Lead NewsNationalTOP SLIDER

बहुत घमंड में थे PM नरेंद्र मोदी, मेरी 5 मिनट में ही हो गई लड़ाई, बोले मेरे लिए मरे क्या किसान ? मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने सुनाई खरी-खरी

New Delhi : मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक  अपनी बेबाकी के लिए जाने जाते हैं. वे कृषि कानूनों को लेकर लगातार मोदी सरकार पर निशाने पर लेते रहे हैं. हालांकि कृषि कानूनों की वापसी के बाद उन्होंने पीएम मोदी की तारीफ भी की थी लेकिन एक बार फिर से उन्होंने सीधे प्रधानमंत्री पर हमला बोला है. दादरी में उन्होंने किसानों से कहा कि पीएम से मैं मिलने गया तो वो बहुत घमंड में थे, मेरा उनसे झगड़ा हो गया. इतना ही नहीं उन्होंने बताया कि पीएम मोदी ने उनसे क्या कहा है.

दरअसल, हरियाणा के दादरी में किसानों के एक कार्यक्रम में मेघालय के गवर्नर सत्यपाल मलिक रविवार को पहुंचे थे. इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इसी कार्यक्रम में उन्होंने कहा कि मैं जब किसानों के मामले में प्रधानमंत्री जी से मिलने गया तो उनसे मेरी पांच मिनट में लड़ाई हो गई. वो बहुत घमंड में थे. जब मैंने उनसे कहा कि हमारे 500 लोग मर गए तो उन्होंने कहा कि मेरे लिए मरे हैं क्या ? मैंने कहा आपके लिए ही तो मरे थे जो आप राजा बने हुए हो. फिर उन्होंने कहा कि आप अमित शाह से मिल लो. मैं अमित शाह से मिला.

इसे भी पढ़ें :सीएम नीतीश के जनता दरबार में पहुंचे छह फरियादी कोरोना संक्रमित, मचा हड़कंप

ram janam hospital
Catalyst IAS

ईमानदारी की ताकत की बदौलत प्रधानमंत्री से लिया पंगा

The Royal’s
Sanjeevani
Pushpanjali
Pitambara

इतना ही नहीं इसके बाद पत्रकारों से बात करते हुए उन्होंने कृषि कानूनों को वापस लेने के सरकार के फैसले पर कहा कि प्रधानमंत्री ने जो कहा उसके अलावा वो कह भी क्या सकते थे. हमने अपने पक्ष में फैसला कराया है.

मलिक ने कहा कि वे राज्यपाल, मंत्री, सांसद व विधायक रह चुके हैं. लेकिन सेवानिवृत्ति के बाद उनके पास रहने के लिए अपना मकान नहीं है. हमेशा ईमानदारी से काम किया. यही उनकी ताकत है. मलिक ने कहा कि इसी ताकत की बदौलत ही उन्होंने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से पंगा लिया है.

उन्होंने कहा कि लोगों की एकता व सभी परिस्थितियों में डटे रहने की वजह से ही तीनों कृषि कानून वापिस हुए हैं. उन्होंने कहा कि यदि दोबारा से आंदोलन हुआ तो वे राज्यपाल पद भी छोड़ देंगे.

बता दें कि मेघायल के गवर्नर सत्यपाल मलिक पिछले काफी समय से कई बार किसानों के मुद्दे पर सरकार की लाइन से हटकर बयान दे चुके हैं. इतना ही नहीं कई बार वह सरकार की आलोचना भी कर चुके हैं. हालांकि कृषि कानूनों की वापसी के बाद मलिक ने पीएम मोदी की जमकर प्रशंसा भी की थी. उन्होंने फैसले का स्वागत करते हुए कहा था कि देर आए, दुरुस्त आए.

इसे भी पढ़ें :रूपा तिर्की मौत मामलाः झारखंड हाईकोर्ट से शिव कुमार कनौजिया को मिली जमानत

 

Related Articles

Back to top button