JharkhandRanchi

विशेष शाखा द्वारा फोन टैपिंग: सरयू राय ने सीएम को लिखा लेटर, कहा- जांच रिपोर्ट की कॉपी दिलाने के साथ दोषियों पर करें कार्रवाई

Ranchi : विशेष शाखा द्वारा अवैध कार्यालय खोल कर लोगों के फोन टैपिंग मामले पर जांच प्रक्रिया अधर में है. विधायक सरयू राय ने इसके लिए सीएम हेमंत सोरेन को पत्र लिखा है. उन्होंने जांच प्रतिवेदन उपलब्ध कराये जाने के साथ-साथ दोषियों पर कार्रवाई किये जाने का भी आग्रह किया है. आशंका जतायी है कि विशेष शाखा की जांच में फोन टैपिंग मामले पर जानबूझ कर लीपापोती की गयी है. मामले को दबाये जाने की संभावना है.

इसे भी पढ़ें – मानसून सत्र में नहीं पेश हो सकेगा लैंड म्यूटेशन बिल!

सीआइडी ने पूरी कर ली है जांच

सरयू राय के अनुसार विशेष शाखा द्वारा अवैध कार्यालय खोल कर एक निजी व्यक्ति द्वारा इसे संचालित किया जा रहा था. यहां पर फ़ोन टैपिंग के माध्यम से अवैध सूचना संग्रह का काम होता था. इस मामले पर जांच के लिए 01.05.2020 को उन्होंने एडीजी को पत्र लिख कर जांच कराने का अनुरोध किया था. इस पर सीआइडी और विशेष शाखा को जांच करने को कहा गया. सीआइडी ने अपनी जांच पूरी कर ली है. पर विशेष शाखा की जांच अभी तक अधर में अटकी हुई है. इस संबंध में 7 अगस्त को डीजीपी को लेटर लिख कर जांच प्रतिवेदन की मांग की थी. यह अभी तक नहीं मिली है.

इसे भी पढ़ें – पूर्व कांग्रेस नेता ने कहा- 2019 में कांग्रेस के घोषणा पत्र में थे ये कृषि विधेयक, मोदी ने बस इसे पूरा किया

बदनामी का भय

उन्होंने कहा कि फोन टैपिंग मामले की विशेष शाखा द्वारा जांच की गयी थी. इसमें जानबूझ कर लीपापोती की गयी है. अवैध कार्यालय से जुड़े पुलिसकर्मियों ने गवाही दी है कि कार्यालय का प्रभार एक निजी व्यक्ति के हाथ में था. यहां विशेष शाखा के तत्कालीन एडीजी भी आया करते थे. तत्कालीन सीएम ने भवन निर्माण विभाग से कार्यालय के लिए जगह आवंटित करायी थी. स्पेशल ब्रांच के एडीजी ने जांच प्रतिवेदन में कहा है कि सच सामने आने से पुलिस की बदनामी होगी. सरयू राय ने सीएम से हर हाल में इस रिपोर्ट को सामने लाने का आग्रह किया है.

दोषियों को दंडित करना जरूरी

उन्होंने फोन टैपिंग मामले में दोषियों को दंडित किये जाने की अपील की है. लेटर में कहा है कि जांच रिपोर्ट को दबाये जाने से गलत संदेश जायेगा. पुलिस पदाधिकारियों की मनोवृत्ति आपराधिक हो जायेगी. ऐसे में पुलिस से लोगों का भरोसा उठ जायेगा. वर्दी पर दाग लगेगी. इसलिए जरूरी है कि पुलिस की वर्दी में ग़ैरक़ानूनी काम करने वालों की पहचान करके उन्हें दंडित किया जाये.

इसे भी पढ़ें – मुआवजा और रोजगार को लेकर सीएम ने कहा- NTPC के पक्ष आने तक नए जमीन के भूमि अधिग्रहण का काम बंद रहेगा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Related Articles

Back to top button