न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पीएम मोदी का राष्ट्र के नाम संदेश : करोड़ों देशभक्तों का सपना था,अनुच्छेद 370 को खत्म किया जाये

पीएम मोदी का जम्मू-कश्मीर को  लेकर राष्ट्र के नाम संदेश . सरदार पटेल का, अंबेडकर का, डॉक्टर  मुखर्जी का सपना पूरा हुआ  

80

NewDelhi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को जम्मू-कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 हटाये जाने के बाद राष्ट्र के नाम संदेश  दिया.  उन्होंने अनुच्छेद 370 को हटाये जाने को ऐतिहासिक फैसला बताया. कहा कि जो सपना सरदार पटेल का था, बाबा साहेब अंबेडकर का था, डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी का था, अटल बिहारी वाजपेयी और करोड़ों देशभक्तों का था, वो   पूरा हो गया है.  इस क्रम में पीएम मोदी ने कहा, एक राष्ट्र के तौर पर, एक परिवार के तौर पर, आपने, हमने, पूरे देश ने एक ऐतिहासिक फैसला लिया है. एक ऐसी व्यवस्था, जिसकी वजह से जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के हमारे भाई-बहन अनेक अधिकारों से वंचित थे, जो उनके विकास में बड़ी बाधा थी, वो अब दूर हो गयी है. कहा कि सरदार पटेल, बाबा साहेब अंबेडकर, डॉक्टर श्यामा प्रसाद मुखर्जी, अटल बिहारी वाजपेयी और करोड़ों देशभक्तों का सपना था कि अनुच्छेद 370 को खत्म किया जाये.

जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के भाई-बहनों की हानि हो रही थी

समाज जीवन में कुछ बातें, समय के साथ इतनी घुल-मिल जाती हैं कि कई बार उन चीजों को स्थाई मान लिया जाता है. ये भाव आ जाता है कि कुछ बदलेगा ही नहीं, ऐसे ही चलेगा. अनुच्छेद 370 के साथ भी ऐसा ही भाव था. उससे जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के हमारे भाई-बहनों की जो हानि हो रही थी, उसकी चर्चा ही नहीं होती थी. हैरानी की बात है कि किसी से भी बात करें, तो कोई ये भी नहीं बता पाता था कि अनुच्छेद 370 से जम्मू-कश्मीर के लोगों के जीवन में क्या लाभ हुआ.

Aqua Spa Salon 5/02/2020

पीएम मोदी ने कहा, हमारे देश में कोई भी सरकार हो, वह संसद में कानून बनाकर, देश की भलाई के लिए काम करती है. किसी भी दल की सरकार हो, किसी भी गठबंधन की सरकार हो, कार्य निरंतर चलता रहता है. कानून बनाते समय काफी बहस होती है, चिंतन-मनन होता है, उसकी आवश्यकता को लेकर गंभीर पक्ष रखे जाते हैं. इस प्रक्रिया से गुजरकर जो कानून बनता है, वो पूरे देश के लोगों का भला करता है. हालांकि कोई कल्पना नहीं कर सकता कि संसद इतनी बड़ी संख्या में कानून बनाये और वो देश के एक हिस्से में लागू ही नहीं हों.

 

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like