न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

बिहार सीट बंटवारे को लेकर पायलट ने बीजेपी पर साधा निशाना, कहा- असुरक्षित महसूस कर रही भाजपा

सचिन पायलट का दावाः केंद्र में यूपीए की बनेगी अगली सरकार

1,881

Jaipur: राजस्थान के उप मुख्यमंत्री सचिन पायलट ने दावा किया है कि बीजेपी तीन राज्यों के चुनाव नतीजों के बाद भारी दबाव में है. बिहार में सीट बंटवारे को लेकर उन्होंने निशाना साधा और इसे दबाव में लिया गया फैसला बताया. साथ ही कहा कि इससे बीजेपी की कमजोरी सामने आयी है. वहीं भरोसा जताया है कि आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस की अगुवाई वाले संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) की जीत होगी और केंद्र में उसकी सरकार बनेगी.

सहयोगी बीजेपी से बना रहे दूरी

पायलट के अनुसार, भाजपा नेताओं के अहंकार के चलते उसके सहयोगी दल राजग गठबंधन को छोड़ रहे हैं और भाजपा अब दबाव और डर में है जो बिहार में सीटों के बंटवारे में दिखता है. पायलट ने कहा, ‘भाजपा के सहयोगी उसे छोड़ रहे हैं. उपेंद्र कुशवाहा राजग से अलग हो गए हैं. तेलुगु देशम पार्टी पहले ही किनारा कर चुकी है तो शिवसेना भी उनके साथ नहीं. अब भाजपा दबाव में है यही कारण है कि उन्होंने बिहार में जद यू को 17 सीटें दी हैं जिसके केवल दो सांसद हैं. असुरक्षा का इससे बड़ा उदाहरण और क्या हो सकता है.’

उन्होंने कहा कि भाजपा नेता कांग्रेस के बारे में कहते हैं कि वह अपने सहयोगी दलों के साथ अस्तित्व बचाए रखने की कोशिश कर रही है. जबकि तीन राज्यों के विधानसभा चुनाव परिणामों से देश भर में मजबूत संदेश गया है. पायलट ने पीटीआई से कहा, ‘केंद्र की यह पूर्ण बहुमत वाली सरकार इतनी कमजोर हो गयी है कि उसने बिहार में लोकसभा की लगभग आधी सीटें ऐसी पार्टी को देने की घोषणा की है, जिसके केवल दो सांसद हैं. पार्टी को डर है कि लोग उसे वोट नहीं देंगे. जबकि उसके सहयोगी भी उसे आंखे दिखा रहे हैं. यह तभी होता है जबकि सत्तारूढ सरकार कमजोर हो.

हार की जिम्मेदारी ले भाजपा

पूर्व केंद्रीय मंत्री पायलट ने कहा कि भाजपा को यह बात स्वीकार करना चाहिए कि उसे तीन राज्यों में बड़ा झटका लगा है और उसे हार की जिम्मेदारी लेनी चाहिए. पायलट ने केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी के बयान का हवाला दिया, जिसमें वो पहले ही कह चुके हैं कि पार्टी नेतृत्व को हार की जिम्मेवारी लेनी चाहिए. साथ ही कहा कि जब कभी कांग्रेस की हार हुई तो पार्टी के अध्यक्ष राहुल गांधी ने उसे विनम्रता से स्वीकार किया. लेकिन भाजपा के नेता इतने अहंकारी हैं कि तीन राज्यों में हार के बावजूद जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं.

2019 में बनेगी यूपीए की सरकार

इसके साथ ही पायलट ने भरोसा जताया कि कांग्रेस विधानसभा चुनाव में मिली सफलता को आगामी लोकसभा में भी जारी रखेगी. उन्होंने कहा, 2013 में हमारी सिर्फ 21 सीटें थीं जो 2018 के हालिया विधानसभा चुनाव में लगभग पांच गुना होकर 99 हो गयी. लगभग 12.5 प्रतिशत मत इधर से उधर हुए हैं. भाजपा का मत प्रतिशत 6.6 प्रतिशत घटा है तो हमारा छह प्रतिशत बढ़ा है. यह बड़ी बात है.

उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत से पार्टी कार्यकर्ताओं का मनोबल बढ़ा है. 2019 के लोकसभा चुनाव की रणनीति पर काम पहले ही शुरू हो चुका है. साथ ही कहा कि हमने सरकार बना ली है और अपने चुनावी वादों को पूरा कर रहे हैं. इसके साथ ही हम आगामी चुनाव पर भी ध्यान दे रहे हैं. बैठकों का दौर शुरू हो चुका है. पार्टी लोकसभा चुनावों में भी जोरदार जीत दर्ज करेगी और कांग्रेस की अगुवाई वाला संप्रग केंद्र में सरकार बनाएगा.

इसे भी पढ़ेंः NW Breaking: IFS अफसरों की शाही पार्टी! पांच घंटे का कार्यक्रम और खाने का खर्च 34.31 लाख

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: