न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

सीता सोरेन के विधानसभा क्षेत्र में लोग अब भी जी रहे ढ़िबरी युग में , ग्रामीण करेंगे वोट बहिष्कार  

62

Dumka  :  झारखंड सरकार विकास की बातें करके भले ही अपनी पीठ खुद थपथपा रही हो. लेकिन अभी भी सूबे के कई जिलों में ऐसे इलाके हैं, जहां बिजली, सड़क, पेयजल जैसी समस्या से आये दिन ग्रामीणों को दो–चार होना पड़ रहा है. ऐसा ही जामा प्रखंड के भुटोकोड़िया पंचायत के खिजुरिया गांव के संताली टोला में देखने को मिल रहा है. इस इलाके के लोग कई सुविधाओं से वंचित हैं. जामा विधानसभा के विधायक ग्रामीणों की समस्या दूर करने में रूचि ले रहे हैं. संताली टोला में करीब 32 घर संताल परिवार का है.

बिजली का पोल और ट्रांसफरमर ले उड़े चोर

राजीव गांधी ग्रामीण विद्युतीकरण योजना  के तहत गांव में सात साल पहले ही बिजली का तार और ट्रांसफरमर भी लगाया गया था. लेकिन बिजली आयी नहीं तो ऐसे में चोरों ने कई जगहों से तार काट लिये और ट्रांसफरमर पर भी अपना हाथ साफ कर लिया. अब हालात ये हैं कि गांव के लोग पहले की तरह डिबरी युग में ही जीने को विवश हैं. वहीं इससे पहले जब बिजली का तार गांव में लगा तो  ग्रामीणों ने बिजली चालू करने के लिये कई बार विद्युत विभाग और जन प्रतिनिधियों को आवेदन दिया था. फिर भी आज तक गांव में बिजली चालू नहीं हुआ. जिससे ग्रामीणों में खासी नाराजगी है.

गांव में पक्की सड़क भी नहीं 

गांव के ग्रामीण चम्पा मुर्मू  का कहना है कि इस टोला में पक्की सड़क का निर्माण भी आधा- अधूरा है, जिससे बारिश के दिनों में गांव में पैदल चलने में भी मुश्किल हो जाता है. जबकि गांव में कई लोगों का नाम राशन कार्ड में नहीं  होने की वजह से उन्हें पीडीएस सुविधा से वंचित होना पड़ रहा है. चम्पा मुर्मू आगे कहती हैं कि ग्रामीणों को सरकारी राशन भी समय पर नहीं दिया जाता है, जिससे  काफी दिक्कतों का सामना उन्हें करना पड़ता है. वहीं जन प्रतिनिधियों द्वारा आश्वासन मिलने के बाद भी गांव में संतालो के पूज्य स्थल मंझी थान का पक्कीकरण और जाहेर थान का घेराव अब तक नहीं करवाया गया है.

गांव की समस्या को लेकर मुख्यमंत्री जन संवाद केंद्र में भी दर्ज  करायेग

गांव की समस्याओं पर ना तो सरकार का और ना ही जनप्रतिनिधियों का ध्यान जा रहा है. जिसपर ग्रामीणों ने समस्या लेकर  मुख्यमंत्री जन संवाद केंद्र जाने का फैसला लिया है. यदि फिर भी समस्या का निदान नहीं हुआ तो आने वाले चुनाव में ग्रामीण वोट का बहिष्कार करेंगे. इस मौके पर मंत्री टुडू, लुबिन टुडू, सुनामुनि हेम्ब्रम,चम्पा मुर्मू, निशा बास्की,सूरजमुनि मुर्मू,शर्मीला मुर्मू,सुनामुनी मरांडी,होपनी हांसदा,श्रीजल टुडू, रसका टुडू, धुमा टुडू, कमाली बास्की, मुन्नी हेम्ब्रोम, बसन्ती टुडू, श्रीमति मरांडी, सकोदी टुडू, शिवधन टुडू, बाबुजन हेम्ब्रोम, सोम हेम्ब्रोम, बाबुचरण टुडू, सलोनो मुर्मू, पानसोरी सोरेन,चडरा टुडू, मंगल टुडू, मकु सोरेन, सोनालाल टुडू, बाबुराम टुडू, सुनील टुडू, नेबोलाल टुडू, प्रमिला हेम्ब्रोम, मर्शिला टुडू, मिरू सोरेन के साथ काफी संख्या में ग्रामीण उपस्थिति थे.

क्या कहती हैं विधायक सीता सोरेन

गांव की सभी समस्याओं को लेकर क्षेत्र की विधायक सीता सोरेन का कहना है कि बिजली एवं अन्य समस्याओं को जानने के लिए जनवरी महीने में वे खुद जायेंगीं. साथ ही कहा कि ग्रामीणों से मिलकर सारी समस्याओं को जानेगीं और उसके समाधान करने का प्रयास भी करेंगी.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: