Corona_UpdatesOpinion

#Corona : मरकज के लोगों ने तो गलत किया ही, कोरोना फैलाया, पर अमित शाह की दिल्ली पुलिस है सबसे बड़ी जिम्मेदार

Girish Malviya

ये ANI का ट्वीट है. तारीख है 17 मार्च 2020. लिखा है कि ‘एक नया मामला मंगलवार को सामने आया. एक इंडोनेशिया का नागरिक जो कि दिल्ली से तेलंगाना में आया था. उसमें कोरोना वायरस का संक्रमण पाया गया है.

तेलंगाना सरकार ने केंद्र सरकार को इस मामले की पूरी जानकारी 17 मार्च को ही दे दी थी. उसकी सारी ट्रैवल हिस्ट्री की जानकारी भी केंद्र सरकार के पास पहुंच गयी थी. लेकिन कोई कार्यवाही नहीं की गयी. उसके बाद तेलंगाना में 19 मार्च को कोरोना वायरस पॉजिटिव की संख्या अचानक बढ़ गयी.

Catalyst IAS
ram janam hospital

इसे भी पढ़ें – राज्य में बढ़ा #Corona संक्रमण तो मात्र 350 वेंटिलेटर ही बनेंगे सहारा, सरकार ने और 380 वेंटिलेटर का ही दिया है ऑर्डर

The Royal’s
Sanjeevani

एक साथ 7 मामले सामने आये. ये सातों इंडोनेशिया से आये व्यक्ति थे. जिस इंडोनेशिया व्यक्ति को पॉजिटिव 17  मार्च को घोषित किया गया था, उन्हीं के साथ इन सातों ने दिल्ली से रामगुंडम तक एपी संपर्क क्रांति एक्सप्रेस से सफर किया था.

#IslamicCoronaJehad : मरकज के लोगों ने तो गलत किया ही, कोरोना फैलाया, पर अमित शाह की दिल्ली पुलिस है सबसे बड़ी जिम्मेदार
17 मार्च 2020 को किया गये ANI के ट्वीट की फोटो

इसकी जानकारी भी तेलंगाना सरकार ने केंद्र को दी, लेकिन तब भी केंद्र सरकार सोती रही. गृह मंत्री अमित शाह की दिल्ली पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की. उल्लेखनीय है कि दिल्ली पुलिस केंद्र सरकार की गृह मंत्रालय के अधीन काम करती है.

अब हम अच्छी तरह से जान गये हैं कि दिल्ली में निजामुद्दीन मरकज में तबलीगी जमात के कार्यक्रम 13 से 15 मार्च के बीच हुए थे. केंद्र सरकार और गृह मंत्रालय व दिल्ली पुलिस इस बात को दो हफ्ते पहले से जानती थी. सवाल यह है कि उसी वक्त उन्हें रोकने की कार्यवाही क्यों नहीं की गयी ?

निजामुद्दीन का मरकज पुलिस थाने से 100 मीटर से भी कम दूरी पर है. तो मार्च के दूसरे हफ्ते में हुए इस बड़े जमावड़े को रोकने के लिए पुलिस ने क्यों नहीं कदम उठाए?

पुलिस को बहुत अच्छी तरह से मालूम था कि बड़ी संख्या में वहां विदेशी मुस्लिम का जमावड़ा होता है, तो उसने 2500 लोगों के प्रोग्राम को रोकने के लियए कदम क्यों नहीं उठाये ?

इसे भी पढ़ें –  #TabligiJamaat के लोग इलाज में नहीं कर रहे सहयोगः तुगलकाबाद रेलवे आइसोलेशन सेंटर में डॉक्टर पर थूका

इतना बड़ा जमावड़ा होने ही क्यों दिया. वह किसी सुदूर प्रदेश में तो कोई प्रोग्राम कर नहीं रहे थे,  सरकार की नाक के नीचे, पुलिस की नाक के नीचे प्रोग्राम कर रहे थे, तो उन्हें रोका क्यों नहीं ?

इस कोरोना की वजह से इस प्रोग्राम को निरस्त करने के आदेश दिल्ली पुलिस दे सकती थी. लेकिन उसने यह प्रोग्राम होने दिया. न सिर्फ होने दिया, बल्कि विदेशियों को देश के अलग-अलग हिस्सों में जाने से भी नहीं रोका.

जबकि केंद्र और दिल्ली सरकार के स्पष्ट आदेश थे कि कुछ दिन पहले आये विदेशियों को क्वारंटाइन में रखा जाये.

दरअसल, यह बात हमारा मेन स्ट्रीम मीडिया पूछता ही नहीं है. 23 से 28 मार्च के बीच क्या हुआ इसका किस्सा मेन स्ट्रीम मीडिया (टीवी चैनल, अखबार औऱ कुछ न्यूज पोर्टल ) खूब चटखारे ले लेकर बता रहा है.

आज मरकज के प्रमुख मौलाना साद गायब बताये जा रहे हैं. लेकिन राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने स्वंय 28 और 29 मार्च की मध्यरात्रि करीब 2 बजे मरकज का दौरा किया था. और डोभाल ने स्वंय मरकज प्रमुख मौलाना साद से वहां मौजूद सभी लोगों का टेस्ट कराने और क्वारंटाइन करने को कहा था.

तो मौलाना साद कैसे गायब हो गये? जबकि क्वारंटाइन किये लोगों का इलाका तो पूरा सील कर दिया जाता है ?

#IslamicCoronaJehad : मरकज के लोगों ने तो गलत किया ही, कोरोना फैलाया, पर अमित शाह की दिल्ली पुलिस है सबसे बड़ी जिम्मेदार
राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोभाल ने 28 और 29 मार्च को रात के 2 बजे मरकज के दौरे की फोटो . डोभाल ने मरकज प्रमुख मौलाना साद से वहां मौजूद सभी लोगों का टेस्ट कराने और क्वारंटाइन करने को कहा था.

कुल मिलाकर जो तथ्य सामने आये हैं, वह यही बताता है कि मरकज के लोगों ने तो ग़लत किया ही है. उसमें तो कोई शक की बात ही नहीं है. लेकिन यह भी साफ नजर आ रहा है कि इस पूरे मामले में बड़ी गलती केंद्र सरकार, गृह मंत्रालय व दिल्ली पुलिस की भी है. ऐसा लगता है यह सारा मामला भी एक ट्रैप की तरह से ही डिजाइन किया गया है. और अभी भी टीवी पर जो चल रहा है वह भी इसी ट्रैप का हिस्सा है.

इसे भी पढ़ें – इधर, शिक्षामंत्री कह रहे निजी स्कूल फीस न लें उधर, स्कूलों ने फीस बढ़ाने के साथ ऑनलाइन जमा करने को भी कहा

डिसक्लेमरः इस लेख में व्यक्त किये गये विचार लेखक के निजी विचार हैं. लेख में दी गयी किसी भी तरह की सूचना की सटीकता, संपूर्णता, व्यावहारिकता और सच्चाई के प्रति newswing.com उत्तरदायी नहीं है. लेख में उल्लेखित कोई भी सूचना, तथ्य और व्यक्त किये गये विचार newswing.com के नहीं हैं. और newswing.com उनके लिए किसी भी प्रकार से उत्तरदायी नहीं है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Related Articles

Back to top button