HEALTHJharkhandLead NewsRanchi

सेहत से खिलवाड़ :  सुबह चढ़ा रहे चूल्हे पर कढ़ाई, शाम तक उसी छान रहे समोसे, कचौड़ी और पकोड़े

Ranchi : हम में से अधिकतर लोगों को बाजार से तली हुई चीजें जैसे समोसे, कचौड़ी, आलूचॉप, कटलेट और पकौड़ी खाना अच्छा लगता है, लेकिन हम इस बात को नजरअंदाज करते हैं कि ये सेहत को कितना नुकसान पहुंचा सकती हैं.

इतना ही नहीं लगातार ये चीजें खाने से लोग खतरनाक बीमारियों की चपेट में आ रहे हैं. इसका खुलासा पिछले दिनों राजधानी में टेस्ट किए गए सैंपल की रिपोर्ट में हुआ है. जहां सुबह से चढ़ी कढ़ाई में ही शाम तक समोसे और पकौड़े तले जा रहे है. जिससे कि इस्तेमाल किया जाने वाला तेल खतरनाक केमिकल तैयार कर रहा है. जो सीधे हमारे शरीर में जा रहा है. ऐसे में फूड सेफ्टी डिपार्टमेंट ऐसे दुकानदारों पर जल्द ही कार्रवाई करने की भी तैयारी है.

मानकों में हो जा रहे फेल

ram janam hospital
Catalyst IAS

नमकीन, कचौड़ी, समोसे व बाजार की अन्य तली हुई खाद्य सामग्री के शौकीन लोग अब थोड़ा संभलकर ही इन्हें खाएं.  क्योंकि यहां उपयोग किए जा रहे खाद्य तेलों में से 25 फीसदी खाद्य तेल बार -बार उपयोग करने से मानकों पर फेल हो जा रहे है. वहीं इन तेलों में तले गए खाने के सामान शरीर में कई प्रकार के तत्वों की बढ़ोत्तरी कर वे दिल का खतरा बढ़ा रहे हैं. इसके अलावा कई अन्य बीमारियों को दावत भी दे रहे है.

The Royal’s
Pitambara
Pushpanjali
Sanjeevani

इसे भी पढ़ें :जमशेदपुर : आज के युग में महिलाओं को स्वयं अपनी रक्षा करने की जरूरतः साध्वी सरस्वती

कमाई के चक्कर में सेहत से खिलवाड़

एफएसएसएआई के स्टैंडर्ड के अनुसार निर्देश हैं कि एक बार कढ़ाई में तेल भरने के बाद उसे दो या अधिकतम तीन बार उपयोग करने के बाद हटा देना चाहिए. लेकिन तो कमाई के चक्कर में दुकानदार और मालिक जो तेल सुबह कढ़ाई में चढ़ाया उसे उतारते भी नहीं. उसी में तेल डाल कर उपयोग करते रहते है. रात तक वही तेल जलकर काला हो जाता है.

इसे भी पढ़ें :बुंडू में जमीन घोटालाः जमीन दलालों ने जंगल-झाड़ की 310 एकड़ जमीन भी बेच डाली, वन विभाग ने डीसी से दर्ज कराई आपत्ति

सैंपल टेस्टिंग से हुआ खुलासा

फूड सेफ्टी डिपार्टमेंट समय-समय पर राजधानी के अलग-अलग इलाकों में अभियान चलाता है. वहीं आन स्पॉट सैंपल की टेस्टिंग भी की जाती है. लेकिन नमकीन की दुकान, हॉकर्स कॉर्नर और मिठाइयों की दुकानों से लिए गए सैंपलों की जांच में ये बातें सामने आई है. इस्तेमाल किए जाने वाली इन तेलों में न्यूट्रीशंस की जो वैल्यू होनी चाहिए थी उसमें कमी और अधिकता भी पाई गई.

इसे भी पढ़ें :गढ़वा में प्रेम प्रसंग में युवक की पीट-पीटकर हत्या, मौके पर पुलिस मौजूद

शहर में बढ़ गए ठेले

कोरोना से पहले शहर में करीब 4000 से अधिक समौसे, कचौड़ी, छोले भटूरे, आलू बड़े, ढुस्का के ठेले हुआ करते थे. लेकिन कोविड के समय कई लोग बेरोजगार हो गए. इस वजह से लोगों ने ठेले और खोमचे की दुकानें लगा ली. जिससे कि दुकानें बढ़कर 6 हजार से अधिक पहुंच गई है. वहीं दुकानें बढ़ने की वजह से विभाग भी ज्यादा दुकानों की सैंपल टेस्टिंग नहीं कर पा रहा है.

इसे भी पढ़ें :MOTHERS DAY : वृद्धाश्रम में सिसक रहीं माताएं, बिना बच्चों के कैसा मदर्स डे

डॉक्टर बोले, कैंसर, लिवर जैसी बीमारी का खतरा

डॉ बी कुमार के अनुसार जले हुए तेल का लंबे समय तक उपयोग करने से अल्जाइमर, एसिडिटी, गॉल ब्लैडर का कैंसर, लिवर कैंसर और स्किन से जुड़ी कई बीमारियां भी हो सकती हैं.

………….

फूड टेस्टिंग लैब के इंचार्ज चतुर्भुज मीणा ने बताया कि टेस्टिंग कर रिपोर्ट देना उनका काम है. इसके बाद आगे की कार्रवाई के लिए संबंधित अधिकारियों को रिपोर्ट भेज दी जाती है. जल्द ही विभाग की ओर से एक नोटिफिकेशन जारी किया जाएगा. जिसके बाद कार्रवाई करने में कोई परेशानी नहीं होगी. इसके बाद खाने की चीजों में मानकों पर फेल होने वाले बख्शे नहीं जाएंगे.

इसे भी पढ़ें :झारखंड पॉलिटेक्निक प्रवेश परीक्षा का नोटिफिकेशन जारी, July में होगा एडमिशन टेस्ट

 

Related Articles

Back to top button