JharkhandKhas-KhabarLead NewsRanchiTOP SLIDER

रांची के बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय को पीएम मोदी ने किया राष्ट्र को समर्पित

इतिहासकारों से आदिवासी समाज और योद्धाओं के संघर्ष का इतिहास फिर से लिखने की अपील

Ranchi : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने रांची में स्थापित भगवान बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय राष्ट्र को समर्पित करते हुए कहा कि जिस धरती पर भगवान बिरसा के कदम पड़े, वह हम सभी के लिए तीर्थस्थल है. भगवान बिरसा मुंडा और सैकड़ों आदिवासी योद्धाओं ने भारत की आजादी, अस्मिता और गौरव के लिए आजादी की लड़ाई के हर कालखंड में संघर्ष किया.

बिरसा एक व्यक्ति नहीं बल्कि एक परंपरा हैं- पीएम

उन्होंने कहा कि रांची का यह संग्रहालय, स्वाधीनता संग्राम में आदिवासी नायक-नायिकाओं के योगदान का, विविधताओं से भरी हमारी आदिवासी संस्कृति का जीवंत अधिष्ठान बनेगा.भारत की पहचान और भारत की आजादी के लिए लड़ते हुए भगवान बिरसा मुंडा ने अपने आखिरी दिन रांची की इसी जेल में बिताए थे. भगवान बिरसा मुंडा की स्मृतियों को नमन करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि उन्होंने अपने समाज में फैली कुरीतियों को और गलत सोच के खिलाफ आवाज उठाने का साहस किया बल्कि उनको बदलने की भी ताकत रखी. उन्‍होंने विदेश सोच और ताकत को घुटनों पर ला दिया था. पीएम मोदी ने कहा कि वो केवल एक व्‍यक्ति नहीं बल्कि एक परंपरा हैं.

आदिवासी इतिहास का गौरव

प्रधानमंत्री ने देश के इतिहासकारों से आदिवासी विभूतियों के संघर्ष, त्याग और बलिदान से जुड़े इतिहास का पुनर्लेखन का अभियान चलायें क्योंकि इन सेनानियों को जो पहचान मिली थी, वह आज तक नहीं उन्होंने देश के विद्यार्थियों से अपील की कि वे रांची स्थित इस संग्रहालय में जायें और जनजातीय समाज की संस्कृति को देखें-समझें. यहां बहुत कुछ ऐसा है, जिसे हमें सीखना-समझना चाहिए. प्रधानमंत्री ने कहा कि देशभर में ऐसे 9 संग्रहालय बनने हैं. इन म्यूजियम से ना सिर्फ देश की नयी पीढ़ी आदिवासी इतिहास के गौरव से परिचित होगी बल्कि इन क्षेत्रों में पर्यटन को भी नयी गति मिलेगी. यह आदिवासी समाज के गीत- संगीत, कला, कौशल, शिल्पकलाओं का भी संरक्षण करेगी.

स्वंत्रता संग्राम में आदिवासी समाज और इसके योद्धाओं के संघर्ष को रेखांकित करते हुए प्रधानमंत्री ने कहा कि पूरे स्वतंत्रता संग्राम के दौरान कोई भी कालखंड ऐसा नहीं रहा, जब देश के किसी न किसी हिस्से में आदिवासी समाज अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ क्रांति नहीं कर रहा था.

झारखंड स्थापना दिवस की बधाई

प्रधानमंत्री ने झारखंड के लोगों को राज्य स्थापना दिवस की भी बधाई दी. झारखंड के गठन में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के योगदान का स्मरण करते हुए उन्होंने कहा कि अटल जी की इच्छा के कारण झारखंड राज्य बना. उन्होंने ही अलग आदिवासी मंत्रालय का गठन किया था. प्रधानमंत्री ने कहा, झारखंड राज्य स्थापना दिवस के मौके पर अटल जी के चरणों में नमन करते हुए श्रद्धांजलि देता हूं.

बिरसा मुंडा स्मृति उद्यान सह स्वतंत्रता सेनानी संग्रहालय के लोकार्पण समारोह के दौरान रांची में आयोजित समारोह में केंद्रीय जनजातीय कार्य मंत्री अर्जुन मुंडा, झारखंड के राज्यपाल रमेश बैस, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, रांची के सांसद संजय सेठ सहित कई लोग उपस्थित रहे.

और गुटों में शुरू हो गयी नारेबाजी…..

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जैसे ही संग्रहालय के उद्घाटन का बटन दबाया वैसे ही कार्यक्रम में मौजूद लोगों ने भारत माता की जय, प्रधानमंत्री जिंदाबाद के नारे लगाने शुरू कर दिये. थोड़ी देर बाद ये नारे दलों के नारे के रूप में बदल गया. एक तरफ भाजपा समर्थक प्रधानमंत्री जिंदाबाद के नारे लग रहे थे. वहीं, दूसरी ओर झामुमो समर्थक शिबू सोरेन जिंदाबाद और हेमंत भैया जिंदाबाद के नारे लगा रहे थे. प्रधानमंत्री के पूरे संबोधन के दौरान दोनों ओर से नारेबाजी जारी रही. झामुमो समर्थकों की नारेबाजी उस वक्त और तेज हो गयी जब केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा धन्यवाद ज्ञापन करने मंच पर आये. श्री मुंडा ने उसी हंगामे में अपना स्वागत भाषण खत्म किया.

झारखंड के वीर सपूतों की आवाज देश के कोने-कोने में सुनायी पड़ रही हैः मुख्यमंत्री

राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा कि आज झारखंड के वीर सपूतों की आवाज देश के कोने-कोने में गुंज रहा है. झारखंड का इतिहास अपने आप में अलग पहचान रखता है. आदिवासी समाज का जीवन संघर्ष में ही बीतता है. मुख्यमंत्री ने कहा कि झारखंड वीरों की भूमि है. संथाल, कोल्हान, पलामू, उत्तरी दक्षिणी छोटानागपूर के हर कोने से वीर सपूतों ने जन्म लिया है. जहां आनेवाली पीढ़ियां प्रकृति की रक्षा करने की लड़ाई लड़ी.

राज्यपाल व मुख्यमंत्री समेत सारे लोगों ने संग्रहालय का निरीक्षण किया

कार्यक्रम के बाद राज्यपाल रमेश बैस व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन समेत सारे गणमान्य लोगों ने पूरा संग्रहालय परिसर का निरीक्षण किया. मौके पर केंद्रीय पर्यटन मंत्री जी कृष्णन रेड्डी, केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा, सांसद संजय सेठ, विधायक सीपी सिंह समेत कई लोग शामिल थे.

इसे भी पढ़ें : सीएम रोगी सहायता योजना के तहत मरीजों को दस हजार रुपये तक की मदद

Advt

Related Articles

Back to top button