न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जैप-1 में निकला फूल-पाती जुलूस, मां दुर्गा को 40 राउंड गोलियों की दी गयी सलामी

87

Ranchi : जैप-1 परिसर में प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी फूल-पाती जुलूस निकाला गया. यहां मंगलवार को पर्यावरण संरक्षण का संदेश देते हुए फूल-पाती जुलूस निकाला गया, जिसमें काफी संख्या में नेपाली समाज के लोग उपस्थित हुए. जैप-1 परिसर में जुलूस के बाद मां दुर्गा को डोली में विराजमान कर परिसर स्थित मंदिर लाया गया. वहां विधि-विधान से नवपत्रिका प्रवेश करते हुए मां दुर्गा की आराधना की गयी. टीकू हॉल स्थित दुर्गा मंदिर में मां का आह्वान करते हुए पूजा की गयी. पूजा के दौरान विशेष उत्साह महिलाओं में देखा गया, जो फूल-पाती जुलूस में तो उत्साहित थीं ही, साथ ही मां की डोली निकाले जाने पर हाथों में थाली लिये डोली का फूलों और दीये से स्वागत करती देखी गयीं.

जैप-1 में निकला फूल-पाती जुलूस, मां दुर्गा को 40 राउंड गोलियों की दी गयी सलामी

इसे भी पढ़ें- जल्द ही झारखंड में कृपा बरसने की उम्मीद! सीएम और मंत्री बाबा की शरण में तो डीजीपी ने ओढ़ा बाबा का…

नौ कन्याओं की हुई पूजा

नवपत्रिका प्रवेश के साथ ही नौ कन्याओं की पूजा की गयी. मुख्य पुजारी शहदेव उपाध्याय ने जानकारी दी कि नौ कन्याओं को मां दुर्गा के नौ रूपों का प्रतीक मानते हुए पूजा की जाती है. इसका नवरात्र में काफी महत्व है. पूजा के दौरान उपस्थित महिलाओं ने भी नौ कन्याओं की पूजा उत्साह के साथ की. इस दौरान जैप-1 के जवानों की ओर से मां दुर्गा को 40 गोलियों की सलामी दी गयी. वहीं, पाठा की बलि भी दी गयी. मौके पर प्रभास क्षेत्री, गणेश प्रधान, टेमन जिंबा समेत अन्य लोग उपस्थित थे.

जैप-1 में निकला फूल-पाती जुलूस, मां दुर्गा को 40 राउंड गोलियों की दी गयी सलामी

इसे भी पढ़ें- झारखंड में द्वितीय राजभाषा उर्दू की उपेक्षा पर आम्‍या ने जारी किया ‘ब्‍लैक पत्र’

पर्यावरण संरक्षण का संदेश देता है फूल-पाती जुलूस

मुख्य पुजारी शहदेव उपाध्याय ने बताया कि प्रत्येक वर्ष जैप-1 परिसर में मां नवरात्र का आयोजन किया जाता है. यहां सप्तमी के दिन फूल-पाती जुलूस निकाला जाता है. उन्होंने बताया कि फूल-पाती जुलूस निकालने का मुख्य उद्देश्य पर्यावरण संरक्षण का संदेश देना है. प्रकृति भी मां दुर्गा का ही अंश है, इसलिए भक्ति भाव से प्रकृति की पूजा की जाती है.

न्यूज विंग एंड्रॉएड ऐप डाउनलोड करने के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पेज लाइक कर फॉलो भी कर सकते हैं.

हमें सपोर्ट करें
स्वंतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता का संकट लगातार गहराता जा रहा है. भारत के लोकतंत्र के लिए यह एक गंभीर और खतरनाक स्थिति है.इस हालात ने पत्रकारों और पाठकों के महत्व को लगातार कम किया है और कारपोरेट तथा सत्ता संस्थानों के हितों को ज्यादा मजबूत बना दिया है. मीडिया संथानों पर या तो मालिकों, किसी पार्टी या नेता या विज्ञापनदाताओं का वर्चस्व हो गया है. इस दौर में जनसरोकार के सवाल ओझल हो गए हैं और प्रायोजित या पेड या फेक न्यूज का असर गहरा गया है. कारपोरेट, विज्ञानपदाताओं और सरकारों पर बढ़ती निर्भरता के कारण मीडिया की स्वायत्त निर्णय लेने की स्वतंत्रता खत्म सी हो गयी है.न्यूजविंग इस चुनौतीपूर्ण दौर में सरोकार की पत्रकारिता पूरी स्वायत्तता के साथ कर रहा है. लेकिन इसके लिए जरूरी है कि इसमें आप सब का सक्रिय सहभाग और सहयोग हो ताकि बाजार की ताकतों के दबाव का मुकाबला किया जाए और पत्रकारिता के मूल्यों की रक्षा करते हुए जनहित के सवालों पर किसी तरह का समझौता नहीं किया जाए. हमने पिछले डेढ़ साल में बिना दबाव में आए पत्रकारिता के मूल्यों को जीवित रखा है. इसे मजबूत करने के लिए हमने तय किया है कि विज्ञापनों पर हमारी निभर्रता किसी भी हालत में 20 प्रतिशत से ज्यादा नहीं हो. इस अभियान को मजबूत करने के लिए हमें आपसे आर्थिक सहयोग की जरूरत होगी. हमें पूरा भरोसा है कि पत्रकारिता के इस प्रयोग में आप हमें खुल कर मदद करेंगे. हमें न्यूयनतम 10 रुपए और अधिकतम 5000 रुपए से आप सहयोग दें. हमारा वादा है कि हम आपके विश्वास पर खरा साबित होंगे और दबावों के इस दौर में पत्रकारिता के जनहितस्वर को बुलंद रखेंगे.

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

Open

Close
%d bloggers like this: