न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

नायडू के धरनास्थल पर लगा प्लेकार्ड: ‘जिसके हाथ में जूठा कप देना था, देश दे दिया..’

986

New Delhi: आम चुनाव से पहले सभी राजनीतिक पार्टियां रेस हो चुकी है. आरोप-प्रत्यारोप का दौर भी जारी है. वहीं बीते कुछ दिनों से आंध्र प्रदेश के सीएम नायडू और पीएम मोदी के बीच सीधे और तीखे हमले हो रहे हैं. चंद्रबाबू नायडू आंध्र प्रदेश को विशेष राज्य का दर्जा देने की मांग को लेकर सोमवार को एकदिवसीय धरने पर है. दिल्ली स्थित आंध्र भवन में वो धरना दे रहे हैं. इसी धरनास्थल पर लगे एक प्लेकार्ड को लेकर बीजेपी ने निशाना साधा है.

mi banner add

बीजेपी IT सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने अपने ट्विटर हैंडल कर एक वीडियो जारी किया, जिसमें प्लेकार्ड पर लिखा है ‘जिसके हाथ में चाय का जूठा कप देना था, उसके हाथ में जनता ने देश दे दिया’.

चुनाव से पहले फिर ‘चायवाला’

बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय ने ट्वीट किया कि आंध्र भवन में जहां पर चंद्रबाबू नायडू धरना दे रहे हैं, वहां पर पोस्टर लगे हैं कि ‘जिसके हाथ में चाय का जूठा कप देना था, उसके हाथ में जनता ने देश दे दिया’. मालवीय ने लिखा कि विपक्षी पार्टियां प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के बैकग्राउंड को लेकर हमेशा निशाना साधती हैं. उन्होंने लिखा कि क्या पिछड़ी जाति का होना या गरीब होना अभिशाप है?

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.


गौरतलब है कि रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आंध्र प्रदेश के गुंटूर में जनसभा के दौरान चंद्रबाबू नायडू पर तीखे हमले किये थे. साथ ही उन्हें धोखा देने वाला नेता करार दिया था. प्रधानमंत्री ने कहा था कि चंद्रबाबू नायडू दल बदलने और गठबंधन करने में सीनियर हैं, ससुर की पीठ में छुरा भोंपने में सीनियर हैं, चुनाव-दर चुनाव हारने में सीनियर हैं.

वहीं सीएम नायडू ने पीएम पर निजी हमला करते हुए कहा था कि आपने तो अपनी पत्नी को ही छोड़ दिया था. फिलहाल धरनास्थल पर लगे इस प्लेकार्ड पर राजनीति गरमाने की आशंका है. और लगता है इस प्लेकार्ड को लेकर बीजेपी विरोधियों पर हमला करने का मौका नहीं छोड़नेवाली है.

इसे भी पढ़ेंः डिजिटल युग में दबाव में है न्यायिक प्रक्रिया: न्यायमूर्ति सीकरी

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: