न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

लोक संगठनों को सत्ता में बैठे लोगों का ‘सेवक’ नहीं होना चाहिए : भागवत

91

New Delhi :  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (आरएसएस) के प्रमुख मोहन भागवत ने शनिवार को कहा कि ‘‘लोक संगठनों’’ को सत्ता में बैठे लोगों का ‘‘सेवक’’ नहीं होना चाहिए तथा राजनीति से दूर रहना चाहिए. आरएसएस से जुड़े भारतीय मजदूर संघ के संस्थापक दत्तोपंत ठेंगड़ी की स्मृति में आयोजित एक कार्यक्रम में भागवत ने कहा कि प्रशासन तंत्र को संविधान के अनुसार काम करना होता है और ‘‘लोक संगठनों’’ की अगुवाई में सतर्क नागरिकों को इसे सुनिश्चित करना होगा.

इसे भी पढ़ें-देखें वीडियो : कैसे मामा ने भरी गोली और भांजे ने किया फायर, धनबाद एसएसपी ने कहा होगी कार्रवाई

लोक संगठनों को सत्ता की राजनीति से दूर रहना चाहिए

उन्होंने कहा, ‘‘इसकी क्या गारंटी है कि सत्ता संविधान का पालन करेगी? लोक संगठनों के नेतृत्व में सतर्क नागरिक इसकी गारंटी हैं और इसलिए उन्हें सत्ता में बैठे लोगों का सेवक नहीं होना चाहिए.’’ आरएसएस प्रमुख ने कहा कि सत्ता में कई लोग हैं जो बदलाव लाना चाहते हैं लेकिन मौजूदा व्यवस्था के कारण उनके हाथ बंधे हैं. भागवत ने कहा, ‘‘लोक संगठनों को सत्ता की राजनीति से दूर रहना चाहिए..सत्ता एक व्यवस्था है. व्यवस्था का हिस्सा बनकर सत्ता कभी बदलाव लाने में मदद नहीं करती. सत्ता में कई लोग हैं जो बदलाव लाना चाहते हैं लेकिन सत्ता की व्यवस्था के कारण उनके हाथ बंधे हैं.’’

mi banner add

ठेंगड़ी के जीवन के बारे में भागवत ने कहा कि हर किसी को उनके जीवन का अनुसरण करना चाहिए. आरएसएस प्रमुख ने कहा कि हमें ठेंगड़ी की विचारधारा के मुताबिक उनके जीवन को देखना होगा. हमें यह भी देखना होगा उनके द्वारा स्थापित संगठनों के पीछे उनकी क्या भावनाएं थीं.

Related Posts

इंटरनेशनल कोर्ट ऑफ जस्टिस ने पाकिस्तान के जेल में बंद कुलभूषण जाधव की फांसी पर रोक लगायी

अदालत के प्रमुख न्यायाधीश अब्दुलकावी अहमद यूसुफ मे फैसला पढ़कर सुनाया. 16 में से 15 जज, भारत के हक में थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Get real time updates directly on you device, subscribe now.

You might also like
%d bloggers like this: