JharkhandRanchiTOP SLIDER

दुर्गा पूजा में पंडाल निर्माण की अनुमति, पर अंदर नहीं जा सकेंगे श्रद्धालु

Ranchi : मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन की अध्यक्षता में झारखंड मंत्रालय में मंगलवार को कोविड-19 के मद्देनजर प्रतिबंध/छूट के संदर्भ में आयोजित झारखंड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकार की बैठक में कई निर्णय लिये गये. बैठख में राज्य के सभी मंदिरों को खोलने का निर्णय लिया गया. पर उनमें कोविड गाइडलाइन को फॉलो करना अनिवार्य होगा. इसके राथ ही दुर्गा पूजा के दौरान पंडालों के निर्णा को बी स्वीकृति दी गयी. पर श्रद्धालु पंडाल के अंदर नहीं जा सकेंगे. साथ ही कई निमय बनाये गये हैं.

इसे भी पढ़ें :झारखंडः राज्य के सभी मंदिर और कक्षा 6 से ऊपर से स्कूल कॉलेज खोलने की अनुमति मिली

ये नियम बनाये गये

ram janam hospital
Catalyst IAS

1. सभी धार्मिक स्थलों पर श्रद्धालुओं के प्रवेश की अनुमति प्रदान की गयी.

The Royal’s
Pushpanjali
Sanjeevani
Pitambara

• धार्मिक स्थल पर संचालन से सभी संबंधित व्यक्ति जैसे पुजारी, पांडा, इमाम, पादरी इत्यादी का कम से कम एक टीका लेना अनिवार्य होगा.
• जिलाधिकारी द्वारा चिन्हित धार्मिक स्थल जैसे देवघर स्थित बाबा धाम मंदिर इत्यादी में ई पास के माध्यम से अधिकतम 100 व्यक्ति एक घंटे में प्रवेश कर सकेंगे.
• धार्मिक स्थल पर स्थान की 50% क्षमता में एकत्रित होने की अनुमति दी गयी.
• 18 वर्ष से कम उम्र के व्यक्ति के प्रवेश पर रोक रहेगी.
• सामाजिक दूरी बनाना अनिवार्य होगा.
• बिना मास्क के प्रवेश नहीं होगा.
• लगातार मास्क लगाना होगा.

इसे भी पढ़ें :BIG NEWS : सेलेक्शन में नाइंसाफी नहीं हुई बर्दाश्त! स्टार क्रिकेटर ने लिया संन्यास, देखें VIDEO

2. दुर्गा पूजा पंडाल के निर्माण की अनुमति दी गयी.

• पंडाल में श्रद्धालुओं के प्रवेश पर रोक रहेगी.
• पंडाल में एक समय में क्षमता का 50% या 25 से अधिक व्यक्ति ( जो कम हो) के एकत्रित होने पर रोक रहेगी.
• मेला आयोजन प्रतिबंधित रहेगा.
• मूर्ति की अधिकतम ऊंचाई 5 फीट होगी.
• कोई तोरण या स्वागत द्वार नहीं बनेगा.
• पंडाल किसी थीम पर आधारित नहीं होगा.
• पंडाल तीन तरफ़ से घेरा जायेगा.
• भोग वितरण नहीं किया जायेगा.
• पूजा समिति द्वारा आमंत्रण पत्र नहीं वितरित किया जायेगा.
• आवश्यक रोशनी को छोड़ कर आकर्षक रोशनी प्रतिबंधित होगी.
• संस्कृतिक कार्यक्रम जैसे गरबा, डांडिया इत्यादि प्रतिबंधित रहेंगे.
• 18 वर्ष से कम के व्यक्ति का प्रवेश अपेक्षित नहीं है.
• खाने पीने की कोई दुकान या ठेला आसपास नहीं लगेगा.
• विसर्जन जुलूस नहीं निकलेगा.
• जिला प्रशासन द्वारा चिन्हित स्थान पर विसर्जन किया जायेगा.
• पंडाल में किसी भी समय कोई व्यक्ति बिना मास्क के नहीं होगा.
• ढाक की अनुमति होगी.

इसे भी पढ़ें :बिरसा मुंडा संग्राहालय में तीन और स्वतंत्रता सेनानियों की प्रतिमा लगेगी, गिरिडीह बनेगा पहला सोलर सिटी

3. कॉलेज में स्नातक और स्नातकोत्तर शिक्षा के सभी वर्ष की ऑफलाइन कक्षा की अनुमति दी गयी.

4 . स्कूल में 6 से 8 तक ऑफलाइन कक्षा की अनुमति दी गयी.
5. सभी खेल कूद की गतिविधियों की बगैर दर्शक के आयोजन की अनुमति दी गयी.
6. बार और रेस्तरां को 11 बजे रात तक खोलने की अनुमति दी गयी.

बैठक में आपदा प्रबंधन विभाग के मंत्री बन्ना गुप्ता, मुख्य सचिव सुखदेव सिंह, अपर मुख्य सचिव अरुण कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, प्रधान सचिव वित्त विभाग अजय कुमार सिंह, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, आपदा प्रबंधन विभाग के सचिव अमिताभ कौशल, कृषि विभाग के सचिव अबु बकर सिद्दीकी उपस्थित थे.

इसे भी पढ़ें :कोल ब्लॉक आवंटन घोटाले में सीबीआई कोर्ट ने रांची के बिनय प्रकाश सहित पांच को दोषी करार दिया

Related Articles

Back to top button