न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

पिठोरिया : अवैध उत्खनन से दरक रही हैं घर की दीवारें, ग्रामीण दहशत में, प्रशासन उदासीन

पिठोरिया से 10 किलोमीटर दूर कांके ब्लॉक के अंतर्गत पड़ने वाले कुम्हरिया गांव के ग्रामीण आजकल परेशान हैं.

463

RanchI : पिठोरिया से 10 किलोमीटर दूर कांके ब्लॉक के अंतर्गत पड़ने वाले कुम्हरिया गांव के ग्रामीण आजकल परेशान हैं. कुम्हरिया गांव से करीब 100 मीटर की दूरी पर पत्थर की अवैध माइंस है. पत्थर निकालने के दौरान जो विस्फोट कराया जाता है, उससे गांव के कई घरों में दरारें आ गयी हैं. गांव के स्कूल की छत में और दीवारों में कई जगह दरार आ गयी है. विस्फोट होने से पत्थर के बड़े-बड़े टुकडे उड़ कर घरों पर गिर रहे हैं, जिसके कारण घर टूट गये हैं. पत्थर उड़ने से कई ग्रामीण भी घायल हो चुके हैं. ग्रामीणों का कहना है पिछले 8 माह से पत्थरों का अवैध उत्खनन चल रहा है. इसकी जानकारी होने के बावजूद प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है. आरोप है कि पुलिस प्रशासन और ग्राम प्रधान की मिलीभगत से यह अवैध माइंस 8 माह से अवैध रूप से संचालित हो रही है.

इसे भी पढ़ें- फादर स्टेन ने कहा – सिर्फ मिशनरी ही नहीं बल्कि सभी NGO की हो CID जांच, प्रतुल ने कहा – आखिर क्या गुल छिपा रहे हैं

गांव के स्कूल और कई घरों में पड़ गयी हैं दरारें

अवैध माइनिंग के लिए जो विस्फोट कराये जाते हैं, उससे गांव के सरकारी विद्यालय और कई घरों में दरारें पड़ गयी हैं. स्कूल जाने वाले छात्र के परिजन बताते हैं कि बच्चों को स्कूल भेजने में भी डर लगा रहता है कि कहीं स्कूल की छत गिर न जाये. घर की दीवारों में दरार पड़ने के कारण भी ग्रामीण भयभीत हैं.  कभी भी घर गिर सकते हैं. लेकिन जानकारी होने के बावजूद प्रशासन कोई कार्रवाई नहीं कर रहा है.

इसे भी पढ़ें- जेल ले जाने से पहले होती है कैदियों की बेशर्म जांच, गालियों से होती है शुरूआत

 अवैध रूप से संचालित है माइंस

ग्रामीणों का कहना है कि यह माइंस अवैध रूप से चल रही है. इसके पास ना कोई लाइसेंस है, और ना कोई सही कागजात. फर्जी कागजात के सहारे और प्रशासन की मिलीभगत से इस माइंस का संचालन हो रहा है. ग्रामीणों ने कहा कि जब यह माइंस खोली जा रही थी तो ग्रामीणों से कहा गया यहां पर क्रेशर का निर्माण कराया जा रहा है आप सभी को नौकरी दी जायेगी, लेकिन क्रेशर के नाम पर माइंस के मालिक ने अवैध उत्खनन करना शुरू कर दिया. ग्रामीणों को झूठ बोल कर अवैध रूप से माइंस खोल ली. माइंस के मालिक से कागज मांगे जाने पर माइंस के मालिक ने कहा माइंस का लाइसेंस ग्रामीणों के द्वारा जला दिया गया है.

इसे भी पढ़ें- ब्रजेश ठाकुर ने मनीषा दयाल को दी पॉपुलैरिटी, प्रातःकमल अखबार में अक्सर छपती थी खबर

 माइंस के मालिक और ग्राम प्रधान से ग्रामीणों को मिल रही है धमकी

ग्रामीणों ने कहा कि माइंस के मालिक मोहसिन खान और ग्राम प्रधान के द्वारा हम लोगों को लगातार धमकियां मिल रही हैं और कहा जा रहा है तुम लोगों को उठा लेंगे. और महिलाओं को भी धमकियां दी जा रही है कि अगर भलाई चाहते हो तो चुप रहो, नहीं तो बहुत बुरा होगा.  इस तरह की धमकियां लगातार माइंस के मालिक द्वारा देने से ग्रामीण दहशत में हैं.

इसे भी पढ़ें- गुजर गये 30 से 40 साल, 128 करोड़ की योजना हो गयी 6613 करोड़ की, फिर भी काम पूरा नहीं 

palamu_12

माइंस के मालिक ने छह वर्षीय बालक को भी लूटपाट का आरेापी बनाया

माइंस के मालिक ने माइंस में लूटपाट करने का आरोप लगाकर ग्रामीणों पर पिठोरिया थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई और इसमें सबसे बड़ी आश्चर्य की बात यह है कि माइंस के मालिक ने लूटपाट के आरोप में 6 वर्षीय बालक का भी नाम डाल दिया है जिससे ग्रामीणों में काफी रोष है. गुस्साये ग्रामीणों ने सोमवार को पिथोरिया थाना का घेराव किया था.

इसे भी पढ़ें-जांच के नाम पर पुलिस ने बना डाली दस हजार पन्नों की फाइल, सफेदपोशों को बचाने की कोशिश !

 केस करने के विरोध में ग्रामीणों ने की बैठक

माइंस मालिक के द्वारा माइंस में तोड़फोड़  और 1.76 लाख  रुपये लूटने का आरोप ग्रामीणों पर लगाकर पिठोरिया थाना में मामला दर्ज कराया,  जिसमें कई लोगों को नामजद बनाया गया है.  इसके विरोध में कुम्हरिया गांव के ग्रामीणों ने सामुदायिक भवन में मंगलवार को बैठक की और अवैध माइंस के खिलाफ आवाज उठाने का निर्णय लिया.

 क्या कहते हैं ग्रामीण : कुम्हरिया गांव के ग्रामीण कुलदीप रावत, आरती देवी, बबली देवी, अंजू कुमारी ने एक स्वर में कहा कि अवैध खनन होने से हम लोगों को भारी परेशानी का सामना करना पड़ रहा है.  हम लोगों की खेती भी नष्ट हो गयी है.  अवैध खनन ने हम लोगों के खेतों को खराब कर दिया है.  हम लोगों के घरों में दरार पड़ गयी है. इससे हम लेाग हमेशा डर के साये में रहते हैं कि कब कोई बड़ी घटना हो जाये. इतना होने के बावजूद प्रशासन कोई ठोस कार्रवाई नहीं कर रहा है.

 क्या कहते हैं स्कूल के टीचर :  गांव के सरकारी स्कूल के टीचर सुरेश बैठा करते हैं कि अवैध उत्खनन होने से स्कूल की  दीवारों में और छत में दरार पड़ गयी है.  जिससे कभी भी  स्कूल भवन गिरने की संभावना है.  डर के मारे बच्चे स्कूल नहीं आना चाहते हैं.

 क्या कहते हैं थाना प्रभारी : पिठोरिया थाना प्रभारी लालजी यादव कहते हैं कि हम लोग इस मामले की जांच करेंगे और जो होगा इस पर उचित कार्रवाई की जायेगी.

इसे भी पढ़ेंःरांची-टाटा हाइवे में हैं हजारों गड्ढे, अधूरा सड़क का निर्माण महीनों से रूका

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.  

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

%d bloggers like this: