Main SliderNational

विकास दुबे के साथ यूपी के कानून मंत्री की फोटो वायरल, पूर्व IAS ने पूछा- ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’

विज्ञापन
Advertisement

Kanpur: उत्तर प्रदेश में गुरुवार को हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे को पकड़ने गयी टीम पर प्लानिंग के तहत हमला हुआ, जिसमें डीएसपी समेत 8 पुलिसवाले शहीद हो गये. उसके बाद से ही कुख्यात अपराधी विकास दुबे की धर-पकड़ और तेज हो गयी है. वहीं विकास के राजनीतिक साठगांठ को लेकर भी कई तरह की चर्चाएं हो रही हैं.

पुलिस टीम पर हमले के बाद से विकास दुबे की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है. जिसमें वह एक कार्यक्रम में उत्तर प्रदेश सरकार के कानून मंत्री के साथ दिखाई दे रहा है. कांग्रेस ने दावा किया कि यह राजनीतिक संरक्षण दर्शाता है. वहीं पूर्व आइएएस ने इसे लेकर तंज कसा है.

‘ये रिश्ता क्या कहलाता है?’

कानपुर के पास बिकरू गांव में हुई मुठभेड़ के कुछ ही घंटों बाद विकास दुबे की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल होने लगी है. जिसमें 60 केसों में आरोपी हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे और योगी सरकार के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक एक साथ दिखाई दे रहे हैं.

advt

पूर्व आइएएस अधिकारी सूर्य प्रताप सिंह ने एक फोटो ट्वीट कर सरकार पर तंज कसा है. इस फोटो को ट्वीट करते हुए रिटायर्ड आइएएस अधिकारी ने लिखा है कि “उत्तर प्रदेश सरकार के कानून मंत्री ब्रजेश पाठक और विकास दुबे एक साथ. ये रिश्ता क्या कहलाता है?”

दुबे पर 50 हजार का इनाम

8 पुलिसकर्मियों की हत्या का आरोपी गैंगस्टर विकास दुबे की खोज में पुलिस जोरशोर से लगी है. वहीं अपराधी दुबे को लेकर यूपी पुलिस ने इनाम की घोषणा की है. जो शख्स कानपुर मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मियों की मौत के जिम्मेदार कुख्यात अपराधी विकास दुबे की जानकारी देगा, उसे 50 हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा.

कानपुर आइजी मोहित अग्रवाल ने शुक्रवार को इस इनाम की घोषणा की. उन्होंने कहा कि विकास दुबे का ठिकाना बताने वाले का नाम गुप्त रखा जाएगा. फिलहाल, विकास दुबे के बारे में पता लगाने के लिए कई लोगों से गहन पूछताछ की जा रही है. खबर है कि करीब 500 फोन सर्विलांस पर हैं.

विकास ने जिला पंचायत चुनाव लड़ा था

इस तस्वीर के अलावा, एक अन्य तस्वीर भी वायरल हुई है. जिसमें दुबे जिला पंचायत के चुनाव में अपनी पत्नी रिचा दुबे के लिए वोट मांगते हुए पोस्टर में दिखाई दे रहा है. यह चुनाव रिचा जीती थीं और बिकरू गांव इसी जिला पंचायत के अंतर्गत आता है.

बता दें कि कानपुर में जिस कुख्यात अपराधी विकास दुबे को पकड़ने गई पुलिस टीम पर हमला किया गया उसने रियल एस्टेट का कारोबार किया और जिला स्तर का चुनाव जीता. साल 2000 में दुबे ने जेल में रहते हुए खुद भी जिला पंचायत चुनाव में शिवराजपुर सीट से जीत हासिल की थी. उस दौरान वह हत्या के मामले में जेल में बंद था. दुबे के खिलाफ करीब 60 आपराधिक मामले चल रहे हैं.

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button
Close
%d bloggers like this: