JharkhandPalamu

पलामू: तालाब की अतिक्रमित जमीन मापी को लेकर लोग गोलबंद, मेयर के खिलाफ दिखा आक्रोश

Palamu : गर्मी की शुरुआत में ही कोयल नदी नाले जैसी दिख रही है. पानी की किल्लत को लेकर लोग ना तो न्यायाल के आदेशों का प्रवाह करने को तैयार हैं और ना ही जल स्त्रोतों को अतिक्रमित करने से बाज आ रहे हैं. पलामू जिला मुख्यालय डालटनगंज शहरी क्षेत्र की के दो तालाब के जल स्तर को बरकरार रखने में अपनी भूमिका रखते हैं. लेकिन इन दिनों यह दोनों तालाब अतिक्रमण को लेकर चर्चा में हैं.

आज नागरिक संघर्ष मोर्चा और डालटनगंज थाना मत्स्यजीवी सहयोग समिति लिमिटेड के 200 सदस्यों ने नावाटोली स्थित तालाब की अतिक्रमित भूमि को पत्रकारों को ले जाकर दिखाया और तालाब की मापी की मांग की. आज संयुक्त प्रेसवार्ता में नागरिक संघर्ष मोर्चा की ओर से देवेन्द्र प्रसाद गुप्ता एवं सहयोग समिति के अध्यक्ष सोनू चैधरी ने नगर निगम पर जमकर आरोप लगाए.

यह तालाब, जिसका रकबा 8 एकड़ 49 डिसमिल में है, उसके एक हिस्से को मेयर द्वारा निजी हित में अतिक्रमित किया जा रहा है. उन्होंने आरोप भी लगाया कि तालाब की दूसरी छोर बेलवाटिका चैक के पास तालाब पर निर्माण कर छेड़छाड़ हो रही है. इससे तालाब के अस्तित्व को भी खतरा है. ये काम भी मेयर अरूणा शंकर की देख-रेख में हो रहा है.

Sanjeevani

कोपभाजन बने मेयर प्रतिनिधि

मामले को लेकर मछुआरों में काफी आक्रोश था. मेयर प्रतिनिधि सुनील गुप्ता बेलवाटिका स्थित तालाब के एक छोर पर निर्माणाधीन स्थल पर मौजूद थे, जैसे ही मछुआरों ने उनकी मौजूदगी देखी, सभी आक्रोशित हो गए. उन्होंने मेयर प्रतिनिधि सुनील गुप्ता को बताया कि मेयर द्वारा उनका कार्यालय भवन तोड़कर अपना मकान बनाया जा रहा है.

Related Articles

Back to top button