JharkhandLead NewsRanchi

रांची जिले के छह अंचलों में म्यूटेशन का कार्य धीमा, सीओ पर गिर सकती है गाज

Ranchi : रांची जिले के कई अंचलों में म्यूटेशन के निष्पादन की प्रक्रिया काफी धीमी है. जिससे लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. अपना कार्य कराने के लिए लोगों को अंचल कार्यालय के चक्कर लगाने पड़ रहे हैं. राज्य में सेवा गारंटी अधिनियम भी लागू है लेकिन, इसका पालन नहीं हो रहा है. जिसे डीसी ने गंभीरता से लिया है. वैसे अंचल जहां तय समय पर काम नहीं हो रहा है वैसे सीओ पर गाज गिरेगा. इनलोगों को शो-कॉज जारी की जायेगी. इसके पहले भी दिसंबर 2020 में डीसी ने 16 अंचलों के सीओ को शो-कॉज जारी करते हुए जुर्माना लगाया था. जानकारी के अनुसार 17 दिसंबर तक जिलों में तय समय पर म्यूटेशन का कार्य पूरा होने के बाद भी पेंडेंसी दिख रही है. उनके खिलाफ कार्रवाई होगी. सिल्ली,शहर, बेड़ो, हेहल, नगड़ी और बड़गांई अंचल में म्यूटेशन का कार्य धीमी है. आंकड़ों के अनुसार राजधानी के 22 अंचलों में 15284 म्यूटेशन के आवेदन आए हैं. जिसमें 55 मामले ऐसे हैं जिसमें कोई ऑब्जेक्शन नहीं है. वहीं, 590 मामले ऐसे हैं जिनमें ऑब्जेक्शन आने के कारण 90 दिनों के अंदर निपटारा करना था, लेकिन तय समय के बाद भी इन मामलों का निपटारा नहीं हो पाया.

इसे भी पढ़ें : अगर आपके पास योग में डिग्री, डिप्लोमा या सर्टिफिकेट है, तो राज्य के वेलनेस सेंटर में मिलेगी नौकरी

सेवा गारंटी अधिनियम 2011 में क्या है प्रावधान

सेवा गारंटी अधिनियम 2011 की धारा-7 (एक) के तहत समय पर मामला का निष्पादन किया जाना है. म्युटेशन के आवेदन में बिना ऑब्जेक्शन वाले मामले में 30 दिन और और ऑब्जेक्शन वाले मामले में 90 दिनों का निपटारा करने का नियम है.  इसका पालन नहीं करने की स्थिति में प्रतिदिन प्रति मामले 250 रु के तहत विलंब शुल्क लेने का प्रावधान है.

अंचल के नाम मामले 30 दिनों वाले मामले 90 दिनों वाले मामले
अनगड़ा 427 2 1
अरगोड़ा 815 6 18
इटकी 95 0 0
ओरमांझी 753 0 8
कांके 3496 6 536
खलारी 66 0 0
चान्हो 331 3 0
तमाड़ 134 0 1
नगड़ी 1451 6 2
नामकुम 2772 13 0
बड़गाईं 1080 2 9
बेड़ो 203 0 2
बुढ़मू 318 0 0
मांडर 323 1 0
रातू 1496 1 0
राहे 96 1 2
लापुंग 20 0 0
शहर 618 10 6
सिल्ली 79 1 3
सोनाहातू 10 0 0
हेहल 627 2 2

इसे भी पढ़ें : रिम्स का पेइंग वार्ड हो रहा अपग्रेड, लगेगा सेपरेट ऑक्सीजन जनरेशन प्लांट

 

Related Articles

Back to top button