न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

संथाल समाज के लोग सीधे-साधे व सरल : रघुवर दास

लुगूबुरु घांटाबाड़ी धोरोमगढ़ में आयोजित दो दिवसीय 18 वां अंतराष्ट्रीय सरना महाधर्म सम्मेलन का आयोजन

72

Bermo (Bokaro) : गोमिया प्रखंड के लुगूबुरु घांटाबाड़ी धोरोमगढ़ में आयोजित दो दिवसीय 18 वां अंतराष्ट्रीय सरना महाधर्म सम्मेलन (राजकीय महोत्सव) के दूसरे दिन शुक्रवार को पहुंचे झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने दीप प्रज्जवलित कर कार्यक्रम की शुरुआत की. इससे पूर्व सीएम को आदिवासी परंपरा के अनुरुप समिति की ओर से स्वागत किया गया.

भाषा व परंपरा को अक्षुण रखने का काम

सीएम ने कहा कि लाखों-लाख संथाल समाज के लोग यहां आज मोरांग बुरु (लुगूबुरु) से आर्शिवाद लेने आये हैं. हमने भी आज यहां मत्था टेक कर यह आशीर्वाद मांगा कि झारखंड राज्य में स्मृद्धि आये व बेरोजगारी व बेकारी दूर हो. हम अपने जीवन में बदलाव ला सके. कहा कि मुझे पूर्ण विश्वास है कि लुगूबुरु दरबार में सच्चे मन से अराधना करने से उनका आर्शिवाद मिलता है. यहां दो दिनों से देश व दुनियाभर से लाखों की संख्या में संथाल समाज के लोगों ने जुटकर लुगूबुरु से आर्शिवाद लेने के साथ राज्य की संस्कृति, सरना समाज की संस्कृति, अपनी भाषा व परंपरा को अक्षुण रखने का काम किया है.

पूर्व की सरकार के कारण 70 वर्षों में अदिवासियों का विकास नहीं

जिस प्रकार समुद्र मंथन से अमृत निकला था उसी तरह दो दिनों चले आपके चर्चा से सुझाव का मंथन निकलेगा. कहा कि पूर्व की सरकारों की देन रही कि 70 वर्ष के बाद भी आदिवासियों की जीवन शैली में जो बदलाव आना चाहिए था, वह नहीं आ सका. हमारी सरकार ने झारखंड के पूर्वज भगवान बिरसा, सिद्धो-कान्हू, तिलका मांझी, चांद भैरव के साथ अराध्य गुरुओं को सम्मान देने का काम किया. जिन्होंने झारखंड राज्य के लिये कुर्बानी दी. कहा कि संथाल समाज के लोग सीधे-साधे व सरल होते है. किसी भी सरकार ने इस धर्मस्थल को राजकीय महोत्सव का दर्जा देने का काम नही किया था. हमने इस वर्ष राजकीय महोत्सव का दर्जा दिया. व्यवस्था को बेहतर बनाने के लिये राज्य सरकार से 50 लाख रुपये की व्यवस्था करायी गयी.

जल्‍द पर्यटन स्‍थल के रूप में विकसित होगा लुगूबुरु

राज्य का पर्यटन विभाग व जिला प्रशासन ने काफी मेहनत किया. आनेवाले समय में इससे भी बेहतर व्यवस्था हमारी सरकार धर्मस्थल पर देगी. यहां बड़ा म्यूजियम का निर्माण किया जा रहा है. जिससे लुगुबुरु के इतिहास से नई पीढ़ी अवगत हो सकेंगे. गेस्ट हाउस का निर्माण किया जा रहा है. स्ट्रीट लाईट लगायी, टेंट सिटी का निर्माण कराया है. लुगूबुरु को पर्यटन स्थल के रुप में विकसित करना हमारी प्राथमिकता है. राज्य की छवि इससे जुड़ी है.

किसी भी सभ्य समाज के लिये धर्मांतरण उचित नहींं

सीएम ने कहा कि संथाल समाज की संस्कृति को समाज से जुड़े लोग आनेवाली युवा पीढ़ी को अवगत कराने का काम करें. झारखंड के साथ-साथ आदिवासी संस्कृति को हमें संजोकर रखने की जरूरत है. कहा भारत कि संविधान की भावना का आदर करते हुए हमने धर्मांतरण बिल लागू किया. बड़े पैमाने पर आदिवासी समाज से जुड़े लोगों को लालच व भय दिखाकर धर्मांतर करने में लगे थे. महात्मा गांधी भी धर्मांतरण के घोर विरोधी थे. किसी भी सभ्य समाज के लिये धर्मांतरण उचित नहीं है. सीएम ने कहा कि आपकी संस्कृति को नष्ट करनेवाले को आपको पहचाने व सावधान रहने की जरुरत है. अपने धर्म, संस्कृति, परंपरा व भाषा को हमे हर हाल में मजबूत रखना है, जिसमें सरकार भी आपके साथ खड़ी है. सरकार ओलिचिकी भाषा को बढ़ावा देने के लिए भी गंभीर है. एक से पांचवी कक्षा तक इसकी पढ़ाई के लिये सरकार व्यवस्था कर रही है. हमे अपनी मातृभाषा से लगाव होना चाहिए.

अंग्रेजों की औलादों से रहें सावधान

दुर्भाग्य है कि कुछ अंग्रेज की औलाद जो आपको बरगलाने का काम कर रहे है, वैसे लोगों से सावधान रहे. कहा कि केंद्र व राज्य में भाजपा की सरकार जब-जब बनी हमने आदिवासी समाज के उत्थान की दिशा में काम किया. आठवीं अनुसूचि में शामिल किया. प्रधानमंत्री ने बिरसा मुंडा सहित राज्य के सभी वीर शहीदों को नमन करने का काम किया. हमारी सरकार सभी पूर्वजों (ईश्वरों) की प्रतिमा लगाने का काम कर रही है. कहा कि जब आज युग, समाज, दुनिया बदल रहा है तो आप भी पुराने ढरे पर चलना बंद करें, नये समाज के साथ चलते हुए अपने बच्चों के सपनों को पूरा करें व उन्हें शिक्षित बनाये.

आस्था व परंपरा को कायम रखने की जरूरत : शिबू

झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री शिबू सोरेन ने कहा कि जब पूरे झारखंड में महाजनी प्रथा के खिलाफ आंदोलन चला रहा था, तब कई दफा लुगूबुरु क्षेत्र में आया. संथालियों का यह महान आस्था का केंद्र है.  इस आस्था और परंपरा को आपको भुलाना नहीं है, इसे आगे भी कायम रखने की जरूरत है. मैं भी पिछले कई वर्षों से यहां आकर लुगू बाबा से राज्य के सुख-समृद्धी की कामना करता रहा हूं.

लुगूबुरु में प्रकृति व ब्रह्मांड का वसुंधरा बसता है : अमर बाउरी

झारखंड के पर्यटन व खेल संस्कृति मंत्री अमर बाउरी ने कहा कि लुगूबुरु से झारखंड ही नहीं, इसके अगल-बगल के राज्यों की बड़ी आबादी का जुड़ाव वर्षों से इस स्थल से रहा है. उमड़ा जनसमूह यह साबित करता है कि संथाली समाज ने अपनी आस्था व परंपरा को आज भी संजो कर रखा है. इस समाज से कई लोग प्रशासनिक अधिकारी, राजनेता, चिकित्सक व सेना में कार्यरत हैं, लेकिन अपनी धर्म व परंपरा व सांस्कृतिक अनुष्ठान को बरकरार है. कहा कि लुगूबुरु में प्रकृति व ब्रह्मांड का वसुंधरा बसता है. जिससे जुड़कर ये धार्मिक आस्था का केंद्र बना. पूर्वजों ने यहां कई अनुष्ठान किये. आज जब पूरे विश्व में पर्यावरण को लेकर एक खतरा मंडरा रहा है. ब्रह्मांड व वंसुधरा खतरे में है, ऐसी स्थिति में इस समाज ने प्रकृति को सजाने व संवारने का काम करते हुए जिओ व जिने दो के कहावत को चरितार्थ किया है. कहा कि जल-जंगल व जमीन के साथ इस समाज ने एक बेहतर समांजस्य बनाकर रखा है. जल-जंगल व जमीन हमारे जीवन की मान्यता है. जीवन को प्रेरित करती है.

मुख्यमंत्री आ रहे तो उनके झूठ-सच को लोग सुनेंगे…

डुमरी विधायक जगरनाथ महतो ने कहा कि संथालियों का यह आस्था का केंद्र पूरे राज्य ही नहीं अगल-बगल के राज्यों को एक साथ जोड़ने का काम करता है. आज यहां भाषण देने का दिन नहीं है. जब मुख्यमंत्री आ रहे तो उनके झूठ-सच को लोग सुनेंगे.

लुगूबुरु पर लगातार लोगों का आस्था व विश्वास बढ़ रहा है : योगेंद्र

गोमिया के पूर्व विधायक योगेंद्र महतो ने कहा लुगूबुरु पर लगातार लोगों का आस्था व विश्वास बढ़ रहा है. लोगों की मनोकामनाएं पूर्ण होती है. मैने विधायक रहते या नहीं रहते भी हर संभव समिति के साथ कदम से कदम मिलाकर चलने का काम किया है.

समारोह में ये भी थे उपस्थित

समारोह को गिरिडीह सांसद रवींद्र कुमार पांडेय, पूर्व मंत्री हेमलाल मुर्मू, समिति के बबली सोरेन, लोबिन मुर्मू ने भी संबोधित किया. इससे पूर्व कमेटी द्वारा सभी आगंतुक अतिथियों को शॉल ओढाकर व मोमेंटो देकर सम्मानित किया गया. समारोह में घाटशिला विधायक लक्ष्मण टुडू, बेरमो विधायक योगेश्वर महतो बाटूल, कोयलांचल डीआइजी प्रभात कुमार, डीसी मृत्युंजय वर्णवाल, पूर्व विधायक छत्रु राम महतो, जिलाध्यक्ष बिनोद महतो, जिप सदस्य सुषमा देवी, जिला बीससूत्री उपाध्यक्ष लक्ष्मण नायक, गुणानंद महतो, झामुमो जिलाध्यक्ष हीरालाल मांझी, मंटू यादव, संतोष रजवार सहित कई लोग उपस्थित थे.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: