न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

PM मोदी ने जल संसाधन मंत्री से कहा- पता लगाएं क्यों ब्रह्मपुत्र नदी का पानी हो रहा है काला

101

New Delhi : प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने विदेश मंत्रालय, जल संसाधन मंत्रालय से ब्रह्मपुत्र का जल काला पड़ने का कारण पता लगाने और इसके उपचारात्मक कदम उठाने को कहा. असम सरकार की ओर से जारी बयान के अनुसार, प्रधानमंत्री ने यह निर्देश अपनी अध्यक्षता में हुई उच्च स्तरीय बैठक में दी. जिसमें केंद्रीय मंत्री सुषमा स्वराज, राजनाथ सिंह, नितिन गडकरी, अरूण जेटली, असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल ने हिस्सा लिया.

युद्धस्तर पर उपचाासत्मक कदम उठाए मंत्रालय 

मोदी ने सोनोवाल को आश्वस्त किया कि केंद्र पहले ही ब्रह्मपुत्र नदी के जल के काला होने की घटना को गंभीरता से ले रही है और केंद्रीय जल आयोग इस मामले को देख रहा है और साथ ही जल संसाधन मंत्रालय को मामले में युद्धस्तर पर उपचाासत्मक कदम उठाने को कहा. ब्रह्मपुत्र नदी के मुद्दे को कई देशों से जुड़े होने को देखते हुए प्रधानमंत्री ने विदेश मंत्रालय से भी इस विषय को संबंधित देश के साथ उठाने को कहा और इसके कारणों का पता लगाने एवं एक सकारात्मक समाधान निकालने को कहा.

hosp3

यह भी पढ़ें: ब्रह्मपुत्र का जल प्रवाह मोड़ने के लिए सुरंग बनाने पर विचार कर रहा चीन

जल के रासायनिक एवं भौतिकी संयोग का पता जगाने के लिए किया जा रहा है वैज्ञानिक जांच 

सुषमा स्वराज ने कहा कि उनका मंत्रालय पहले ही इस विषय पर चीन के साथ सम्पर्क में है और इसके वास्तविक कारणों का पता लगाने के लिये विस्तृत अध्ययन किये जा रहे हैं. प्रधानमंत्री ने अन्य मंत्रालयों को भी समन्वय के साथ इस विषय पर काम करने को कहा और जल संसाधन मंत्रालय से ब्रह्मपुत्र नदी के जल की वैज्ञानिक जांच करना सुनिश्चित करने को कहा ताकि नदी जल के रासायनिक एवं भौतिकी संयोग का पता जगाया जा सके जहां यह काला पड़ गया है .

15 स्थानों का जल इंडियन इंस्टीट्यूट आफ केमिकल टेक्नोलाजी, हैदराबाद भेजने की तैयारी

असम के मुख्यमंत्री सर्वानंद सोनोवाल से प्रधानमंत्री को बताया कि राज्य सरकार ने असम आपात एवं अग्निशमन सेवा के महानिदेशक को 15 स्थानों पर जल के नमूने लेने को कहा है और उसे हैदराबाद स्थित इंडियन इंस्टीट्यूट आफ केमिकल टेक्नोलाजी को भेजने को कहा गया है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

You might also like
%d bloggers like this: