का सुराग नहीं, परिवार हलकान, हेल्पलाइन नंबर जारी

पीएम मोदी ने खासकर गुलाम नबी आजाद का जिक्र करते हुए कहा, ‘ मुझे चिंता इस बात की है कि गुलाम नबी जी के बाद जो भी इस पद को संभालेंगे, उनको गुलाम नबी जी से मैच करने में बहुत दिक्कत पड़ेगी. क्योंकि गुलाम नबी जी अपने दल की चिंता करते थे, लेकिन देश और सदन की भी उतनी ही चिंता करते थे.’ पीएम ने कहा, पद आते हैं, उच्च पद आते हैं, सत्ता आती है और इन्हें किस तरह से संभालना है, यह गुलाम नबी आजाद जी से सीखना चाहिए. मैं उन्हें सच्चा दोस्त समझूंगा.

इसे भी पढ़ेंःRANCHI में ठेकेदार पंचम सिंह व आरआरडीए के पूर्व चेयरमैन परमा सिंह के ठिकानों पर इनकम टैक्स की दबिश

Related Articles

Back to top button