Crime NewsGumlaJharkhand

गलतफहमी में की गयी थी सतेश्वर सिंह की हत्या, PLFI एरिया कमांडर गिरफ्तार

Gumla: गलतफहमी में सतेश्वर सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी गयी थी. पुलिस ने इस हत्याकांड का खुलासा कर लिया है. एसपी हरदीप पी जनार्दन के निर्देश पर पुलिस टीम ने कार्रवाई करते हुए कामडारा थाना के कई नक्सली कांडों के वांछित PLFI एरिया कमांडर कलेश्वर हजाम उर्फ टेम्पू हजाम को गिरफ्तार किया है.

इसे भी पढ़ें- बिकरू कांड में वांछित दो अभियुक्तों ने कोर्ट में किया सरेंडर

गलतफहमी में की गयी सतेश्वर सिंह की हत्या

पुलिस के द्वारा पूछताछ में कलेश्वर हजाम उर्फ टेम्पू हजाम ने बताया की गलतफहमी में सतेश्वर सिंह की हत्या हो गयी. जबकि पुलिस मुखबिरी करने और लेवी वसूलने में बाधा उत्पन्न करने के आरोप में PLFI के तिलकेश्वर सिंह ने मुरुमकेला के जलेश्वर सिंह को मारने का निर्देश दिया था.

जिसके बाद जलेश्वर सिंह को पहचानाने के लिए एक मुरुमकेला निवासी से मतदाता सूची की फोटो को व्हाट्सएप्प पर मंगाया गया था. बाद में मतदाता सूची भी मंगाया था. घटना के दिन फुटबॉल मैच के दौरान टेम्पू हजाम, गोपाल होरो एवं अन्य 2-3 नक्सली मैदान में पहुंचे. फुटबॉल मैदान में सतेश्वर सिंह जिसका हुलिया जलेश्वर सिंह के समान ही गंजा और मोटी मूंछ वाला था. उसको जलेश्वर सिंह समझकर टेम्पू हजाम की निशानदेही पर गोपाल होरो और सहयोगी नक्सलियों ने गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी.

इसे भी पढ़ें- पुलिस कार्रवाई के बाद भी जारी है गांजा तस्करी, ओडिशा से झारखंड समेत कई राज्यों में होता है सप्लाई

पिता के सामने मार दी गयी बेटे को गोली

कामडारा थाना क्षेत्र के गांव मुरुम केला स्थित इंद डांड में फुटबॉल मैच चल रहा था. इस दौरान अज्ञात अपराधियों ने मुरुम केला निवासी सतेश्वर सिंह की गोली मारकर हत्या कर दी. अपराधियों ने जिस समय सतेश्वर सिंह को गोली मारी उस समय उसके पिता भी वहां मौजूद थे.

घटना बीते 10 अगस्त की शाम लगभग पांच बजे के आसपास की थी. सूचना के बाद मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया था. जिसके बाद पुलिस हत्या की जांच में जुट गयी थी.

बताया जा रहा है कि सतेश्वर सिंह ऑटो चालक था. साथ ही अनुमंडल ऑटो यूनियन की कोर कमेटी का सदस्य भी था. शाम को वह फुटबॉल मैच देख रहा था. इसी दौरान दो अज्ञात अपराधी उसके पास पहुंचे और उसके सिर पर गोली मार दी. इसके बाद दोनों अपराधी पैदल ही तेतर टोली गांव की ओर चलते बने.

इसे भी पढ़ें- SC में बोले प्रशांत भूषण : नहीं मांगूंगा माफी, दया दिखाने को नहीं कह रहा, जो सजा मिलेगी मंजूर

6 Comments

  1. I love looking through a post that can make people think. Also, many thanks for permitting me to comment!

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button