न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

खूंटी पुलिस की लगातार कार्रवाई से बैकफुट पर पीएलएफआईः 25 दिन में मारे गए 6 उग्रवादी

590

Khunti: हाल के कुछ महीनों में खूंटी पुलिस के द्वारा लगातार की जा रही कार्रवाई से इलाके में पीएलएफआई उग्रवादी संगठन बैकफुट पर नजर आ रहे हैं. पिछले एक महीने के दौरान खूंटी पुलिस ने कई बड़ी कार्रवाई करते हुए पीएलएफआई उग्रवादी संगठन को बैकफुट पर जाने के लिए मजबूर कर दिया है. जहां पुलिस ने पिछले 25 दिनों के दौरान 6 पीएलएफआई उग्रवादियों को मार गिराया है तो वहीं पीएलएफआई उग्रवादी के गन फैक्ट्री का उद्दभेदन किया और बंकर को भी ध्वस्त किया. पुलिस के द्वारा लगातार जारी इस कार्रवाई से नक्सली घटनाओं में भी कमी देखी जा रही है.

नक्सली गतिविधियों में आयी कमी

पुलिस और सीआरपीएफ जवानों द्वारा लगातार की जा रही छापेमारी अभियान से पीएलएफआई उग्रवादियों को जहां काफी नुकसान उठाना पड़ा है. तो वहीं पुलिस के द्वारा की जा रही इस कार्रवाई में उग्रवादियों कमर टूट गई है. जिसके कारण नक्सली गतिविधियों में कमी आई है. वहीं इस मामले में खूंटी जिले के एसपी आलोक का कहना है कि यह कार्रवाई लगातार जारी रहेगी. नक्सली संगठनों के किसी भी मंसूबों को सफल नहीं होने दिया जाएगा.

भागने में सफल रहा था दिनेश गोप

9 फरवरी को पीएलएफआइ सुप्रीमो दिनेश गोप और उसके दस्ते के साथ खूंटी जिले के रनिया थाना क्षेत्र में एसटीएफ की एक घंटे के अंतराल में दो बार मुठभेड़ हुई थी. बारिश और जंगल का फायदा उठाकर उग्रवादी भागने में सफल रहे. इस मुठभेड़ में दिनेश गोप और गुजू गोप भी शामिल थे. लेकिन पुलिस को भारी पड़ता देख घने जंगल का फायदा उठाकर भागने में सफल रहा था. हालांकि पुलिस ने दिनेश गोप की बाइक बरामद की थी.

दिनेश गोप का करीबी प्रभु सहाय बोदरा ढेर

29 जनवरी 2019 को खूंटी में हुए मुठभेड़ में मारा गया दो लाख का इनामी और पीएलएफआई एरिया कमांडर प्रभु सहाय बोदरा मुरहू के सिंयाकेल गांव का रहने वाला था. वह दिनेश गोप का काफी करीबी माना जाता था. प्रभु सहाय बोदरा का तीन जिलों में खौफ था. खूंटी के मुरहू, पश्चिमी सिंहभूम के गोइलकेरा, गुदड़ी, सोनुवा, कराईकेला व बंदगांव के अलावा सरायकेला-खरसावां के कुचाई थाना क्षेत्र में के सीमावर्ती इलाके यानी पत्थलगड़ी प्रभावित इलाके में उसकी दहशत थी. खूंटी जिले के भाजपा नेता भैयाराम मुंडा समेत दर्जनभर हत्याकांड में वह आरोपी भी था.

हाल के दिनों में पुलिस को मिली कुछ बड़ी सफलताएं

29 जनवरी 2019- खूंटी के अड़की में मुठभेड़ में पुलिस ने पीएलएफआई के पांच उग्रवादियों को मार गिराया. वहीं दो घायल उग्रवादी सोमा पूर्ति और प्रवीण मुंडा गिरफ्तार कर लिया गया था. और भारी मात्रा में हथियार भी बरामद किया गया था.

9 फरवरी 2019- को पुलिस मुठभेड़ में घायल हुए पीएलएफआई एरिया कमांडर दीत नाग और उसका इलाज करने वाले डॉक्टर सहित 4 लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया था.

14 फरवरी 2019- खूंटी के रनिया थाना क्षेत्र के मेरामबीर जंगल में पुलिस और 209 कोबरा बटालियन की पीएलएफआई नक्सलियों से मुठभेड़ हुई. मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने पीएलएफआई के एक उग्रवादी को ढेर कर दिया. उसके पास से एक जर्मन राइफल भी बरामद की गयी थी.

21 फरवरी 2019- खूंटी में पुलिस ने नक्सलियों के गन फैक्ट्री का उद्भे्दन किया. मुरहू थाना क्षेत्र के कंकुसी जंगल में जमीन के अंदर गन फैक्ट्री चल रही थी. सर्च ऑपरेशन के दौरान पुलिस ने इसका खुलासा किया. बाद में बंकर को ध्वस्त कर दिया गया.

पुलिस के मुताबिक यह फैक्ट्री पीएलएफआई उग्रवादियों की थी. पुलिस ने मौके से अर्धनिर्मित पिस्टल, जेनरेटर ,हथियार बनाने के औजार बरामद किये. यहां पर बने हथियारों का उपयोग नक्सली अपने लिए करते थे,साथ ही लोकल एरिया में भी भेजते थे.

इसे भी पढ़ेंः पुलवामा अटैकः एजेंसी के हाथ लगी अहम जानकारी- 2010 मॉडल की कार से हुआ आत्मघाती हमला

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: