JamshedpurJharkhand

हरिओम की मौत के लिए पवन दोषी करार, समाज से तीन साल के लिए निष्कासित

अग्रहरि समाज की जांच कमिटी ने राष्ट्रीय अध्यक्ष-महामंत्री को सौंपी रिपोर्ट, मोबाइल के जरिए लिया गया था मंतव्य

Jamshedpur : अग्रहरि समाज के युवा सदस्य हरिओम अग्रहरि की मौत के मामले में समाज की तीन सदस्यीय जांच कमिटी ने विभिन्न तथ्यों के आधार पर जांच कर रिपोर्ट राष्ट्रीय अध्यक्ष सुभाष चंद्र अग्रहरि व राष्ट्रीय महामंत्री अशोक कुमार अग्रहरि को भेज दी है. इसमे पवन अग्रहरि को दोषी बताते हुए कहा गया है कि हरिओम अस्वस्थ होने के बावजूद पवन ने उन्हें अकेला छोड़कर दर्शन करने चले गए और थोड़ी ही देर बाद हरिओम की मौत हो गई. उसके बाद भी शव थाना आने तक वे नही आये थे और ना ही हरिओम अग्रहरि के परिजनों से कोई संपर्क ही साधा था. इस रिपोर्ट को आधार मानते हुए राष्ट्रीय पदाधिकारियों ने पवन को तीन साल के लिए समाज से निलंबित करने की घोषणा की.

पवन ने नहीं किया अपने सामाजिक दायित्व का निर्वहन

चूंकि यह टीम पूर्ण रूप से सामाजिक स्तर की थी, इसलिए जांच में मूल रूप से यह तहकीकात की गई कि पवन अग्रहरि ने अपना सामाजिक दायित्व व कर्तव्यों का निर्वाहन किया या नही. मालूम हो कि गत 11 जुलाई को हरिओम अग्रहरि और  पवन अग्रहरि सहित कई लोगों की टीम हिमाचल प्रदेश के श्रीखंड महादेव के दर्शन करने गए थे. वहां 18 जुलाई को हरिओम का निधन हो गया. इसके बाद उनके स्वर्गीय हरिओम के परिजनों ने पवन को दोषी बताते हुए समाज से कार्रवाई की मांग की थी. उसके बाद 25 जुलाई को राष्ट्रीय अध्यक्ष व राष्ट्रीय महामंत्री ने तीन सदस्यीय जांच कमिटी के गठन करते हुए पवन अग्रहरि को तत्काल प्रभाव से निलंबित कर दिया था. यही नही, समाज की जमशेदपुर कमिटी ने भी पवन का आजीवन सामाजिक बहिष्कार कर दिया था.

Sanjeevani

जांच कमिटी पर लगाए थे कई आरोप  

इस बीच पवन ने 7 अगस्त को खुद को साजिश का शिकार बताते हुए जांच कमिटी पर आरोप लगाते हुए अपने पद (युवा राष्ट्रीय अध्यक्ष) से इस्तीफा दे दिया था. जांच टीम ने रिपोर्ट में इस बात का स्पष्ट उल्लेख किया है कि इस बावत मोबाइल के माध्यम से पवन का मंतव्य लिया गया है और उनकी सहमति से मोबाइल में रिकॉर्ड भी किया गया है. इसका पुख्ता सबूत टीम के पास है. इसके अलावा मामले में कई अन्य लोगों से भी मोबाइल से ही पूछताछ की गई है.

इसे भी पढ़ें-JAMSHEDPUR : बेटी ने 37 साल के प्रेमी के साथ मिलकर की थी माता-पिता की हत्या, जाने क्यों दिया घटना को अंजाम

Related Articles

Back to top button