World

जिन लोगों में Corona के लक्षण नहीं, उनकी जांच भी जरूरी: WHO

विज्ञापन

Geneva: वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) ने कहा कि देशों को कोरोना वायरस संक्रमण के मामलों का पता लगाने के लिए लोगों की जांच करनी चाहिए. साथ ही उन लोगों की भी जांच की जानी चाहिए जिनमें संक्रमण के लक्षण नहीं हैं. यह रुख अमेरिका द्वारा अपनी नीति में हाल में किये गये बदलाव के विपरित है.

गौरतलब है कि इससे पहले अमेरिकी स्वास्थ्य एजेंसी ने अपनी नीति में बदलाव करते हुए कहा था कि संक्रमित लोगों के संपर्क में आए ऐसे लोग जिनमें संक्रमण के लक्षण नहीं है,उनकी जांच करने की आवश्यकता नहीं है.

इसे भी पढ़ें- PM Cares Fund की जानकारी सार्वजानिक कराने की याचिका खारिज,बंबई HC ने कहा-शक है तो न दें दान

advt

जांच का दायरा बढ़ाना चाहिए: WHO

कोविड-19 के लिए डब्ल्यूएचओ की प्रौद्योगिकी प्रमुख मारिया वान केरखोवे ने कहा कि जांच का दायर बढ़ाना चाहिए. उन लोगों की भी जांच होनी चाहिए जिनमें संक्रमण के लक्षण या तो बहुत हल्के हैं या फिर हैं ही नहीं.

अमेरिका के रोग नियंत्रण एवं रोकथाम केंद्र की नीति में बदलाव से पहले स्थानीय स्वास्थ्य अधिकारियों से यह कहा गया था कि संक्रमित लोगों के 1.8 मीटर के दायरे में 15 मिनट से अधिक समय तक जो भी व्यक्ति आया है उसकी जांच की जाएगी. हालांकि अब नये दिशा-निर्देशों के मुताबिक संक्रमित लोगों के करीबी संपर्क में आये लोगों में यदि संक्रमण के लक्षण नहीं हैं तो उन्हें जांच करवाने की आवश्यकता भी नहीं है.

इसे भी पढ़ें- चारा घोटाले के चाईबासा मामले में लालू की जमानत याचिका पर आज सुनवाई

लोग सोशल डिस्टेंशिंग का कड़ाई से पालन नहीं कर रहे

केरखोवे ने कहा कि यह बहुत जरूरी है कि जांच को एक अवसर की तरह लिया जाए, ताकि संक्रमित लोगों को अलग किया जा सके. उनके संपर्कों का पता लगाया जा सके. संक्रमण फैलने की कड़ी को तोड़ने के लिए यह बुनियादी जरूरत है.

adv

उन्होंने कहा कि यह चिंता का विषय है कि लोग अब सामाजिक दूरी के नियमों का कड़ाई से पालन नहीं कर रहे. केरखोवे के मुताबिक मास्क पहनने के बाद भी कम से कम एक मीटर की दूरी बनाए रखना जरूरी है.

इसे भी पढ़ें- Corona: 27 अगस्त को मिले 1365 नये केस, 10 मौतें हुईं, झारखंड का कुल आंकड़ा 34676

advt
Advertisement

Related Articles

Back to top button