न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

जनप्रतिनिधियों ने एसबीआइ में घटित घटना को दुर्भाग्यपूर्ण बताया

146

Bermo : बोकारो थर्मल एसबीआइ की शाखा में हाइकोर्ट के अधिवक्ता अंजनी नंदन के साथ शुक्रवार को घटित मारपीट की घटना पर स्थानीय यूनियन एवं जनप्रतिनिधियों ने दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए तीखी प्रतिक्रिया व्यक्त की है.

इसे भी पढ़ें- 19 नवंबर को सीएम आयेंगे पलामू, बहिष्‍कार की रणनीति बनाते 16 पारा शिक्षक गिरफ्तार

ब्रजकिशोर सिंह : भाकपा के सचिव ब्रजकिशोर सिंह ने कहा कि एसबीआइ की स्थानीय शाखा के इतिहास में इस प्रकार की पहली घटना घटी है, जिसमें बैंक के अंदर गार्डों के द्वारा ग्राहक की पिटाई महज बाहर निकलने के लिए की गयी. उन्होंने कहा कि वर्तमान मुख्य प्रबंधक के कार्यकाल में बैंक के अंदर ग्राहकों के साथ आये दिन इस प्रकार की घटना को अंजाम दिया जा रहा है.

इसे भी पढ़ें- करार की मियाद पूरी, 26,000 करोड़ के प्रोजेक्ट में दो साल की देरी, 2019 में प्लांट से शुरू होना था…

मो शाहजहां : राज्य कार्यकारिणी के सदस्य का कहना था कि दस दिन पूर्व बैंक में डीवीसी के अवकाश प्राप्त वरीय नागरिक डीएन सिंह के साथ शाखा प्रबंधक के द्वारा दुव्र्यवहार की घटना घटी. वरीय नागरिक के द्वारा मामले को लेकर जब मुंबई लिखित ऑनलाइन शिकायत की गयी तो शाखा प्रबंधक ने खेद प्रकट किया.

इसे भी पढ़ें-बोकारो : जनता दरबार में आती है केवल जनता, प्रशासन नदारद

सदन सिंह : डीवीसी कर्मचारी संघ के सचिव का कहना था कि दुर्गा पूजा के पूर्व जब लगातार एटीएम को बंद रखा जा रहा था और नोट की किल्लत के कारण लोग एवं डीवीसी कर्मी परेशान थे. एक रात जब लोग मामले को लेकर मुख्य प्रबंधक से मिलना चाहे तो मुन्नू साव नामक गार्ड ने ही डीवीसी कर्मियों के साथ दुव्र्यवहार किया था जिसके बाद काफी हंगामा होता रहा था.

इसे भी पढ़ें-आदिवासी-मूलवासियों की सरकारी नियुक्ति में जानबूझकर छंंटनी की जाती हैः रामटहल चौधरी

विकास सिंह :  इंटक के प्रदेश उपाध्यक्ष का कहना था कि एसबीआइ की घटना के बाद स्थानीय थाना की भूमिका एवं रवैया अपनेआप में पुलिस की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाती है. हाइकोर्ट के अधिवक्ता के साथ मारपीट की घटना के बाद थाना के द्वारा कार्रवाई करने के स्थान पर आरोपी होम गार्ड के जवान के द्वारा काउंटर केस दर्ज करना कहीं से भी न्यायसंगत नहीं है.

उन्होंने पूरे मामले की जांच वरीय पुलिस पदाधिकारी से करने की मांग की है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: