Lead NewsNational

पेट्रोल की कीमतों में लगी आग, MP में 100 से पार, मुंबई में 94.62, रांची में रेट 86.79 रुपये

पुराने पेट्रोल पंपों को बिक्री रोकनी पड़ी

Bhopal : देश में आसमान छूती पेट्रोल-डीजल की कीमतों के बीच मध्य प्रदेश में पेट्रोल के दाम 100 रुपये के पार पहुंच गए. शनिवार को राजधानी भोपाल में पावर पेट्रोल 100 रुपये चार पैसे प्रति लीटर की दर पर से बेचा गया. यहां पुराने पेट्रोल पंपों को बिक्री रोकनी पड़ी क्योंकि दाम तीन डिजिट में पहुंचे तो मशीनों में डिस्प्ले होने बंद हो गए.

स्थानीय खबरों के अनुसार अगर सादा पेट्रोल के दाम भी 100 रुपये लीटर तक पहुंच गये तो कई पेट्रोल पंपों को बिक्री रोकनी पड़ेगी. शनिवार को भोपाल में सादा पेट्रोल की कीमत 96.37 रुपये रही. वहीं मुंबई में 94.62 तथा रांची में रेट 86.79 रुपये प्रति लीटर पहुंच गया है.

इसे भी पढ़ें :सूबे के सात लाख लाभुकों को मिलेगा दो माह का राशन

advt

एक साल से भी कम वक्त में पेट्रोल की कीमत करीब 19 रुपये प्रति लीटर बढ़ी

मालूम हो कि नये साल के बाद से राजधानी में तेल की कीमतों में करीब पांच रुपये की बढ़ोतरी हुई है. एक जनवरी को भोपाल में नॉर्मल तेल 91.46 रुपये प्रति लीटर था. आंकड़ों पर गौर कर करें तो एक साल से भी कम वक्त में पेट्रोल की कीमत करीब 19 रुपये प्रति लीटर बढ़ गई है. एक जून, 2020 को भोपाल में पेट्रोल 77.56 रुपये प्रति लीटर था जो 13 फरवरी तक 18.81 रुपये बढ़कर 96.37 के रिकॉर्ड स्तर पर पहुंच गया. इसी तरह डीजल के दाम एक जून, 2020 को 68.27 रुपये थे जो 13 फरवरी तक 18.54 रुपये बढ़कर 86.84 प्रति लीटर पर पहुंच गए.

इसे भी पढ़ें :Ind vs Eng 2nd Test day 2: 51 पर इंग्लैंड को चार झटके, हालत पस्त

adv

दिल्ली में 88.18 रुपये है रेट

बता दें कि देश में तेल कीमतों में बढ़ोतरी का सिलसिला जारी है. रविवार को राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में एक बार फिर तेल के दाम बढ़ गए. यहां पेट्रोल और डीजल के दाम में करीब तीस पैसे की बढ़ोतरी हुई है. रविवार को दिल्ली में पेट्रोल के दाम 29 पैसे बढ़कर 88.18 रुपये हो गये. इसी तरह 32 पैसे की बढ़ोतरी के साथ डीजल के दाम 79.06 प्रति लीटर पर पहुंच गए.

पेट्रोलियम मंत्री ने तेल उत्पादक देशों को ठहराया दोषी

इधर पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने तेल उत्पादक देशों को कीमतों में बढ़ोतरी का दोषी ठहराया. उन्होंने कहा कि कच्चा तेल महंगा होने के साथ ही ‘हम कीमतों को लेकर चुनौतियों का सामना कर रहे हैं.’ उन्होंने कहा कि कोविड-19 लॉकडाउन के कारण दुनिया भर में पेट्रोलियम उत्पादों की मांग में कमी आई और पेट्रोलियम उत्पादकों को उत्पादन में कमी करनी पड़ी.

इसे भी पढ़ें :देवघर: गोदाम में रखा 450 क्विंटल चीनी हुआ बर्बाद, डीसी ने दिये जांच के आदेश

Related Articles

Back to top button
%d bloggers like this: