न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

उद्योगपतियों के पक्ष में पीएम मोदी, कहा- उद्योग व्यापार की आलोचना करने की संस्कृति में उनका विश्वास नहीं है

उद्योग जगत अपना कारोबार के साथ-साथ उल्लेखनीय सामाजिक कार्य भी कर रहा है.

65

Delhi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के उद्योग जगत के पक्ष में एक बार फिर से अपना मजबूत समर्थन दर्शाते हुए बुधवार को कहा कि उद्योग व्यापार की आलोचना करने की संस्कृति में उनका विश्वास नहीं है. मोदी ने कहा, उनका मानना है कि उद्योग जगत अपना कारोबार के साथ-साथ उल्लेखनीय सामाजिक कार्य भी कर रहा है.

उन्होंने यह भी इच्छा जतायी कि देश के नागरिक न केवल ईमानदारी से कर अदा करें बल्कि सामाजिक बदलाव के लिये भी अपनी तरफ से थोड़ा योगदान करें.

Sport House

इसे भी पढ़ें : सीबीआई रिश्वत मामला: कस्टडी में CBI डीएसपी, स्पेशल डायरेक्टर को मिली अंतरिम राहत

उद्योगपतियों को गाली देना एक फैशन बन गया

प्रधानमंत्री ने आईटी पेशेवरों एवं विनिर्माण क्षेत्र से जुड़े लोगों को टाउनहॉल संबोधन में कहा कि हमारे देश में कारोबारियों, उद्योगपतियों को गाली देना सामान्य बात है. मुझे नहीं पता कि इसका कारण क्या है लेकिन यह एक फैशन बन गया. मैं इस प्रकार की सोच से सहमत नहीं हूं. उन्होंने आईटी पेशेवरों और प्रौद्योगिकी क्षेत्र के दिग्गजों से सामाजिक बदलाव लाने के लिये अपनी विशेषज्ञता और श्रम शक्ति का योगदान देने को कहा.

उन्होंने कहा कि हमने टाउनहाल के कार्यक्रम में देखा कि कैसे अग्रणी कंपनियां शानदार सामाजिक कार्य कर रही हैं.

Vision House 17/01/2020

इसे भी पढ़ें : सीबीआई में जारी घमासान के लिए प्रधानमंत्री मोदी जिम्मेदार: पृथ्वीराज चव्हाण

उद्योगपतियों के साथ खड़े होने से नहीं डरते : प्रधानमंत्री

Related Posts

पूर्व आईएएस अधिकारी  #Kannan_Gopinathan प्रयागराज एयरपोर्ट पर हिरासत में लिये गये

खबरों के अनुसार गोपीनाथन नागरिकता संशोधन कानून (CAA) के विरोध में आयोजित कार्यक्रम में शामिल होना था.

यह दूसरा मौका है जब मोदी भारतीय उद्योगपतियों के पक्ष में मुस्तैदी से खड़े हुए. इससे पहले, जुलाई में मोदी ने कहा था कि वह उद्योगपतियों के साथ खड़े होने से नहीं डरते क्योंकि वह यह मानते हैं कि उनका भी देश के विकास में उतना ही योगदान है जितना कि दूसरों का.

SP Deoghar

मोदी ने कहा कि उनकी सरकार में अधिक लोग कर दे रहे हैं क्योंकि उन्हें भरोसा है कि उनके धन का उपयोग समुचित तरीके से हो रहा है. उन्होंने कर से आगे बढ़कर भी समाज के लिये कुछ देने की व्यवस्था की वकालत की जिसमें नागरिक ईमानदारी से कर देने के साथ ही थोड़ा समाज के लिये भी योगदान दें.

इसे भी पढ़ें : सीबीआई विवाद :  कांग्रेस 26 अक्टूबर को देशभर में सीबीआई कार्यालयों पर करेगी प्रदर्शन  

प्रधानमंत्री ने कहा कि भविष्य प्रौद्योगिकी पर निर्भर है. जिसका उपयोग दुनिया की तीव्र वृद्धि वाली अर्थव्यवस्था के समक्ष मसलों के समाधान के विकास में किया जाना चाहिए.

ईंधन की बढ़ती कीमत का जवाब इलेक्ट्रिक वाहन

अंतरराष्ट्रीय बाजार में तेल के दाम में हाल की तेजी से देश में खुदरा ईंधन की कीमत बढ़ने को लेकर मची घबराहट के बीच मोदी ने कहा कि इलेक्ट्रिक वाहनों को अपनाना इसका जवाब है और वह चाहते हैं कि घरेलू सामाजिक उद्यमी कम लागत वाला माडल विकसित करें. जिसमें सस्ती और आसानी से चार्ज होने वाली बैटरी हो.

इसे भी पढ़ें : संयुक्त राष्ट्र ने दिल्ली में अपने कार्यालय को भारत की सांस्कृतिक धरोहर को किया समर्पित

कार्यक्रम में टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज, काग्नीजेंट, टेक महिंद्रा और माइंडट्री जैसी कंपनियों ने उनके और उनके कर्मचारियों द्वारा समाज के लिये किये जा रहे कार्यों की जानकारी दी. उन्होंने हाल में पेश सेल्फ 4 सोसाइटी के समर्थन को लेकर अपनी प्रतिबद्धता भी दिखायी.

Mayfair 2-1-2020

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like