न्यूज़ विंग
कल का इंतज़ार क्यों, आज की खबर अभी पढ़ें

इप्सोवा मेला में लोग कर रहे हैं दिवाली स्‍पेशल खरीदारी

40

Ranchi: आईपीएस ऑफिर्सस वाइव्स एसोसिएशन की ओर से जैप वन परिसर में दिवाली मेला का आयोजन किया गया है. जहां सुबह से ही महिलाओं को खरीदारी करते देखा गया. मेला में कुल 108 स्टॉल लगाये गये है. यहां न सिर्फ राज्य के हुनर को प्रोत्साहन मिल रहा है, बल्कि दूसरे राज्यों के स्टॉल भी यहां लगाये गये हैं. जिसमें उत्तर प्रदेश, राजस्थान, दिल्ली, कश्‍मीर आदि राज्यों के स्टॉल लगाये गये हैं. चार दिवसीय मेला में प्रति पुलिस परिवार और दिव्यांगों को नि:शुल्क प्रवेश की व्यवस्था की गयी है. इसके साथ ही यहां नेपाली फूड स्टॉल लगाये गये हैं, जहां लोगों को नेपाली व्यंजनों का स्वाद चखते देखा गया. विभिन्न एनजीओ के स्टॉल लगाये गये हैं, जहां दीये, मूर्ति, सजावटी वस्तुएं समेत अन्य चीजें मिल रही हैं. मेला चार नवंबर तक लगाया जायेगा.

इसे भी पढ़ें: मिट्टी के दीयों से सजा बाजार, जगह-जगह लगा है दिवाली बाजार

डिजाइनर कपड़ों की मांग

मेला में अधिकांश स्टॉल डिजाइनर कपड़ों के लगाये गये हैं. आरआर कलेक्‍शन की सिम्मी धानुका ने बताया कि उनके स्टॉल में लेडिज वियर की बड़ी कलेक्‍श्‍ान उपलब्ध है. जिसमें पार्टी वियर कुर्ती, सरारा सेट गाउन, गाउन, क्रॉप टॉप, राजस्थानी कोटी समेत अन्य कपड़े मिल रहे हैं.

इसे भी पढ़ें- रामकृपाल कंस्ट्रक्शन प्राइवेट लिमिटेड ने विधानसभा भवन में कई काम किये सबलेट

होम डेकोर के बेहतर कलेक्‍शन

दिवाली को ध्यान में रखते हुए यहां होम डेकोर के बेहतर कलेक्‍शन मिल रहे हैं. जिनमें पीजेके डेकोर स्टॉल में हैंड प्रिंटेड होम डेकोरेशन के समान मिल रहे हैं. हाथ की खूबसूरत कलाकारी इनके स्टॉल में देखी जा सकती है. जहां कुशन, वॉल हैंगगी आदि में हाथ से बने प्रिंटेड गणेश, बुद्ध, फ्लोरल डिजाइन आदि देखा जा सकता है. वहीं एक अन्य स्टॉल वीप्ड बाइ रेनबो में कुशन कवर, कारपेट, पिग्गी बैग आदि मिल रहे हैं. इस स्टॉल में जियोमैट्री डिजाइन के कारपेट मिल रहे हैं. जो देखने में काफी आकर्षक है.

इसे भी पढ़ें- इस औरत ने जो किया या कर सकती है, वह कोई मर्द भी नहीं कर सका : प्रो. रीता वर्मा

हैंड मेड साबुन और ज्वेलरी

अविका नामक स्टॉल युवाओं की ओर से लगाया गया है. जहां हैंड मेड सूट पीस, मास्क, शॉल, ज्वेलरी मिल रहे हैं. इनके बनाये कपड़ों की खासियत है कि अपने डिजाइन किये गये कपड़ों से ये झारखंडी परंपरा को प्रोत्साहित कर रहे हैं. जिसमें आदिवासी छवि साफ दिखायी देती है.

हमें सपोर्ट करें, ताकि हम करते रहें स्वतंत्र और जनपक्षधर पत्रकारिता...

Comments are closed.

%d bloggers like this: