न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

अडानी-अंबानी के लिए काम कर रहे हैं पीएम मोदी: ओमीलाल आजाद

86

Bermo: बेरमो अनुमंडल के बोकारो थर्मल स्थित भाकपा कार्यालय में रविवार को गिरिडीह के पूर्व भाकपा विधायक ओमीलाल आजाद के आगमन पर स्वागत किया गया. पार्टी के नेताओं ने पूर्व विधायक को शॉल ओढ़ाकर स्वागत किया. बाद में पत्रकारों से बात करते हुए पूर्व विधायक ने कहा कि देश के प्रधानमंत्री वर्त्‍तमान में अडानी और अंबानी के लिए काम कर रहे हैं और उनका पूरा कार्यकाल कांग्रेस, देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरु से लेकर सोनिया गांधी के क्रियाकलापों और उनकी आलोचना करने में ही बीत गया.

पंडित नेहरु ने आधुनिक भारत की रखी थी नींव

पूर्व विधायक ने कहा कि पंडित नेहरु ने देश में औद्योगिक बुनियाद के साथ ही आधुनिक भारत की नींव रखी थी. जिसे कभी भी भुलाया या नजरअंदाज नहीं किया जा सकता है. 1991 में नरसिंहा राव की सरकार ने देश में मुक्त व्यापार की नीति को प्रोत्साहित किया था. उन्होंने कहा कि प्रघानमंत्री के नोटबंदी के अविवेकपूर्ण फैसले से देश को 9 लाख करोड़ रुपये का नुकसान उठाना पड़ा है. जिसे देश की सरकारी संस्थाओं ने भी कबूल किया है.

पूर्व विधायक ने कहा कि 2019 में देश में दोबारा जीत हासिल करने के लिए अभी से ही सभी प्रकार के हथकंडों को तैयार किया जाने लगा है और इसी के तहत राम मंदिर का मुद्दा को प्रमुखता से उठाकर देश में धार्मिक उन्माद को फैलाने की तैयारी की जा चुकी है. देश के संवैधानिक संस्थाओं सीबीआई, सुप्रीम कोर्ट, आरबीआई आदि सरकार की अनावश्यक दखलअंदाजी के कारण बगावत के मूड में हैं. उन्होंने कहा कि देश के नौजवानों की स्थिति काफी अंधकारमंय हो चुकी है.

सरकारी स्कूलों की स्थिति बदतर

Related Posts

#JAP4  बोकारो ने बिना मेडिकल टेस्ट लिये जारी कर दिया ‘नियुक्त’ अभ्यर्थियों का परिणाम

12 सितंबर को चयनित अभ्यार्थियों के नाम प्रकाशित होने के बाद दो कर्मचारियों को किया गया निलंबित 

सरकारी स्कूलों के शिक्षकों की स्थिति पहले से भी बदतर हो चुकी है. ठेका पर स्कूलों में शिक्षकों को रखा जाने लगा है. झारखंड सहित अन्य राज्यों की स्थिति भी कमोबेश इसी प्रकार की हो गयी है. झारखंड में पारा शिक्षकों द्वारा अपनी मांगों को मांगे जाने के बाद सरकार द्वारा जो कदम उठाये गये यदि वे सही होते तो पारा शिक्षकों को हाई कोर्ट से जमानत नहीं मिलती. राज्य में विस्थापितों के लिए सरकार की अब तक कोई ठोस नीति नहीं बन पायी है.

डीवीसी सप्लाई मजदूरों की स्थिति जायज

डीवीसी बोकारो थर्मल एवं चंद्रपुरा के सप्लाई मजदूरों के द्वारा वर्षों से स्थायीकरण की मांग पर उनका कहना था कि सप्लाई मजदूरों की मांग जायज है. लेकिन, सरकार की वर्तमान नीतियों के कारण उनका स्थायीकरण नहीं किया जा रहा है. मौके पर राज्य परिषद सदस्य मो शाहजहां, जिला कार्यकारिणी के सदस्य चंद्रशेखर झा, एटक कथारा के सचिव रामेश्वर साव, शाखा सचिव ब्रजकिशोर सिंह, नवीन कुमार पाठक, एसके झा, जानकी महतो, राजकिशोर सिंह, गणेश घांसी, सत्यजीत राय आदि मौजूद थे.

इसे भी पढ़ें- ढुल्लू महतो के खिलाफ रांची में मीडिया के सामने खुलकर आयीं भाजपा नेत्री, कहा- विधायक ने मुझ पर बार-बार हमबिस्तर होने का दबाव डाला

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like

you're currently offline

%d bloggers like this: